मुनस्यारी : ग्रामीण निर्माण विभाग कर रहा घटिया किस्म का निर्माण कार्य, पंचायत प्रतिनिधियों ने एक साथ 6 निर्माण कार्यो के जांच की मांग उठाई

मुनस्यारी,। ग्रामीण निर्माण विभाग डीडीहाट के घटिया किस्म के निर्माण कार्यो को देखते हुए पंचायत प्रतिनिधि भड़क उठे है. एक साथ छः निर्माण कार्यो की जांच की मांग उठी है. आज ईमेल आईडी से एसडीएम से लेकर मुख्य सचिव तक को पत्र लिखकर इस विभाग की शिकायत की गई है. लंबे समय से अपने घटिया किस्म के निर्माण कार्य के लिए बार बार कटघड़े में आ चूके कार्यदायी संस्था के सभी निर्माण कार्यो कि जांच की गई है. इतना ही नहीं प्रतिनिधियों ने कहा कि इस विभाग के पुराने कार्यो को देखते हुए इस विभाग को किसी भी योजना से नया कार्य न दिया जाय.
त्रिस्तरीय पंचायत संगठन के प्रदेश अध्यक्ष तथा जिला पंचायत सदस्य जगत मर्तोलिया ने तीन पन्नो के शिकायती पत्र में विभाग की कारेस्थानी का काला चिट्ठा खोल दिया है.

शिकायती पत्र एसडीएम, डीएम, मुख्य सचिव, मुख्य अभियंता आर.डब्लू. डी. तथा खंड विकास अधिकारी को भेजा है. मर्तोलिया ने बताया कि बीएडीपी से मल्ला घोरपट्टा के नाम से स्वीकृत गेस्ट हाउस को सभी नियमो को ताक में रखकर दूसरे ग्राम पंचायत बूंगा में बनाया जा रहा है. इस भवन के पुराने दीवार को भी नये निर्माण में नपवाकर बजट में डांका डालने की तैयारी की जा रही है.
बस स्टेशन में जो पार्क का सौन्दर्यीकरण किया जा रहा है, उसमें भी भारी अनियमिताएं की जा रही है. पलस्तर करने के बाद सिचांई तक नहीं की जा रही है. कृषि विभाग के कार्यालय भवन को मनमाने ढंग से बनाया जा रहा है.
सरस मार्केट के भवन के सौन्दर्यीकरण में पुराने लकड़ी का प्रयोग किया गया है. कितना बजट है, इसकी जानकारी भी नहीं दी जा रही है.

सीएचसी परिसर में जो ट्रांजिट हांस्टल का निर्माण किया जा रहा है, उसमें सहित सभी निर्माण कार्य में सीमेंट के ब्लाक, बजरी रेता, सीमेंट , कंकड घटिया किस्म का उपयोग में लाया जा रहा है.
जिपं सदस्य ने बताया कि ठेकेदार व इस विभाग के सांठगांठ का सबसे बड़ा उदाहरण है कि आपदा मद के सुरक्षा कार्य की निविदा आंमत्रित नहीं की गई है, ओर ठेकेदार ने पूर्व मुख्य सचिव के घर के पास काम शुरू कर दिया है.
मर्तोलिया ने सभी कार्यो में उपयोग में लायी जा रही निर्माण सामाग्री के नमूने सील कर अधिकृत प्रयोगशाला से जांचकर कठोर कार्यवाही अमल में लाने की मांग की. कहा कि जांच पर अंतिम कार्यवाही होने तक सभी निर्माणो पर रोक लगाने की मांग की. जांच के लिए जिलाधिकारी द्धारा गठित जांच सेल को देने की मांग भी की.
जिला पंचायत सदस्य ने कहा कि प्रशासन ने तत्काल प्रभाव से कदम नहीं उठाया तो वे आंदोलन करने से भी पीछे नहीं हटेंगे.