Monday, June 24, 2024
HomeTrending Nowदून विश्वविद्यालय के 241 मेधावी छात्रों को मिली 42 लाख की मुख्यमंत्री...

दून विश्वविद्यालय के 241 मेधावी छात्रों को मिली 42 लाख की मुख्यमंत्री उच्च शिक्षा प्रोत्साहन छात्रवृत्ति

मेधावी छात्रों को मुख्यमंत्री उच्च शिक्षा प्रोत्साहन छात्रवृत्ति से संस्थानों में उत्कृष्ट शिक्षण वातावरण बनेगा : प्रो. सुरेखा डंगवाल

मुख्यमंत्री उच्च शिक्षा प्रोत्साहन छात्रवृत्ति योजना मेधावी विद्यार्थी अध्ययन के लिए होंगे प्रेरित : प्रो. सुरेखा डंगवाल

 

देहरादून, मुख्यमंत्री उच्च शिक्षा प्रोत्साहन छात्रवृत्ति योजना को धरातल पर उतरते हुए उच्च शिक्षा विभाग, उत्तराखंड के द्वारा दून विश्वविद्यालय के 241 मेधावी छात्रों को उच्च अध्ययन के दौरान 42 लाख की छात्रवृत्ति प्रदान करना प्रारंभ कर दिया गया है, उच्चतर माध्यमिक/कक्षा 12वीं बोर्ड परीक्षा के नतीजों के आधार पर दी जाती है।
यह राशि राज्य के विश्वविद्यालय परिसरों और सरकारी कॉलेजों में स्नातक प्रथम वर्ष में प्रवेश करने वाले छात्रों को प्रदान की गई थी।
दून विश्वविद्यालय की कुलपति प्रोफेसर सुरेखा डंगवाल ने हर्ष के साथ बताया यह स्कॉलरशिप उन मेधावी विद्यार्थियों को को दी जा रही है जो स्नातक और परास्नातक में अध्ययन कर रहे हैं इसके लिए स्नातक प्रथम वर्ष के विद्यार्थियों की संकायवार मेरिट सूची बनाई गई है जिसमें 12वीं कक्षा में न्यूनतम 80% अंक प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों को क्रमश: प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय स्थान पर 3000, 2000 और 1500 रुपए की मासिक छात्रवृत्ति प्रदान की जाएगी।
प्रोफेसर डंगवाल ने बताया कि इस योजना को शुरू करने का मुख्य उद्देश्य सामान्य परिवारों के छात्रों की प्रतिभा को आगे लाना है। उन्हें उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए प्रोत्साहित करना है। उच्च शिक्षा में इतने बड़े स्तर पर छात्रवृत्ति शुरू करना उत्तराखंड सरकार का एक क्रांतिकारी कदम है जो मेधावी छात्रों को शिक्षा और शोध के क्षेत्र में बेहतर करने के लिए प्रेरित करता रहेगा। मुख्यमंत्री उच्च शिक्षा प्रोत्साहन छात्रवृत्ति योजना की घोषणा 31 मई 2023 को मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने की थी।
यह छात्रवृत्ति के लिए केवल स्नातक और स्नातकोत्तर छात्र ही छात्रवृत्ति के लिये पात्र हैं। यह योजना उत्तराखंड के स्नातक और स्नातकोत्तर विद्यार्थियों को आर्थिक रूप से सहायता प्रदान करने का उद्देश्य रखती है ताकि वे अपनी पढ़ाई को बिना किसी बाधा के जारी रख सकें। यह योजना उन छात्रों के लिए विशेष रूप से लाभकारी है जो अल्प आय वर्ग से हैं और उच्च शिक्षा की ओर बढ़ना चाहते हैं।
इस कार्यक्रम के दौरान दोनों विश्वविद्यालय के रजिस्टर डॉ एस मंद्रवाल, वित्त नियंत्रक सुनील कुमार रतूड़ी, डीन स्टूडेंट वेलफेयर प्रोफेसर एच सी पुरोहित, डॉ महीप सिंह, डॉ राजेश भट्ट, नरेंद्र लाल, दिवेंदु रावत, रोहित जोशी, संदीप रावत और प्रमोद तिवारी आदि उपस्थित रहे।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments