Sunday, February 25, 2024
Header Add UKDIPR
HomeStatesUttarakhandTruecaller ऐप ने दिल्ली महिला आयोग  हेल्पलाइन नंबर ‘181’ के दायरे...

Truecaller ऐप ने दिल्ली महिला आयोग  हेल्पलाइन नंबर ‘181’ के दायरे को बढ़ाने में मदद की

– दिल्ली महिला आयोग  की अध्यक्षा, श्रीमती स्वाति मालीवाल ने अपने होम स्क्रीन डायलर पर 181 नंबर प्रदर्शित करने के लिए ट्रूकॉलर ऐप की सराहना की

देहरादून, । ट्रूकॉलर ऐप में 181 महिला हेल्पलाइन क्विक डायल फीचर को शामिल किए जाने के बाद से दिल्ली महिला आयोग की हेल्पलाइन नंबर ‘181’ पर आने वाले फोन कॉल में 200 प्रतिशत की बढ़ोतरी दर्ज की गई है। इस साल मार्च के महीने से, ट्रूकॉलर ने अपने डायलर पर महिला सुरक्षा हेल्पलाइन नंबर -181- को प्रदर्शित करना शुरू कर दिया है, जो कंपनी की ओर महिलाओं एवं बालिकाओं के साथ होने वाले अपराधों के खिलाफ शुरू की गई मुहिम #ItsNotOk का एक हिस्सा है।

ट्रूकॉलर के डायलर पर महिला हेल्पलाइन नंबर ‘181’ को प्रदर्शित करने के बाद, दिल्ली महिला आयोग ने दिल्ली में हेल्पलाइन नंबर पर आने वाली फोन कॉल की संख्या में बड़े पैमाने पर वृद्धि दर्ज की। इस नंबर को ट्रूकॉलर के साथ जोड़ने से पहले, आयोग की हेल्पलाइन नंबर ‘181’ पर हर दिन लगभग 2000 फोन कॉल आते थे, लेकिन अब यह संख्या बढ़कर 4,000 से अधिक कॉल प्रति दिन हो गई है। इस तरह हर दिन हेल्पलाइन नंबर पर प्राप्त होने वाली कुल फोन कॉल में लगभग 200 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। मार्च के महीने में प्राप्त 65500 फोन कॉल में से ज्यादातर कॉल में महिलाओं एवं बालिकाओं की सुरक्षा में महिला हेल्पलाइन नंबर ‘181’ की भूमिका के बारे में पूछताछ की गई।

दिल्ली की महिलाएँ और लड़कियाँ घरेलू हिंसा, यौन उत्पीड़न तथा महिलाओं के खिलाफ अन्य अपराधों से संबंधित मामलों में महिला हेल्पलाइन नंबर ‘181’ से मदद मांगती हैं। आयोग फोन कॉल के जरिए प्राप्त होने वाले प्रत्येक मामले पर करवाई करता है और इस प्रक्रिया के माध्यम से सैकड़ों महिलाओं एवं लड़कियों की मदद करता है। उदाहरण के लिए, अप्रैल 2022 में महिला हेल्पलाइन नंबर ‘181’ पर एक महिला के भाई का फोन आया, जिसने यह जानकारी दी कि उसकी 31 साल की बहन को छत्तीसगढ़ में उसके ससुराल में बंदी बनाकर रखा गया था और उसके पति द्वारा बीच-बीच में उसकी पिटाई भी की जा रही थी। महिला हेल्पलाइन नंबर ‘181’ की टीम ने तुरंत छत्तीसगढ़ के वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों से बात की और महिला को बचाए जाने तक इस मामले में सक्रिय रूप से कार्रवाई जारी रखी। वह महिला अब दिल्ली में अपने मायके लौट आई है।

ट्रूकॉलर इंडिया की पब्लिक अफेयर्स डायरेक्टर, श्रीमती प्रज्ञा मिश्रा ने कहा, “आज, भारत में 10 करोड़ से ज्यादा महिलाएँ फोन कॉल तथा एसएमएस के जरिए उत्पीड़न के खिलाफ अपनी हिफाज़त के लिए सबसे पहले ट्रूकॉलर की मदद लेती हैं। ट्रूकॉलर डायलर पर आपातकालीन हेल्पलाइन नंबर उपलब्ध कराना तथा आपात स्थिति में सिर्फ एक क्लिक पर महिला हेल्पलाइन नंबर ‘181’ तक पहुंच की सुविधा प्रदान करना, सही मायने में हमारे उपयोगकर्ताओं को सुरक्षित रखने की दिशा में एक और कदम है।”

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्षा, श्रीमती स्वाति मालीवाल ने इस प्रयास का समर्थन करते हुए कहा, “मैं ट्रूकॉलर द्वारा सक्रियतापूर्वक उठाए गए इस शानदार कदम की सराहना करती हूँ। बीते 6 सालों में दिल्ली महिला आयोग ने अपनी 181 महिला हेल्पलाइन नंबर के जरिए लाखों महिलाओं और लड़कियों की मदद की है। ट्रूकॉलर की इस पहल की वजह से आयोग की हेल्पलाइन नंबर पर आने वाले फोन कॉल की संख्या दोगुनी हो गई है, और इस तरह आयोग की पहुंच का दायरा भी काफी बढ़ गया है। आयोग ने फोन कॉल में वृद्धि को संभालने के लिए मजबूत प्रणाली स्थापित की है तथा दिल्ली सरकार की मदद से इसे और मजबूत बनाया जा रहा है। हम पूरी निष्ठा व ईमानदारी से संकट का सामना कर रही हर महिला और लड़की तक पहुँचने का प्रयास करते हैं।”

RELATED ARTICLES
- Advertisment -
MDDA ads

Most Popular

Recent Comments