मानसून की दस्तक : Mumbai में CSMT-कुर्ला के बीच ट्रेन सेवा सस्पेंड- हाई टाइड की चेतावनी, 13 राज्यों में येलो अलर्ट

मुंबई, दक्षिण-पश्चिम मानसून ने जैसा अनुमान लगाया था उससे एक दिन पहले ही मानसून ने मुंबई में दस्‍तक दे दी है। भारत मौसम विज्ञान विभाग के मुताबिक मानसून मुंबई पहुंच चुका है और इस साल मुंबई और महाराष्ट्र में अच्छी बारिश होने की संभावना दिख रही है। आज यानी बुधवार को मुंबई में हाई टाइड की चेतावनी जारी की गई है। मौसम विभाग के पूर्वानुमान के मुताबिक शहर के कुछ इलाकों में भारी से बहुत भारी बारिश की संभावना है। साथ ही समुंद्र में हाई टाइड के उठने का भी अनुमान है। इस दौरान समुंद्र की लहरें 4.16 मीटर की ऊंचाई तक पहुंच सकती हैं। ऐसे में एहतियातन समुंद्र के किनारे के इलाकों को खाली करवा लिया गया है। साथ ही कई टीमें नजर बनाए हुए हैं |

आईएमडी मुंबई के उप महानिदेशक डॉ. जयंत सरकार ने बताया कि मॉनसून मुंबई पहुंच गया है। मुंबई में मॉनसून के पहुंचने की तारीख 10 जून थी लेकिन इस बार समय से एक दिन पहले मॉनसून का आगमन हुआ है। इससे पहले मंगलवार को प्री मॉनसून की बारिश ने मुंबई को पानी-पानी कर दिया। कई इलाकों में सड़कें जलमग्न हो गईं, जिसके कारण यातायात भी कई जगह बाधित रहा। मुंबई के हिंदमाता में सड़कों पर जल जमाव दिखा। मुंबई में रेलवे ट्रैक भी जलमग्न हो गए हैं, जिसकी वजह से लोकल ट्रेन सर्विस पर भी असर पड़ा है।सेंट्रल रेलवे CPRO ने बताया कि चूनाभट्टी रेलवे स्टेशन के पास भारी बारिश और जलभराव के कारण हार्बर लाइन b/w CSMT- वाशी पर ट्रेन सेवाएं सुबह 10.20 बजे से निलंबित हैं। वहीं सायन-कुर्ला खंड में जलभराव के कारण मेन लाइन पर सुबह 10.20 बजे से CSMT-ठाणे से सेवाएं भी बंद कर दी गई हैं।

बारिश और उससे होने वाली परेशानी से निजात दिलाने के लिए एमएमआरडीए ने 24 घंटे का आपातकालीन मानसून नियंत्रण कक्ष स्थापित किया है। एमएमआरडीए (मुंबई मेट्रोपॉलिटन रीजनल डेवलपमेंट अथॉरिटी) ने मुंबई में 24 घंटे का आपातकालीन नियंत्रण कक्ष स्थापित किया है। इसके तहत कोई भी व्यक्ति परेशानी में मोबाइल नंबर 8657402090 और लैंडलाइन नंबर 02226594176 पर कॉल करके मदद की अपील कर सकता है, बता दें कि महाराष्ट्र में ठाणे जिला प्रशासन ने क्षेत्र में मानसून की शुरुआत के मद्देनजर झरनों, झीलों और बांधों के पास लोगों के जमा होने पर प्रतिबंध लगा दिया है। जिला कलेक्टर राजेश नार्वेकर ने क्षेत्र में जलाशयों पर दुर्घटनाओं को रोकने के लिए आदेश जारी किया है। आदेश में जिले के कुछ खतरनाक स्थानों की सूची दी गई है और लोगों से कहा गया है कि वे मानसून के दौरान इन स्थानों पर न जाएं। यह आदेश सीआरपीसी की धारा 144, महामारी अधिनियम और आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत जारी किया गया है। ठाणे तालुका में येयूर, कलवा, मुंब्रा, रेतीबंदर, गैमुख और उत्तान समुद्र तट पर लोगों के इकट्ठा होने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है।

वहीं मध्यप्रदेश और बिहार के कई हिस्सों में प्री-मानसून बारिश जारी है। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल, इंदौर, शाजापुर, मंदसौर, देवास, सागर और जबलपुर में बारिश हो रही है। इंदौर में पिछले चार-पांच दिनों से लगातार बारिश हो रही है। बारिश के कारण शहर के निचले इलाकों में जलजमाव की स्थिति बनी हुई है। वहीं भोपाल में मंगलवार शाम से रूक-रूक कर बारिश हो रही है। हालांकि मौसम विभाग ने कहा कि अगले सप्ताह तक यहां भी मानसून पहुंच जाएगा। मौसम विभाग की मानें तो बिहार में प्री-मानसून बारिश हो रही है। 12 जून के बाद यहां पर मानसून पहुंचेगा। उत्तरी बिहार के कई जिलों में बुधवार सुबह से बारिश हो रही है। वहीं झारखंड के धनबाद जिले में बादल बरस रहे हैं। मौसम विभाग ने 13 राज्यों में येलो अलर्ट जारी किया है।