कर्णप्रयाग के 14 गांवों में वनाग्नि जागरूकता के लिए होंगे कार्यक्रम

चमोली। ब्लाक सभागार में आयोजित प्रशासन, विभिन्न विभागों और सामाजिक कार्यकर्ताओं की बैठक में आग से जंगलों को बचाने के लिए सामुहिक भागीदारी पर बल दिया गया। बताया गया कि स्वयंभू फाउंडेशन के सहयोग से गांवों में जागरूकता अभियान चलाया जाएगा। जिसके लिए ब्लाक के अतिसंवेदनशील 14 गांवों को चयनित कर नुक्कड़ नाटकों के माध्यम से जागरूक किया जाएगा।
शुक्रवार को आयोजित बैठक में एसडीएम एसके पांडे ने बताया कि स्वयंभू फाउंडेशन के अनुरोध पर आयोजन किया गया है। जिसके तहत स्कूली बच्चों द्वारा पोस्टर प्रतियोगिता का आयोजन किया जाएगा। इस दौरान तैयार पोस्टरों के साथ स्कूली बच्चे या अन्य कलाकार गांवों में एक सप्ताह तक नुक्कड़ नाटक करेंगे। जिनमें जल, जंगल और जमीन की सुरक्षा, वनों को आग से बचाने के उपाय और वनों को पर्यावरण से लाभ के बारे में बताया जाएगा। जिसके लिए कलाकारों को प्रशिक्षण भी दिया जाएगा। बैठक में स्वयंभू फाउंडेशन के विभू महापात्रा ने बताया कि आग पर्यावरण के लिए एक आपदा है और आपदा को जागरूकता से ही रोका जा सकता है। बैठक में तहसीलदार सुरेंद्र सिंह देव, बीडीओ डीएस रावत, खंड शिक्षा अधिकारी कैना चौहान, जलसंस्थान के मनमोहन राणा, रेंजर पंकज ध्यानी और एनके नेगी, सहायक पंचायत अधिकारी एमएम नगवाल, कांति प्रसाद डिमरी, वीपीएस रावत आदि मौजूद थे।