Saturday, May 18, 2024
HomeStatesUttarakhandऐतिहासिक सांस्कृतिक उपलब्धि : भरतनाट्यम और कैलीग्राफी प्रदर्शन का हुआ नया रिकॉर्ड...

ऐतिहासिक सांस्कृतिक उपलब्धि : भरतनाट्यम और कैलीग्राफी प्रदर्शन का हुआ नया रिकॉर्ड स्थापित

“तुंगनाथ मंदिर में एक असाधारण सांस्कृतिक में श्र‌द्धा बच्छेती और अभिषेक यादव ने विश्व के सबसे ऊंचे शिव मंदिर में भरतनाट्यम और कैलीग्राफी का प्रदर्शन करते हुए सबसे लंबे समय तक नृत्य करने का नया रिकॉर्ड स्थापित किया”

देहरादून(एल मोहन लखेड़ा), उत्तराखण्ड़ की होनहार बच्चों ने उत्तराखण्ड़ के तुंगनाथ में एक ऐसा रिकार्ड बनाया जिस पर हम गर्व कर सकते है, अंतर्राष्ट्रीय भरतनाट्यम नृत्यांगना परिन्दा आर्ट स्टूडियो की संचालिका गुरु श्रद्धा बछेती, अन्तर्राष्ट्रीय कैलीग्राफी आर्टिस्ट अभिषेक यादव सदस्य टीम इवोल्यूशन ने मिलकर एक बार फिर प्रदेश का मान बढ़ाया है। स्थानीय प्रेस क्लब में पत्रकारों से से रूबरू होते हुये नृत्यांगना श्रद्धा बछेती ने कहा कि विश्व के सबसे ऊंचाई पर स्थित शिव मंदिर, तुंगनाथ में असाधारण सांस्कृतिक आयोजन में शानदार प्रदर्शन करते हुए सबसे लंबे समय 1 घंटा 30 मिनट तक न टूटने वाला भरतनाट्यम नृत्य का रिकार्ड बनाया, इस दौरान अंतर्राष्ट्रीय कैलीग्राफी आर्टिस्ट अभिषेक यादव ने श्रद्धा के गणवेश में ओर केनवास में नृत्य समाप्त होने तक के समय तक कैलीग्राफी करने का असम्भव सफल रिकॉर्ड बनाकर अपना नाम इंडिया बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज करवा लिया है।May be an image of 6 people, people studying, people smiling and text

पत्रकारों से बातचीत करते हुये श्रद्धा और अभिषेक ने कहा कि उन्होंने भगवान शिव के प्रति श्रद्धा दिखाते हुए अपनी जान की परवाह किए बिना ये कारनामा कर दिखाया। इस दौरान श्रद्धा कई तरह की स्वास्थ्य परेशानियों से जूझ रही थीं। उत्तराखंड़ के तुंगनाथ मंदिर में एक असाधारण सांस्कृतिक आयोजन सम्पन्न हुआ, जिसमें श्र‌द्धा बच्छेती और अभिषेक यादव ने विश्व के सबसे ऊंचे शिव मंदिर में भरतनाट्यम और कैलीग्राफी का प्रदर्शन करते हुए सबसे लंबे समय तक नृत्य करने का नया रिकॉर्ड स्थापित किया।

गौरतलब हो कि श्रद्धा मूल रूप से पौड़ी निवासी हैं। वह देहरादून में अपनी माँ और भाई के साथ रहती है। उनकी शिक्षा देहरादून में हुई है। उन्होंने जहाँ बीसीए किया वहीं भरतनाट्यम में एम.ए. किया है। अभिषेक देहरादून में अपने माता-पिता व भाई के रहते हैं और उन्होंने फाइन आटर्स में ग्रेजुएशन किया है।
इस रिकॉर्ड को बनाने के लिए श्रद्धा और अभिषेक ने आर्थिकी से लेकर स्वास्थ्य सम्बन्धी परेशानी को अपने हौसलों के आगे नहीं आने दिया है। श्रद्धा की बीते 2 सालों में कई सर्जरी हुई है। मेडिकल ग्राउंड के चलते इस रिकॉर्ड के लिए श्रद्धा और अभिषेक ने जान के खतरे तक की परवाह किए बिना कदम पीछे नहीं किए। श्रद्धा और अभिषेक ने लगातार अपनी लगन और कला से प्रदेश का नाम रोशन कर रखा है। उन्हें कई सम्मान और अवॉर्ड भी मिले है। इस रिकॉर्ड को बनाने के लिए लाखों रुपए का खर्च आना था। जिसके लिए शासन-प्रशासन, सांस्कृति विभाग से भी मदद मांगी व सीएम धामी से भी मिलने के प्रयास किए। लेकिन आचार संहिता के चलते किसी भी प्रकार की मदद नहीं मिल सकी।
श्रद्धा ने कहा कि इस दौरान श्री बद्रीनाथ केदारनाथ मंदिर समिति व तुंगनाथ के मंदिर अध्यक्ष और लोकल नागरिकों द्वारा इस रिकॉर्ड को बनाने में बहुत सहयोग मिला।
पत्रकार वार्ता में दीपा बछेती, राज्य उप प्रमुख शिवसेना (शिंदे गुट) राजेश सकलानी, राधवानंद ग्वाड़ी, पार्षद मीरा कठैत, अनुष्का घिल्डियाल, सरला यादव, अनिकेत यादव उज्जवल नेगी आदि उपस्थित थे |

अवलोकनः
13 मई 2024 की एक शांत सुबह को तुंगनाथ मंदिर में इतिहास रचा गया, जब श्रद्धा बच्छेती और अभिषेक यादव ने भरतनाट्यम और कैलीग्राफी का प्रदर्शन किया। उनकी असाधारण सहनशीलता और रचनात्मकता को 1 घंटे और 27 मिनट तक प्रदर्शित किया गया, जिससे इस उल्लेखनीय ऊंचाई पर सांस्कृतिक और कलात्मक क्षेत्रों में एक नया मानक स्थापित हुआ।

आयोजन की सफलता :

प्रतिभागियों के इस रिकॉर्ड स्थापित करने की बारीकी से निगरानी और प्रमाणन डॉ. प्रदीप भारद्वाज के द्वारा की गयी, डा. भारद्वाज भारतीय रिकॉर्ड पुस्तक से हैं, प्रतिभागियों ने हर मानदंड अत्यंत ईमानदारी से पूरा किया गया और सख्त दिशा-निर्देशों का पालन करते हुए रिकॉर्ड की पुष्टि की। इससे प्रामाणिकता और उच्चतम मानकों का पालन सुनिश्चित हुआ।

इनका मिला सहयोग :

बन्ना स्प्रे पेंट, परिंदा आर्ट स्टूडियो, अनडिसप्यूटेड आर्ट्स एंड फैशन, लिबरल आर्ट्स प्रोडक्शंस और टीम इवोल्यूशन जिनके अमूल्य सहयोग से यह आयोजन संभव हो पाया।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments