Wednesday, April 17, 2024
HomeUncategorizedफ्लैट में किशोरी की संदिग्ध हालात में मौत, लोगों ने फ्लैट के...

फ्लैट में किशोरी की संदिग्ध हालात में मौत, लोगों ने फ्लैट के बाहर किया प्रदर्शन

-पक्ष-विपक्ष के विधायक पहुंचे मौके पर, विधानसभा में उठाया मुद्दा

-पुलिस ने लूथरा दंपति के साथ ही अज्ञात के खिलाफ दर्ज किया मुकदमा

देहरादून, जनपद के रेसकोर्स स्थित फ्लैट में किशोरी का शव संदिग्ध हालात में मिलने पर हड़कंप मच गया। रेसकोर्स स्थित विधायक निवास (एमएलए ट्रांजिट हॉस्टल) के बाहर स्थित फ्लैट में घटित मामला सड़क से लेकर सदन तक गूंजा। आरोप है कि उक्त फ्लैट में घर का काम करने वाली किशोरी (मेड) का शव वीरवार सुबह बाथरूम में फांसी पर लटका मिला। मामले की जानकारी मिलते ही किशोरी के परिजन और आसपास के लोग काफी संख्या में मौके पर पहुंचे और फ्लैट स्वामी पर हत्या का आरोप लगाते हुए गिरफ्तारी की मांग को लेकर जमकर धरना-प्रदर्शन किया। कुछ लोगों ने घर में घुसकर आरोपी परिवार के सदस्य की पिटाई कर दी। मौके पर काफी संख्या में पुलिस हालात को काबू करने के लिए तैनात कर दी गई। राज्य महिला आयोग ने भी पूरे मामले का संज्ञान लेते हुए कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। पुलिस ने आरोपी और उसकी पत्नी समेत एक अज्ञात के खिलाफ हत्या और पोक्सो एक्ट समेत विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है |

मिली जानकारी के मुताबिक घ गुरूवार सुबह रेसकोर्स क्षेत्र में कार्य करने वाली किसी महिला को जानकारी हुई कि विधायक हॉस्टल के नजदीक स्थित लूथरा परिवार के फ्लैट में घरेलू कामकाज करने वाली किशोरी की संदिग्ध हालात में मौत हो गई। इस पर उक्त महिला ने आसपास के लोगों और किशोरी के परिजनों को सूचना दी। दोपहर तक यह खबर पूरे क्षेत्र में फैल गई और किशोरी के परिजनों समेत काफी संख्या में लोग उक्त फ्लैट के बाहर एकत्र हो गए, जहां वह किशोरी की मौत हुई। मूलरूप से बिहार निवासी किशोरी रेसकोर्स से सटे एक इलाके की रहने वाली थी। इस बीच, काफी संख्या में पुलिस भी मौके पर पहुंच गई। किशोरी के परिजनों व लोगों का आरोप था कि उसका शव वीरवार सुबह वॉशरूम में फंदे से लटका मिला, लेकिन फ्लैट स्वामी ने उसके परिजनों या पुलिस को सूचना दिए बिना ही उसके शव को अस्पताल पहुंचा दिया। बताया गया कि 14-15 वर्षीय किशोरी दो दिन पहले घर गई थी, लेकिन बुधवार रात घर नहीं आई। लोगों ने आरोपी की गिरफ्तारी की मांग को लेकर नारेबाजी भी की। इसी बीच, कुछ महिलाएं आरोपी के फ्लैट में घुस गईं और वहां मारपीट कर दी। उनका आरोप था कि किशोरी की स्वाभाविक मौत नहीं हुई, बल्कि उसकी हत्या की गई।

महिला आयोग ने भी लिया संज्ञान :

इस बीच, घटना की जानकारी मिलने पर नेता प्रतिपक्ष यशपाल आर्य, कांग्रेस विधायक प्रीतम सिंह और क्षेत्रीय भाजपा विधायक विनोद चमोली समेत कई विधायक मौके पर पहुंचे, जहां उन्होंने आक्रोशित लोगों से घटनाक्रम की जानकारी ली। वहीं, अपराह्न विधानसभा सत्र के दौरान नेता प्रतिपक्ष यशपाल आर्य ने सदन में इस मुद्दे को उठाया। उन्होंने इसे कानून-व्यवस्था से जुड़ा मुद्दा बताते हुए चर्चा की मांग की। बाद में कांग्रेस विधायकों ने इस मुद्दे पर सदन से बर्हिगमन भी किया। वहीं दूसरी ओर, राज्य महिला आयोग ने भी इस पूरे घटनाक्रम का तत्काल स्वत: संज्ञान लेते हुए एसएसपी को इस मामले की जांच कर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई के निर्देश दिए। आयोग की अध्यक्ष कुसुम कंडवाल ने बाल श्रम करवाने के मामले में भी आरोपी पक्ष और किशोरी के परिवार पर कार्रवाई करने को कहा। विधानसभा में मामला गूंजने और महिला आयोग के संज्ञान लेने के बाद शाम सिटी मजिस्ट्रेट प्रत्यूष सिंह और एसएसपी अजय सिंह भी मौके पर पहुंचे।

मौत की वजह ‘सुसाइडल हैंगिंग’ बताई :

वीरवार रात पुलिस की ओर से जारी विज्ञप्ति में पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आधार पर इस पूरे मामले में किसी तरह के ‘सेक्सुअल एसॉल्ट’ अथवा बाहरी चोटों की बात से इनकार किया गया है। पुलिस के अनुसार, महिला डॉक्टर समेत तीन डॉक्टरों के पैनल से किशोरी के शव का पोस्टमार्टम कराया गया। इसमें मृत्यु का कारण ‘सुसाइडल हैंगिंग’ पाया गया है। डॉक्टरों के बयान दर्ज किए जा रहे हैं। पुलिस के अनुसार, किशोरी के फांसी लगाने की सूचना पूर्वाह्न 11:25 बजे रेसकोर्स के डी-92 स्थित फ्लैट-1 निवासी अभिषेक लूथरा ने अपने पिता के साथ आकर नेहरू कॉलोनी फव्वारा चौक स्थित चौकी को दी।

सीसीटीवी फुटेज में बाथरूम में जाती दिखी किशोरी ::

पुलिस के अनुसार, मृत किशोरी के पिता की तहरीर के आधार पर नेहरू कॉलोनी थाने में धारा-302, 323, 354, 342 और 7/8 पोक्सो एक्ट के साथ ही 3 (क)/4 बाल श्रम प्रतिशेध अधिनियम-1986 के तहत अभिषेक उर्फ राजा लूथरा, उसकी पत्नी और एक अन्य अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। आरोपियों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। पुलिस ने बताया कि घर से सीसीटीवी कैमरों की फुटेज देखने पर किशोरी सुबह 9:27 बजे के आसपास स्टूल लेकर बाथरूम की ओर जाती दिखाई दी। 10:19 बजे अभिषेक लूथरा समेत 4-5 लोग किशोरी को खोजते हुए बाथरूम की ओर जाते दिखाई दिए, जो उसे बाथरूम से बाहर लाकर सीपीआर देने की कोशिश करते दिख रहे हैं।

 

मरीजों की सेवा नर्सिंग स्टाफ़ की सबसे बड़ी मानवता : ललित जोशी

“लैंप लाइटिंग और समर्पण शपथ ग्रहण कार्यक्रम का आयोजन”

देहरादून, कम्बाइंड इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस एंड रिसर्च कुंआवाला में नर्सिंग विभाग के छात्र-छात्राओं हेतु लैंप लाइटिंग और समर्पण शपथ ग्रहण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस दौरान नर्सिंग के छात्र-छात्राओं को चिकित्सा क्षेत्र में प्रवेश के लिए शपथ दिलाई गई। कार्यक्रम में उत्तराखण्ड नर्सेज एंड मिडवाइव्ज काउंसिल की रजिस्ट्रार डा० मनीषा ध्यानी मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित रही। उन्होंने छात्र-छात्राओं का मार्गदर्शन करते हुए कहा कि चिकित्सक को सबसे ज्यादा सहयोग नर्स का होता है। नर्स के सहयोग के बिना मरीज का पूर्ण इलाज नहीं हो सकता।
उन्होंने कहा कि यदि हम मरीजों की सेवा दिल से नहीं कर सकते हैं, तो हमें इस व्यवसाय में नहीं आना चाहिए। यह पैसे कमाने की जगह नहीं है। यहां किसी का जीवन आपकी देखरेख पर निर्भर करता है। क्योंकि इसमें वे पैसे के साथ मरीजों की दुआएं भी पाती हैं। हमें मरीजों से मृदुल व्यवहार करना चाहिए और इलाज के दौरान सहन-शक्ति बनाए रखनी चाहिए। मरीज को सिर्फ मरीज समझकर अपने परिवार का सदस्य समझना चाहिए।
संस्थान के चेयरमैन एडवोकेट ललित जोशी ने कहा कि यह शपथ नर्सिंग पेशे की पवित्र प्रकृति और नर्सों का उनके रोगियों के जीवन पर पड़ने वाले प्रभाव की निरंतर याद दिलाने का काम करती है। तनाव और थकान के समय में, प्रतिज्ञा प्रेरणा के स्रोत के रूप में काम कर सकती है, उस जुनून और उद्देश्य की भावना को फिर से जागृत कर सकती है जिसने व्यक्तियों को सबसे पहले नर्सिंग की ओर आकर्षित किया। उन्होंने कहा कि मानव सेवा ही सच्ची सेवा है।
संस्थान के मैनेजिंग डॉयरेक्टर संजय जोशी ने कहा कि फ्लोरेंस नाइटिंगेल ने नर्सों के पेशे को एक सम्मानित सेवा का पेशा बनाया। लैंप लाईटिंग सेरेमनी उसी याद में आयोजित की जाती है। यह हमें अंधेरे से उजाले की तरफ ले जाती है।
कॉलेज की प्रधानाचार्या डा0 सुमन वशिष्ठ ने कहा कि नर्स की प्रतिज्ञा दयालु, रोगी-केंद्रित देखभाल प्रदान करने के लिए नर्स की प्रतिबद्धता की एक कालातीत अभिव्यक्ति है। यह उन मूलभूत मूल्यों को दर्शाता है जो नर्सिंग पेशे को रेखांकित करते हैं और आधुनिक स्वास्थ्य देखभाल की जटिलताओं से निपटने में नर्सों के लिए एक मार्गदर्शक के रूप में कार्य करते हैं।
कार्यक्रम में कॉलेज की शिक्षिका नेहा पंवार ने शपथ के मुख्य बिंदुओं पर प्रकाश डाला तो वहीं हीना मनवाल ने शपथ पत्र पढ़ा। कार्यक्रम का संचालन नितिका भट्ट ने किया। इस दौरान कॉलेज के उपप्रधानाचार्य रबीन्द्र कुमार झा, नर्सिंग डिपार्टमेंट की समस्त शिक्षिकाएं व छात्र-छात्राएं मौजूद रहे।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments