पुलिस कर्मियों का ग्रेड-पे 4600 करना, उक्रांद की जीत

पुलिस कर्मियों के ग्रेड-पे 4600 किये जाने पर उक्रांद ने जताई खुशी, कहा उक्रांद के दबाव में सरकार को पलटना पड़ा अपना फैसला

रुद्रप्रयाग, उत्तराखंड क्रान्ति दल ने पुलिस कर्मियों के ग्रेड- पे 4600 किये जाने पर खुशी ब्यक्त करते हुये इसे उक्रांद कीे अगुवाई में चल रहे आंदोलन की जीत बताया।
उक्रांद के केन्द्रीय प्रवक्ता देवेन्द्र चमोली ने कहा कि लम्बे समय से उक्रांद पुलिस कर्मियों के परिवार जनों के साथ कर्मियों के ग्रेड- पे समय सीमा में परिवर्तन किये जाने के अन्याय पूर्ण फैसले को लेकर आंदोलन रत था आखिरकार सरकार को पुलिस कर्मियों की न्यायोचित मॉग पर झुकना पड़ा व उक्रांद के दबाव में पुलिस कर्मियों की न्योचित मॉग को मानना पड़ा।
उक्रांद प्रवक्ता देवेन्द्र चमोली ने कहा कि यूकेडी पुलिस जवानों के ग्रेड पे की मांग को लेकर लम्बे समय से धरना प्रदर्शन कर रही थी और लगातार पुलिस जवानों की मांग को उठा रही थी । यूकेडी ने पुलिस ग्रेड पे की मांग को लेकर पुलिस जवानो के परिवारों के साथ धरना प्रदर्शन किया।  साथ ही पूर्व मे तीन दिन का उपवास भी किया।

यही नहीं पुलिस ग्रेड पे को लेकर मुख्यमंत्री आवास कूच के दौरान अप्रैल महीने में यूकेडी के कई नेताओं की गिरफ्तारी हुई । साथ ही सितंबर महीने में पुलिस जवानों के परिवारों के साथ धरना प्रदर्शन करते हुए यूकेडी नेताओं को गिरफ्तार किया गया।
उन्होंने कहा कि राज्य बनने के बाद उत्तराखंड पुलिस में सिपाहियों की पहली भर्ती 2001 में हुई थी।उस वक्त पदोन्नति के लिए तय समय सीमा आठ, 12 व 22 साल थी। जिसके साथ ही उनके ग्रेड- पे बड़ने का प्रवधान था 12 साल सेवा के बाद सिपाहियों का ग्रेड पे 4600 होना था लेकिन सरकार ने पुलिस कर्मियों के साथ अन्याय करते हुये इस समय सीमा में बदलाव कर दिया जिससे तय समय सीमा पर पुलिस कर्मी 4600 ग्रेड पे से वंचित रह गये थे। इसको लेकर उक्रांद व पुलिस कर्मियों के परिवार आंदोलन रत थे अब सरकार ने अपना अन्याय पूर्ण फैसला पलटा है।