पाक की साजिश नाकाम : नकली करंसी और हथियार बरामद, गिरफ्तार आतंकी ने किए कई खुलासे

श्रीनगर, जम्मू-कश्मीर में बीएसएफ जम्मू ने तलाशी अभियान के दौरान अखनूर क्षेत्र में अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास 2,75,000 रुपए मूल्य के नकली भारतीय नोट, हथियार, गोला-बारूद और नशीले पदार्थ बरामद किए। ये कार्रवाई कल रात की गई है। उधर, जम्मू-कश्मीर के बारामूला जिले में नियंण रेखा पर निगरानी कर रहे जवानों ने मंगलवार को घुसपैठ की एक और कोशिश नाकाम कर दिया और इस दौरान मुठभेड़ में एक आतंकवादी को मार गिराया तथा एक को जख्मी हालत में गिरफ्तार कर लिया। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि मुठभेड़ के दौरान चार सैनिक भी घायल हुए हैं। जिस आतंकी को गिरफ्तार किया गया वह पाकिस्तान के पंजाब के दिपलपुर में गांव वासेववाला का रहने वाला है।

आतंकी का नाम अली बाबर है और इसने सातवीं तक की पढ़ाई की है, लेकिन इतनी कम उम्र में ही वह आतंक के रास्ते पर चल निकला और सीधा भारत में ऑपरेशन के लिए आ गया। 25 सितंबर को ऑपरेशन के दौरान पाकिस्तानी आतंकी अतीक उर रहमान को मार गिराया गया था और उसी के बाद उसके साथ मौजूद अली बाबर ने सरेंडर कर दिया था। इसी ने जानकारी दी कि सभी 6 आतंकी पाकिस्तान के पंजाब के रहने वाले थे। अली बाबर ने पिता की मौत के बाद लश्कर ज्वाइन की थी, उसके घर पर मां और बहन है।

2019 में अली बाबर ने खैबर पख्तनूवा में ट्रेनिंग ली थी। अली बाबर ने बताया कि अतीक उर रहमान ने उसे मां के इलाज के लिए 20 हजार रुपये देने की बात कही थी, जबकि 30 हजार रुपये वापसी पर देने थे। मेजर जनरल वीरेंद्र वत्स जीओसी, 19 डिविजन ने बताया कि उरी में एलओसी पर नौ दिनों तक आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन चलाया गया। आतंकी घुसपैठ की जानकारी मिलने पर यह ऑपरेशन 18 सितंबर को शुरू किया गया था। इस दौरान आतंकियों से मुठभेड़ हुई। दो आतंकी भारतीय सीमा में थे जबकि चार आतंकी सीमा पार थे। जवाबी कार्रवाई के बाद पाकिस्तान की तरफ के चार आतंकी वापस चले गए।