सरकारी कार्मिक तथा सरकारी योजनाओं का लाभ लेने वाले परिवारों के पाल्यो का सरकारी स्कूलों में दाखिला करना अनिवार्य करने की मांग

पिथौरागढ़,(मुनस्यारी), जिला पंचायत सदस्य जगत मर्तोलिया ने प्रदेश के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी तथा शिक्षा मंत्री डां धन सिंह रावत को पत्र लिखकर प्रदेश में सरकारी कार्मिक तथा सरकारी योजनाओं का लाभ लेने वाले परिवारों के पाल्यो का सरकारी स्कूलों में दाखिला करना अनिवार्य करने की मांग की। कहा कि सरकारी शिक्षक अपने पाल्यो को प्राइवेट स्कूलों में पढ़ायेगा तो सरकारी शिक्षा व्यवस्था पर कौन भरोसा करेगा।
जिला पंचायत सदस्य जगत मर्तोलिया ने आज इस पत्र को भेजकर प्रदेश की राजनीति में एक नया सवाल पैदा कर दिया है।
मर्तोलिया ने कहा कि प्रदेश में सरकारी शिक्षा तथा सरकारी नौकरी को बचाने के लिए प्रदेश सरकार को कोषागार से वेतन तथा मानदेय प्राप्त करने वाले तथा सरकारी योजनाओं का लाभ लेने वाले परिवारों के पाल्यो का सरकारी स्कूलों में दाखिला करना अनिवार्य बना देना चाहिए।
इनको सरकारी स्कूलों में अपने पाल्यो को पढ़ाने का प्रमाण पत्र प्रस्तुत करने के बाद भी वेतन, मानदेय तथा सरकारी योजना का लाभ दिया जाना चाहिए।
जिला पंचायत सदस्य जगत मर्तोलिया ने कहा कि आज सरकारी स्कूल उपेक्षा का शिकार बने हुए है।इन स्कूलों में केवल अधिकांश अक्षम परिवारों के बच्चे अध्ययनरत है। उन्होंने कहा कि सरकारी विद्यालयों में तैनात शिक्षक अपने पाल्यो को प्राइवेट स्कूलों में पढ़ाते है और आम जनता से कहते है कि वह अपने भाइयों को सरकारी स्कूलों में पढ़ाएं। इस विरोधाभास के चलते सरकारी स्कूलों में अध्ययनरत विद्यार्थियों की संख्या भी कम होती जा रही है।
सरकारी शिक्षा तथा सरकारी सेवाओं को मजबूत करने के लिए प्रदेश सरकार को इस तरह का खड़ा फ़ैसला लेना चाहिए।
उन्होंने कहा कि इस मांग को लेकर आगामी क्षेत्र पंचायत तथा जिला पंचायत की बैठक में प्रस्ताव पास कर प्रदेश सरकार को भेजा जाएगा।
उन्होंने कहा कि वे इस मांग को हर मंच से उठाकर इसके लिए प्रदेश भर में सकारात्मक माहौल बनायेंगे।
उन्होंने कहा कि अगर प्रदेश सरकार ने इस मांग पर कोई विचार नहीं किया तो प्रदेश सरकार के मुख्यमंत्री एवं मंत्रियों को जगह – जगह पर जनता द्वारा घेराव कर समाज एवं राज्य हित के इस मामले को लटकाने पर सवाल पूछा जायेगा।

 

 

जिप सदस्य जगत मर्तोलिया ने किया राजकीय प्राथमिक विद्यालय दरांती का औचक निरीक्षण

मुनस्यारी, जिला पंचायत सदस्य जगत मर्तोलिया ने आज राजकीय प्राथमिक विद्यालय दरांती का औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान सीएल का प्रार्थना पत्र होने के बाद भी उपस्थिति पंजिका अंकित नहीं होने पर मर्तोलिया ने कड़ी आपत्ति जताई।अपने सामने मौजूद शिक्षक से सीएल उपस्थित पंजिका में अंकित करवाया।
जिला पंचायत सदस्य जगत मर्तोलिया ने अपने क्षेत्र भ्रमण के दौरान राजकीय प्राथमिक विद्यालय का निरीक्षण किया। अध्यापक उपस्थित पंजिका को देखा तो पता चला कि प्रभारी प्रधानाध्यापक रोशनी बरफाल सीएल लेकर अवकाश में थी, लेकिन उपस्थिति पंजिका में सीएल को चढ़ाया नहीं गया है। जिपं सदस्य मर्तोलिया ने विद्यालय में तैनात सहायक अध्यापक जगत सिंह से तत्काल अपने सामने उक्त शिक्षिका का सीएल उपस्थित पंजिका में दर्ज करवाया। जिला पंचायत सदस्य जगत मर्तोलिया ने निरीक्षण के दौरान खंड शिक्षा अधिकारी तथा न्याय पंचायत समन्वयक को फोन द्वारा बताया कि उनके क्षेत्र के 25 ग्राम पंचायतों में सीएल सहित अवकाश में रहने वाले शिक्षकों के अवकाश का पंजिका में दर्ज कराया जाना सुनिश्चित किया जाए।
उन्होंने कहा कि इस कार्य में किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। यह भी कहा कि शिकायत मिल रही है कि शिक्षक अवकाश की अर्जी छोड़कर चले जाते है। लौटने के बाद उपस्थित पंजिका में हस्ताक्षर कर रहे है। इस पर अंकुश लगाने के लिए आवश्यक है कि अवकाश का प्रार्थना पत्र आने के बाद अवकाश लेने की पहली तिथि को अवकाश चढ़ा कर उपस्थिति पंजिका की फोटो कॉपी नेटवर्किंग साइट्स पर मंगा ली जाए।
मर्तोलिया ने कहा कि इस कार्य में कोताही बरतने पर न्याय पंचायत समन्वयक तथा खंड शिक्षा अधिकारी के खिलाफ कार्यवाही की मांग की जायेगी।
निरीक्षण के दौरान सहायक अध्यापक जगत सिंह ने बताया कि स्कूल में पानी नहीं आ पा रहा है। जल संस्थान के अवर अभियंता को फोन करके पेयजल समस्या का समाधान करने के लिए जिपं सदस्य ने फोन किया।
विद्यालय में अध्ययनरत बच्चों से बातचीत की।