ऋषिकेश : गोबर से लकड़ी बनाने की मशीन हुई स्थापित, दाह संस्कारों के समय प्रयोग होगी गोबर से बनी लकड़ी

ऋषिकेश, पर्यावरण को बचाने के लिए लगातार पेड़ों को काटने से बचाने की अपील सरकार के द्वारा की जा रही है। मगर जरूरत के लिए लकड़ियों का प्रयोग होना भी स्वभाविक है। ऐसे में लकड़ी का विकल्प सामने निकल कर आया है। ऋषिकेश में गोबर से लकड़ी बनाने की मशीन स्थापित की गई है। इसका सफल ट्रायल अन्य कई शहरों में किया जा चुका है।

मुनिकीरेती क्षेत्र अंतर्गत पूर्णानंद इंटर कॉलेज के पास गोपाष्टमी के मौके पर एक गौशाला में इनरव्हील क्लब की ओर से मशीन स्थापित की गई है। यह मशीन गोबर से लकड़ी बनाने में सक्षम है। खास बात यह है कि गोबर को हिंदू धर्म में शुभ माना जाता है और पूजा पाठ में भी इसका प्रयोग होता है। ऐसे में गोबर से बनी हुई लकड़ियों की डिमांड पड़ना स्वाभाविक है। शुरुआत में आसपास के क्षेत्र से एकत्रित किए गए गोबर से लकड़ी बनाने का कार्य शुरू किया जा रहा है। इससे कई लोगों को रोजगार मिलने की उम्मीद भी है। खास बात यह है कि सरकार के पर्यावरण संरक्षण के लिए पेड़ों का कटान रोकने के लिए भी यह मशीन भविष्य में वरदान साबित होगी।

इस प्रकार की मशीनें पूरे उत्तराखंड में यदि लगाई जाए तो सड़कों पर घूमने वाले आवारा गोवंश को भी प्रत्येक व्यक्ति पालने की कोशिश करेगा। क्योंकि मशीन को गोबर की जरूरत होगी और गोबर गोवंश से उपलब्ध होगा। जब लकड़ी बेचकर आमदनी होगी तो गोवंश पालने वालों को भी गोबर के बदले एक निश्चित रकम मिलेगी। पर्यावरण संरक्षण के साथ गोवंश का संरक्षण भी होगा यही नहीं गोबर से बनी संस्कार के रूप में दी प्रयोग किया जा सकेगा। इनरव्हील क्लब की अध्यक्ष सलोनी गोयल ने बताया कि पहली बार मशीन लगाई गई है। जल्दी ही इस मशीन की सफलता के बाद भी यह मशीन स्थापित करने की योजना है ।

पालिका अध्यक्ष मुनी की रेती रोशन रतूड़ी इनर व्हील क्लब को बधाई देते हुए कहा कि क्लब पर्यावरण से संबंधित कार्य करते रहते है पर ये गो काष्ठ मशीन एक अनूठी पहल है इनर व्हील के माध्यम से उन्होंने इसे इको फ्रेंडली और ऑर्गेनिक बताते हुए इसकी जागरूकता लोगो तक पहुंचाने में सहयोग देने की बात कही ।
कार्यक्रम में इनर व्हील क्लब अध्यक्ष सलोनी गोयल, प्रोजेक्ट चेयरमैन अंजु अग्रवाल,एडिटर रश्मि अग्रवाल, आईएसओ वीना शर्मा, कोषाध्यक्ष बिंदिया अग्रवाल, डॉ इंदु भारद्वाज, डॉ रितु प्रसाद, अनुसूया बथवाल, बबीता अग्रवाल मीनाक्षी अग्रवाल, सीमा अग्रवाल, डॉ हयरिओम प्रसाद, गोपाल अग्रवाल, जितेंद्र बार्थवाल, गोविंद अग्रवाल, सुशील गोयल आदि मौजूद रहे |