Sunday, February 25, 2024
Header Add UKDIPR
HomeTrending Nowअपनी बोली-भाषा के उत्थान के लिए सामूहिक प्रयास जरूरी- तीरथ सिंह

अपनी बोली-भाषा के उत्थान के लिए सामूहिक प्रयास जरूरी- तीरथ सिंह

(देवेंन्द्र चमोली)
रुद्रप्रयाग- सामूहिक प्रयास से ही अपनी बोली भाषा का उथ्थान संभव है, यह बात हिन्दी एंव हिन्दी साहित्य के प्रचार प्रसार के लिये रुद्रप्रयाग मे विशेष पुस्तक वितरण एवं सम्मान समारोह में मुख्य अतिथि पंहुचे गढ़वाल सांसद तीरथ सिंह रावत ने उपस्थित शिक्षकों एंव जनसमुदाय को संबोधित करते हुये कही।
स्थानीय अटल उत्कृष्ट राजकीय इंटर कालेज में आयोजित कार्यक्रम में आज सूबे के पूर्व मुख्यमंत्री व गढ़वाल सांसद तीरथ सिंह रावत की पहल पर हिन्दी भाषा एंव साहित्य के प्रचार प्रसार के लिये पुस्तक वितरण एंव सम्मान समारोह आयोजित किया गया जिसमें जनपद के 108 स्कलो को पुस्तकें भेंट की गई व जनपद के पांच साहित्यकारों को सम्मानित किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ सांसद तीरथ सिंह रावत, जिला पंचायत अध्यक्ष अमरदेई शाह, भाजपा जिलाध्यक्ष महावीर सिंह पंवार, परियोजना निदेशक विमल कुमार, विद्यालय के प्राधानाचार्य राजबीर सिंह भदौरिया समेत अन्य लोगों ने दीप प्रज्वलित कर किया। विद्यालय की छात्राओं ने स्वागत से अतिथियों का स्वागत किया।
मुख्य अतिथि सांसद तीरथ सिंह रावत ने जनपद भर से पहुंचे प्रधानाचार्यों, प्रधानाध्यपकों एवं शिक्षकों का स्वागत करते हुए कहा कि अपनी भाषा एवं बोली के उत्थान एवं प्रचार के लिए सामूहिक और सतत प्रयास होने जरूरी हैं। हम औपनिवेषिक काल के बाद से अपनी पहचान एवं संस्कृति को अपनाने एवं स्वीकारने में पिछड़ते जा रहे हैं। यह सोच बदलनी होगी, अपनी मूल संस्कृति, भाषा- बोलियों को हमेशा जीवित रखने एवं नई पीढ़ी तक पहुंचाने की जिम्मेदारी हम सब को उठानी होगी।
विशिष्ट अतिथि जिला पंचायत अध्यक्ष अमरदेई शाह ने कहा कि शिक्षा एवं शिक्षक हमारे समाज के सबसे महत्वपूर्ण अंग हैं। उन्होंने शिक्षकों से अपनी भाषा के ज्यादा से ज्यादा प्रचार के लिए सभी स्कूलों में बेहतर प्रयास करने की अपील की। भाजपा के जिला अध्यक्ष महावीर सिंह पंवार ने अपने जीवन के अनुभव साझा करते हुए पूरे देश में हिंदी भाषा को राष्ट्रीय भाषा के तौर पर पहचान दिलाने के लिए सभी को अपने स्तर से प्रयास करने की अपील की। इससे पहले राजकीय इंटर काॅलेज रूद्रप्रयाग के प्रधानाचार्य राजबीर सिंह भदौरिया ने सभी का स्वागत किया। इस अवसर पर रुद्रप्रयाग जिले में शिक्षा, साहित्य-संस्कृति से जुडे 05 साहित्यकारों को माननीय सांसद श्री तीरथ सिंह रावत द्वारा प्रशस्ति-पत्र, पुस्तकें एवं शॉल प्रदान कर सम्मानित किया गया। जिसमें (1) श्री रमेश पहाड़ी (2) श्री जगदंबा प्रसाद चमोला (3) श्री कृष्णानंद नौटियाल (4) श्री अश्विनी गौड़ (5) श्रीमती कुसुम भट्ट शामिल रहे।
कार्यक्रम के संयोजक मुकेश कुमार ने बताया कि कार्यक्रम में जनपद के 60 प्राथमिक व उच्च प्राथमिक विद्यालय को दस हजार, 32 उच्च विद्यालयों को पच्चीस हजार एवं 16 इंटर काॅलेजों को को पचास हजार रूपये मूल्य की पुस्तकों का निःशुल्क वितरण किया गया। माननीय सांसद श्री तीरथ सिंह रावत की इस अनोखी पहल से जिले के 108 शैक्षणिक संस्थानों को हिन्दी साहित्य से संबंधित हिन्दी के महान लेखकों की रचनाओं से समृद्ध एक मिनी लाईब्रेरी की प्राप्ति एवं स्थापना की जाएगी।
इस अवसर पर परियोजना निदेशक विमल कुमार, तहसीलदार राम किशोर ध्यानी, ग्राम प्रधान मयकोटी अमित प्रदाली, विजय सति समेत अन्य लोग मौजूद रहे।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -
MDDA ads

Most Popular

Recent Comments