उत्तराखण्ड़ : अब 14 जून से शुरू होगा बसों का संचालन शुरू, सरकार ने दी शत-प्रतिशत सवारी ले जाने की स्वीकृति

ऋषिकेश, कोरोना की महामारी के दौरान लगे कोरोना कर्फ्यू के कारण पूरे प्रदेश में सार्वजनिक वाहन चलने बंद हो गये थे, फिर सरकार ने 50 प्रतिशत क्षमता में वाहन चलाने के आदेश दिये, जिससे वाहन स्वामियों को आर्थिक नुकसान उठाना पड़ा और वे आंदोलित हो उठे | अब सरकार की स्वीकृति के पश्चात टीजीएमओ और यातायात परिवहन कंपनी की संयुक्त रोटेशन व्यवस्था समिति 14 जून से बसों का संचालन शुरू करेगी। संयुक्त रोटेशन व्यवस्था समिति की बैठक में लिए गए निर्णय की जानकारी देते हुए समिति के अध्यक्ष प्रेमपाल सिंह बिष्ट ने बताया कि राज्य सरकार ने निजी बसों के संचालन में शत प्रतिशत सवारी ले जाने की स्वीकृति दी है, जिसके बाद 14 जून से लोकल बसों का संचालन ऋषिकेश केंद्र, हरिद्वार केंद्र, देहरादून केंद्र से शुरू किया जाएगा।

बैठक में यह भी निर्णय लिया गया कि जब तक सरकार अन्य मांगों पर सकारात्मक निर्णय नहीं लेती है तब तक आंदोलन जारी रहेगा। बैठक में टीजीएमओ के अध्यक्ष जितेंद्र सिंह नेगी, यातायात परिवहन कंपनी के अध्यक्ष मनोज ध्यानी, उपाध्यक्ष नवीन रमोला, दाताराम रतूड़ी, हरि नौटियाल, भोला दत्त जोशी, यशपाल सिंह राणा, बलवीर सिंह रौतेला, राजपाल सिंह सिंघवाल आदि मौजूद रहे।

उधर, बस ऑपरेटर्स महासंघ ने देहरादून में मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत से मुलाकात कर बसों में शत प्रतिशत सवारी ले जाने की छूट और पर्यटन और परिवहन व्यवसाय से जुड़े तमाम कार्मिकों के लिए 2500 रूपी आर्थिक सहायता दिए जाने पर उनका आभार जताया है। महासंघ की ओर से मुख्यमंत्री को ज्ञापन देकर उनसे यात्री कर में दो साल तक छूट देने और परिवहन निगम के समान निजी कंपनियों की बस का किराया निर्धारित करने की मांग भी की। मुख्यमंत्री से मिलने वालों में जितेंद्र नेगी, मनोज ध्यानी, संजय शास्त्री आदि शामिल रहे।