उत्तराखंड़ विधानसभा सत्र का पहला दिन : सरकार ने पेश किया 5440.43 करोड़ का अनुपूरक बजट

देहरादून, उत्तराखंड विधानसभा का शीतकालीन सत्र आज मंगलवार से शुरू हो गया है। विधानसभा सदन में 5440.43 करोड़ का अनुपूरक बजट पेश हुआ। सत्र के पहले दिन प्रदेश में सरकारी नौकरियों में महिलाओं को 30 फीसदी क्षैतिज आरक्षण को लेकर उत्तराखंड लोक सेेवा (महिलाओं के क्षैतिज आरक्षण) विधेयक 2022 सदन में पेश किया गया। विधानसभा सदन में 5440.43 करोड़ का अनुपूरक बजट सीएम धामी और वित्त मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल ने पेश किया।
कांग्रेस विधायक प्रीतम सिंह ने सदन में विशेषाधिकार हनन का मुद्दा उठाया। उन्होंने कहा कि विधायकों के विशेषाधिकार हनन को लेकर सरकार गंभीर नहीं है।
विधानसभा अध्यक्ष ऋतु खंडूडी भूषण ने सभी दलों के विधायकों से सदन में गरिमा बनाने के लिए शब्दों और आचरण का ध्यान रखने की अपील की। साथ ही शांतिपूर्ण माहौल में जनहित के मुद्दों पर स्वस्थ चर्चा कर सरकार तक अपनी बात पहुंचाने का आग्रह किया।

 

बर्खास्त कर्मचारियों का मामला : विस अध्यक्ष ऋतु खंडूड़ी ने कहा- हाईकोर्ट में दिए गए काउंटर में मुख्यमंत्री का नाम कहां से आया, यह उनकी जानकारी में नहीं

देहरादून, विधानसभा अध्यक्ष ऋतु खंडूड़ी ने कहा कि विस के बर्खास्त कर्मचारियों के मामले में नैनीताल हाईकोर्ट में दिए गए काउंटर में मुख्यमंत्री का नाम कहां से आया, यह उनकी जानकारी में नहीं है। उन्होंने कहा कि विधानसभा की ओर से किसी भी बैकडोर भर्ती में किसी भी सीएम का नाम नहीं लिया गया है।
वायरल हो रहा पत्र विधानसभा अध्यक्ष ऋतु खंडूड़ी ने वर्ष 2016 के बाद बैकडोर से तैनात 250 कर्मियों को बर्खास्त कर दिया था। हाईकोर्ट से कर्मियों को स्टे मिलने के बाद स्पीकर ने डबल बेंच में अपील की थी। इसी दौरान का एक पत्र वायरल हो रहा है जिसमें विधानसभा की नियुक्तियों में मुख्यमंत्री और तत्कालीन विधानसभा अध्यक्ष के एप्रूवल का जिक्र है।

विधानसभा में सोमवार को पत्रकार वार्ता में खंडूड़ी ने कहा कि विस के बर्खास्त कर्मियों का मामला कोर्ट में विचाराधीन है इसलिए वह इस मामले में ज्यादा टिप्पणी नहीं करेंगी। बकौल खंडूड़ी-जिस पत्र को कोर्ट में दिए गए काउंटर के रूप में वायरल किया जा रहा है, वह कहां से है, मुझे इसकी कोई जानकारी नहीं। विधानसभा सचिवालय से यह पत्र वायरल नहीं किया गया है।