कैप्टन अमरिंदर सिंह जल्द कर सकते हैं एक नई पार्टी की घोषणा, तैयारी में जुटे

चंडीगढ़, पंजाब कांग्रेस में जारी कलह के बीच पार्टी छोड़ने का ऐलान कर चुके कैप्टन अमरिंदर सिंह जल्द ही एक नई पार्टी की घोषणा कर सकते हैं। आगामी विधानसभा चुनाव से ठीक पहले पंजाब में जारी सियासी खींचतान के बीच सूत्रों ने कहा है कि कैप्टन अमरिंदर सिंह अगले 15 दिन के भीतर एक नई राजनीतिक पार्टी बना सकते हैं। माना जा रहा है कि उनके संपर्क में दर्जनभर कांग्रेस नेता हैं, जो उनकी तरह ही कांग्रेस आलाकमान से नाराज चल रहे हैं।

जानकारी के अनुसार करीब एक दर्जन कांग्रेस नेता कैप्टन अमरिंदर सिंह के संपर्क में हैं। फिलहाल, अगले कदम को लेकर कैप्टन अमरिंदर सिंह अपने समर्थकों से भी विचार-विमर्श कर रहे हैं। अमरिंदर सिंह के पंजाब के कुछ किसान नेताओं से भी मिलने की संभावना है। बता दें कि बुधवार को अमरिंदर सिंह ने अमित शाह से मुलाकात की थी, जिसके बाद भाजपा में उनके जाने की अटकलों को हवा मिली थी |

पंजाब के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद से ही जारी कई तरह की अटकलों पर कैप्टन अमरिंदर सिंह ने स्पष्ट किया कि वह भारतीय जनता पार्टी में शामिल नहीं हो रहे हैं। हालांकि, उन्होंने यह भी कहा है कि वह कांग्रेस छोड़ रहे हैं क्योंकि उनसे इतना अपमान सहा नहीं जा रहा है। अमित शाह के साथ बुधवार को मुलाकात के बाद कैप्टन ने कहा था कि गृहमंत्री के साथ उनकी किसान कानूनों को लेकर बातचीत हुई थी।

कैप्टन ने अमरिंदर ने गुरुवार को स्पष्ट करते हुए कहा कि अभी तक मैं कांग्रेस में हूं लेकिन कांग्रेस में रहूंगा नहीं। मैं अपने साथ ऐसा बर्ताव नहीं होने दूंगा। अमरिंदर सिंह ने यह भी कहा कि वह किसी भी कीमत पर नवजोत सिंह सिद्धू को आगामी पंजाब विधानसभा चुनाव में जीतने नहीं देंगे। बता दें कि इस बीच कांग्रेस ने भी अमरिंदर सिंह से संपर्क करने की कोशिश की है। पार्टी के वरिष्ठ नेता अंबिका सोनी और कमलनाथ लगातार अमरिंदर से बात करने की कोशिश कर रहे हैं। हालांकि, दिल्ली में रहते हुए भी पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी से न मिलकर बीजेपी नेताओं से मुलाकात कर के कैप्टन ने भी साफ संदेश दे दिया है।

कैप्टन ने कांग्रेस आलाकमान के कहने पर 18 सितंबर को पंजाब के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था। इसके बाद उन्होंने अपनी नाराजगी खुलकर जाहिर की जिससे यह अटकलें तेज हो गई कि संभवतः वह बीजेपी में शामिल हो सकते हैं। इस बीच नवजोत सिंह सिद्धू ने भी पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के मुखिया पद से इस्तीफा देकर कांग्रेस की मुसीबत और बढ़ा दी।