ब्रैकिंग : एम्स में एमबीबीएस के छात्र ने छठवीं मंजिल से कूद कर दी जान

ॠषिकेश, एम्स में राजस्थान के एमबीबीएस के छात्र ने मेडिकल कॉलेज की छठवीं मंजिल से कूदा, आनन फानन में छात्र को ट्रामा सेंटर में उपचार के लिए ले जाया गया, लेकिन यहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। कोतवाली पुलिस के मुताबिक शनिवार को राजस्थान स्थित गंगानगर निवासी एमबीबीएस रजत मुंद (19) एम्स की मेडिकल कालेज की छठवीं मंजिल से कूद गया। छात्र के खून से लथपथ शरीर को देख आस-पास मौजूद स्टाफ, चिकित्सक, मरीजों और तीमारदारों में हड़कंप मच गया।
छात्र को उपचार के लिए ट्रामा सेंटर में ले जाया गया, लेकिन ट्रॉमा सेंटर में पहुंचने से पहले ही छात्र दम तोड़ चुका था।

छात्र का शनिवार को प्रैक्टिकल होना था। मगर वह प्रैक्टिकल में नहीं पहुंचा चौकी प्रभारी एम्स शिवराम ने बताया कि युवक के स्वजन को इस संबंध में सूचना दे दी गई है। पूछताछ में अब तक यह बात सामने आई कि युवक कुछ समय से मानसिक तनाव में था। उसका उपचार भी चल रहा था। फिलहाल पुलिस ने शव को मोर्चरी में रखवा दिया है।
पुलिस ने सीसीटीवी कैमरों की फुटेज से घटना की जानकारी जुटाई रही है। वहीं साथी छात्रों से भी पुलिस पूछताछ कर रही है। मृतक एमबीबीएस के द्वितीय वर्ष का छात्र था।

 

उत्तराखंड अल्पसंख्यक आयोग के उपाध्यक्ष ने काठगोदाम सर्किट हाउस में विभागों की समीक्षा बैठक ,अनुपस्थित अधिकारी देहरादून में देंगे स्पष्टीकरण

“उत्तराखंड अल्पसंख्यक आयोग के उपाध्यक्ष मजहर नईम नवाब और सरदार इकबाल सिंह ने हल्द्वानी काठगोदाम सर्किट हाउस में की विभागों की समीक्षा बैठक।May be an image of 4 people, people sitting and people standing

(चन्दन सिंह बिष्ट)

हल्द्वानी, उत्तराखंड अल्पसंख्यक आयोग के उपाध्यक्ष मजहर नईम नवाब और सरदार इकबाल सिंह ने हल्द्वानी काठगोदाम सर्किट हाउस मैं अधिकारियों के साथ विभागों की समीक्षा बैठक की। उन्होंने सभी विभागों के अधिकारियों से जानकारी ली तो कुछ कर्मचारी के पास सटीक उत्तर नहीं मिला.वहीं कई अधिकारी नदारद रहे. उन्होंने बैठक में अनुपस्थित अधिकारियों को को देहरादून अल्पसंख्यक कल्याण आयोग कार्यालय में उपस्थित होकर स्पष्टीकरण देने के निर्देश दिए हैं। वहीं सरदार इकबाल सिंह ने भी अल्पसंख्यक कल्याण की योजनाओं के बारे में जाना। उन्होंने सभी योजनाओं में समय से शत-प्रतिशत लक्ष्य हासिल करने के निर्देश दिए। उन्होंने संचालित योजनाओं का लाभ पात्रों तक पहुंचने के लिए सभी ब्लॉक में जाकर स्कूलों का भ्रमण करने व योजनाओं की जानकारी देने के निर्देश जिला अल्प संख्यक कल्याण अधिकारी को दिये। छात्रवृत्ति योजनाओं की जानकारी के लिए विद्यालयों में समाज कल्याण, अल्पसंख्यक कल्याण से संबंधित योजनाओं पर आधारित वॉल पेंटिंग्स कराने एवं तीन माह के भीतर खराब स्कूलों की मरम्मत कराने एवं सर्व शिक्षा अभियान में जिले से अधिक से अधिक प्रस्ताव भेजने की बता कही। उन्होंने पीएम जन विकास योजना, सीएम हुनर योजना, मौलाना आजाद के नाम से संचालित योजनाओं, आंगनबाड़ी, पशुपालन, प्रधानमंत्री आवास योजना की समीक्षा बैठक की ।May be an image of 10 people, people sitting and people standing

 

टिहरीवासियों की मांग, भाजपा सूर्यप्रकाश सेमवाल को भेजे राज्यसभा

देहरादून/ टिहरी, अगले माह देश की राज्य सभा की 57 सीटों के लिये चुनाव होने हैं, उत्तराखण्ड़ में राज्यसभा की एक सीट के लिए चुनाव होना है। जिसको लेकर सत्तारूढ़ भाजपा में माथापच्ची का दौर जारी है, कई संभावित उम्मीदवार के नाम सामने आए हैं, अंतिम फैसला हाईकमान को ही करना है।

जून में राज्यसभा की 57 सीटों के लिए होने वाले चुनाव में बीजेपी अपनी जीत वाली सीटों में लगभग आधी सीटों पर नए चेहरों पर मुहर लगा सकती है . इन 57 सीटों में बीजेपी के 25 सांसद रिटायर हो रहे हैं, जबकि बीजेपी लगभग 22 सीटें जीत सकती है. पार्टी का केंद्रीय नेतृत्व विभिन्न राज्यों के साथ उम्मीदवारों को लेकर मशविरा कर चुका है. नामांकन की आखिरी तिथि 31 मई है।

इस सब के बीच राज्यसभा की इस सीट के लिए कई दावेदारों के नाम सामने आ रहे है। जिनमें उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत,चंपावत से मुख्यमंत्री के लिए सीट छोड़ने वाले कैलाश गहतोड़ी, पूर्व दायित्वधारी ज्योति गैरोला,केंद्रीय एससीएसटी आयोग की सदस्य रह चुकी स्वराज विद्वान के नाम शामिल है।

इन सब नामों के बीच उत्तराखंड के तमाम सामाजिक एवं सांस्कृति संगठन सामाजिक,सांस्कृतिक एवं पत्रकारिता के पटल में पहाड़ का प्रतिनिधित्व कर रहे सूर्य प्रकाश सेमवाल को राज्यसभा भेजने का समर्थन कर रहे है। इन संगठनों की मांग हैं कि टिहरी के विकास के लिए प्रतिबद्ध और उसके अधिकार के लिए दशकों से आवाज उठाने वाले भिलंगना घाटी के रहने वाले सूर्य प्रकाश सेमवाल को बीजेपी को राज्यसभा भेजना चाहिए। क्योंकि पहाड़ के इस नौजवान ने देशभर में सामाजिक,सांस्कृतिक एवं पत्रकारिता के पटल पर जो भूमिका निभाई है। वह निश्चित तौर पर उत्तराखंड खासतौर पर टिहरी के प्रतिनिधित्व को नयी सोच के साथ विस्थापित कर सकता है।

उत्तराखंड के टिहरी जिले की घनसाली विधानसभा और भिलंगना घाटी में घुत्तू पंवाली मार्ग पर स्थित ऋषिधार गांव में 24 जून 1972 को जन्में सूर्य प्रकाश सेमवाल के पिता नत्थीलाल सेमवाल शास्त्री एक कथाव्यास,भाषा-शिक्षक और ग्राम प्रधान थे। बाद में पिता भारतीय सेना में धर्म शिक्षक हो गए। मां श्रीमती मायादेवी सामान्य गृहणी थीं। श्री सेमवाल ने 1986 में इंद्रमणि बडोनी की अध्यक्षता वाले प्रबंधन विद्यालय श्री नवजीवन आश्रम घुत्तू भिलंग से 10वीं पास की। जिसके बाद आगे की शिक्षा के लिए वह दिल्ली आ गए और यहां से उन्होंने सरकारी विद्यालय में 12वीं और फिर स्नातक,एम.ए,एम.फिल और पीएच.डी. की,इस दौरान तमाम सामाजिक संगठनों और संस्थाओं के माध्यम से सूर्य प्रकाश सेमवाल निरंतर पहाड़ की लोक संस्कृति और लोक परिवेश को उकेरते रहे। उनकी उपलब्धियों की बात करें तो,उसमें कई महत्वपूर्ण अध्याय जुड़े है।मेजर जनरल (सेवानिवृत्त) भुवन चंद्र खंडूरी के नेतृत्व में उत्तरांचल संघर्ष समिति के बैनर तले पृथक राज्य आन्दोलन में सक्रिय भागीदारी निभाईMay be an image of 4 people, people standing and indoor

 

सामाजिक रूप से विश्व में बच्चों के सबसे पुरानी संस्था बाल्कन जी बारी इंटेरनेश्नल में कार्यरत रहे।

दिल्ली में छात्र जीवन से उत्तरांचल संघर्ष समिति के माध्यम से उत्तराखंड आंदोलन में भागीदारी की और दिल्ली भाकपा उत्तरांचल प्रकोष्ठ के संगठन मंत्री का दायित्व निभाया

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ द्वारका जिला में संपर्क प्रमुख,बौद्धिक प्रमुख और प्रचार प्रमुख के दायित्व के बाद वर्तमान में समरसता प्रकल्प में संयोजक है

1996 से 98 तक पांचजन्य में वरिष्ठ उपसंपादक और फिर 2014 से 2016 तक सहायक संपादक के पद पर रहे

विश्व हिंदू परिषद के संस्कृत विभाग में राष्ट्रीय संगठन मंत्री का दायित्व निभाया

भाजपा हिमालय परिवार में राष्ट्रीय प्रभारी और दिल्ली भाकपा शिक्षा प्रकोष्ठ में मीडिया प्रमुख भी रहे

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से जुड़े रहने के बाद भारत विकास परिषद से जुडाव और सम्प्रति पंचनद शोध संस्थान में पश्चिम दिल्ली प्रभारी का दायित्व निभाया

डॉ.मुरली मनोहर जोशी अमृतोत्सव अभिनंदन समिति के महासचिव रहे

भाजपा मुख्यालय में पार्टी के थिंक टैंक डॉ.श्यामा प्रसाद मुखर्जी फाउंडेशन में सहायक निदेशक रहे

संघ के राष्ट्रीय प्रचार विभाग में 2019 से 2021 तक वरिष्ठ शोध संपादक के रूप में कार्य किया

केंद्रीय वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय में सलाहकार का दायित्व

सूर्य प्रकाश सेमवाल ने अपनी जन्मभूमि टिहरी में बांध के ऊपर से सार्वजनिक मार्ग। उत्तराखंड मूल के युवाओं के लिए आयु बढ़ाने का अभियान,खतलिंग महायात्रा को मान्यता दिलाने के प्रयास किए

दिल्ली में उत्तरायणी पर्व को पहाड़ का सर्वस्वीकर्य पर्व बनवाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

इसी के साथ विभिन्न चुनावों में भाजपा के मंडल,जिला,प्रांत से लेकर मुख्यालय तक कार्यक्रम संचालन और विभिन्न राज्यों में निगम,विधानसभा से लेकर लोकसभा चुनावों में पूर्ण सहभागिता की

पूर्व केन्द्रीय मंत्री और भाजपा कार्यालय और मीडिया प्रभारी प्रो.रामकृपाल सिन्हा के अधीन संबित पात्रा,श्रीकांत शर्मा और सिद्धार्थनाथ सिंह जैसे युवा भाजपा कार्यकर्ताओं के साथ मीडिया कंटेन्ट का निर्माण किया।

उत्तराखंड बनने के बाद 2002 के पहले विधानसभा चुनाव में और 2007 में घनसाली से भारतीय जनता पार्टी के प्रबल दावेदार रहे।

सूर्य प्रकाश सेमवाल निस्वार्थ भाव से टिहरी की आवाज को बुलंद कर रहे है। भारतीय गांवों और हिमालयी राज्यों की संस्था पर्वतीय लोक विकास समिति के माध्यम से उत्तराखंड मूल के अभ्यर्थियों के लिए आयु सीमा 42 वर्ष करवाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

सूर्य प्रकाश सेमवाल दिल्ली सहित पूरे देश में पहाड़ के प्रवासी समाज में लोकप्रिय है। यही वजह भी हैं राज्यसभा सीट पर श्री सेमवाल के नाम को लेकर भारतीय जनता पार्टी के शीर्ष नेतृत्व और संगठन उनके साथ खड़ा दिख रहा है। इसी के साथ उत्तराखंड के तमाम सामाजिक संगठन भी सूर्य प्रकाश सेमवाल को राज्यसभा भेजने के लिए निरंतर बीजेपी और संगठन से निवेदन कर रहे है।

इस लिए कह सकते हैं कि उत्तराखंड के सामाजिक एवं सांस्कृतिक परिवेश के लिए हमेशा समर्पित रहने वाले सूर्य प्रकाश सेमवाल का नाम यदि भारतीय जनता पार्टी राज्यसभा के लिए आगे बढ़ाती है तो,निश्चित तौर पर श्री सेमवाल अपने अनुभव और कार्यशैली के बल पर पहाड़ के युवाओं और पहाड़ के जनमानस के लिए नई ज़मीन तैयार करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते है।

 

जयदत्त शर्मा फाउंडेशन निगम क्षेत्र में निःशुल्क रक्त जांच शिविर करेगा आयोजित, 29 मई से एक माह तक चलेगा

ऋषिकेश, सामाजिक सरोकार से जुड़े और जनकल्याणकारी कार्यक्रम चला रहे जयदत्त शर्मा फाउंडेशन ने अब वृहद स्तर पर निगम क्षेत्र में निःशुल्क रक्त जांच शिविर का आयोजन करने का निर्णय लिया है। 29 मई को प्रथम चरण में वाल्मीकि नगर से शुरू होने वाले अभियान में दस हजार लोगों की रक्त जांच का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।

शनिवार की दोपहर तिलक रोड़ स्थित साई मोटर्स के शौरूम में पत्रकारों से मुखातिब हुए जयदत्त शर्मा फाउंडेशन के डायरेक्टर व कार्यक्रम के मुख्य संयोजक प्रतीक कालिया ने बताया कि लोगों को स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करने के उद्देश्य से मासिक कैंप का आयोजन किया जा रहा हो जोकि चरणबद्ध श्रंखला में 30 जून तक नगर निगम क्षेत्र की विभिन्न मलिन बस्तियों सहित विभिन्न वार्डो में क्षेत्रीय पार्षदों , सामाजिक संस्थाओं एवं समाजसेवियों के सहयोग से आयोजित किया जायेगा।कार्यक्रम संयोजक प्रतीक कालिया ने बताया कि अलग अलग चरणों में आयोजित होने वाले कैंपों के सुव्यवस्थित आयोजन के लिए एक टास्क फोर्स भी गठित की गई है जिसका संयोजक नितिन सक्सैना को बनाया गया है।कार्यक्रम संयोजक के अनुसार विभिन्न आयोजित होने वाले कैम्पों के दौरान बतौर मुख्यातिथि वित्त एवं शहरी विकास मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल, कृषि मंत्री गणेश जोशी, सहित प्रदेश के कई कैबिनेट मंत्री कार्यक्रम में शिरकत करेंगे।पत्रकार वार्ता में प्रदीप कोहली, इन्द्र गोदवानी संजय व्यास, श्रवण जैन आदि प्रमुख रूप से मौजूद रहे।May be an image of 2 people and text that says 'जयदत्त शर्मा फाउंडेशन एवं HEALTH DIAGNOSTICS नि:शुल्क रक्त जांच शिविर शुगर हीमोग्लोबिन टेस्ट कोलेस्टॉल कार्यक्रम संयोजक . प्रतीक कालिया (पुल स्व० श्री जयदत्त शर्मा जी) (महामेत्री, नगर उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मंडल) 29 मई से 30 जून तक नगर निगम क्षेत्, ऋषिकेश संपर्क सूल 9837889969'