महिला सुरक्षा को लेकर मुख्यमंत्री योगी का नया ऐलान, यूपी में फिर से एंटी रोमियो स्कॉवड एक्टिव

लखनऊ, यूपी में मिशन शक्ति 2.0 की शुरुआत हो गई है, जिसके तहत बेटियों की सुरक्षा के लिए सभी स्कूल और कॉलेज के बाहर एंटी रोमियो स्कॉवड को तैनात किया जाएगा। साथ ही पुलिस की एक टीम बाजारों और भीड़ वाले इलाकों में पेट्रोलिंग करेगी। ताकी बाजारों में भीड़ का फायदा उठाकर किसी प्रकार की छेड़छाड़ न हो।

उत्तर प्रदेश में दोबोरा मुख्यमंत्री पद की कमान संभालते ही बुलडोजर बाबा के नाम से मशहूर योगी आदित्यनाथ हर दिन कोई न कोई बड़ा फैसला लेते नजर आ रहे हैं। अब सरकार ने यूपी में महिलाओं की सुरक्षा के लिए एंटी रोमियो स्कॉवड को फिर से सक्रिय बनाने का फैसला किया है। सीएम योगी ने लखनऊ में महिला सुरक्षा को लेकर हुई बैठक के बाद इस दस्ते को तैनात करने का आदेश दिया है। छेड़छाड़ की घटनाओं को रोकने के लिए सभी स्कूलों और कॉलेजों के बाहर एंटी रोमियो स्कॉवड की तैनाती होगी।

एंटी रोमियो स्कॉवड फिर से सक्रिय

आज से मिशन शक्ति 2.0 की शुरुआत हो गई है जिसके तहत बेटियों की सुरक्षा के लिए सभी स्कूल और कॉलेज के बाहर एंटी रोमियो स्कॉवड को तैनात किया जाएगा। साथ ही पुलिस की एक टीम बाजारों और भीड़ वाले इलाकों में पेट्रोलिंग करेगी। ताकी बाजारों में भीड़ का फायदा उठाकर किसी प्रकार की छेड़छाड़ न हो। सीएम योगी ने छेड़छाड़ की घटनाओं में पुलिस को सख्त कदम उठाने की हिदायत दे दी है। पेट्रोलिंग के लिए अलग-अलग टीमें बनाई गई हैं। हर जिले में ये आपको नजर आएंगे।

योगी सरकार ने अपने पहले कार्यकाल के दौरान एंटी रोमियो स्क्वॉड्स का गठन 22.03.2017 को किया था। एंटी रोमियो स्क्वॉड्स का गठन महिलाओं से छेड़छाड़, अभद्रता, महिलाओं और लड़कियों को अश्लील इशारे या फब्तियां कसने पर रोक लगाने के लिए किया गया था। जरूरत के हिसाब से जिला पुलिस एंटी रोमियो स्क्वॉड्स में पुलिसकर्मियों की नियुक्ति करती है। नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो के डेटा के मुताबिक 2017 में जब एंटी रोमियो स्क्वॉड बने थे तो महिलाओं के खिलाफ अपराध के 153 केस सामने आए थे। 2019 में ये आंकड़ा बढ़ कर 164 हो गया।
सीएम योगी ने उच्चाधिकारियों के साथ बैठक में पुलिस विभाग में 100 दिनों में कम से कम 10,000 पुलिसकर्मियों की भर्ती सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। इसके बाद गृह विभाग के बयान के अनुसार उत्तर प्रदेश शासन ने पुलिस विभाग की विभिन्न इकाइयों- साइबर क्राइम, फोंरेसिक साइंस, सोशल मीडिया, विशेष कार्यबल (एसटीएफ), आतंकवाद रोधी दस्ते (एटीएस)आदि के लिए लगभग 5381 सृजित पदों को भरने की मंजूरी प्रदान की गई है।