महामारी के समय बाल अधिकारों की रक्षा : श्री सुमंत कर

लोगों ने लॉकडाउन के बाद अपना जीवन फिर से शुरू किया है, उन्हें नई वास्तविकताओं का सामना करना पड रहा है और अब उन्हें अपने जीने के तौर – तरीके और साधनों को बदलने की आवश्यकता महसूस हो रही है। विकास का क्षेत्र भी अलग नहीं है। विशेष रूप से, महामारी ने बच्चों, युवाओं, उनके परिवारों और समुदायों विशेषकर दुनिया भर में हाशिए पर पड़े लोगों की रक्षा करने और उन्हें स्वस्थ रखने की चुनौतियों को सामने लाया है। इस महामारी के कारण लाखों लोग बेघर हो गए और उनके पास कोई आजीविका नहीं है। उनके बच्चों का स्वास्थ्य और सुरक्षा खतरे में है। बच्चों के स्वास्थ्य, विकास और समग्र भलाई पर इसका लंबे समय तक प्रतिकूल प्रभाव रहने वाला है।

माता-पिता की देखभाल से वंचित या किसी एक को खोने के जोखिम वाले बच्चे सबसे प्रभावित लोगों में से हैं। यह चर्चा का विषय हो सकता है कि क्या वायरस बच्चों को वयस्कों की तरह ही गंभीर रूप से प्रभावित करता है, लेकिन यह निश्चित है कि बच्चे रोकथाम के उपायों से प्रतिकूल रूप से प्रभावित होते हैं। स्कूल बंद होने और उन्हें अलग- थलग रखने का मतलब है कि वे गुणवत्तापूर्ण शिक्षा से वंचित हैं, अन्य बच्चों के साथ बातचीत नहीं कर पा रहे हैं और खेल नहीं रहे हैं और वे बड़े पैमाने पर सामाजिक अलगाव का सामना कर रहे हैं। हालांकि यह चरण अधिकांश वयस्कों के लिए परेशानी भरा हो सकता है, लेकिन बच्चों के लिए तो यह हानिकारक है, जो अपने जीवन के शुरूआती चरण में ही हैं, और उन्हें शारीरिक, बौद्धिक और भावनात्मक कल्याण और विकास के अवसरों से वंचित होना पड रहा है। उनके अस्तित्व, विकासात्मक, संरक्षण और भागीदारी के अधिकार दांव पर हैं। कोविड-19 के प्रकोप और उसके बाद के समय में सभी बच्चों के अधिकारों की रक्षा, प्रोत्साहन आदि पर विचार किया जाना चाहिए।

सबसे संवेदनशील बच्चों में, जो विकास के एजेंडे में छूट जाते हैं, वे माता-पिता की देखभाल से वंचित बच्चे हैं। बाल अधिकारों पर संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन (यूएनसीआरसी) यह कहता है कि प्रत्येक बच्चे को एक परिवार पाने का अधिकार है और यह भी कि बच्चों को परिवार के माहौल में अपनी पूरी क्षमता विकसित करने का सबसे अच्छा मौका मिलता है। ʺमाता-पिता की देखभाल से वंचित बच्चोंʺ के लिए परिवार की तरह वैकल्पिक देखभाल मुहैया कराया जाना चाहिए जहां बच्चे के सबसे अच्छे हितों पर सबसे पहले विचार हो, गैर-भेदभाव के सिद्धांतों के साथ-साथ उनके अधिकारों की रक्षा हो।

इसलिए, माता-पिता की देखभाल से वंचित बच्चों के साथ-साथ उन बच्चों के कल्याण के लिए और अधिक विकासात्मक प्रयास किये जाने चाहिए, जिन्हें मातादृपिता के खाने का खतरा है। यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि अनावश्यक पारिवारिक अलगाव को रोकने के लिए बाल सुरक्षा की पहल की जाए। यह सामाजिक सुरक्षा सेवाएं प्रदान करके किया जा सकता है जो परिवारों की आय और उनकी देखभाल में मदद करते हैं। इस तरह की सेवाओं में शामिल हो सकते हैंरू नकदी हस्तांतरण कार्यक्रमों को लागू करना या संवर्धित करना, स्वास्थ्य, शिक्षा, विकलांगता सेवाओं तक पहुंच और प्रकोप के दौरान और बाद में आवासय भोजन, स्वच्छता वस्तुओं और किट, शिक्षा , खेल सामग्री उन तक सीधे पहुंचानाय डिजिटल दूरी को पाटने के लिए दूरस्थ शिक्षा के लिए कनेक्टिविटी पहुंच बढ़ाना, और पेरेंटिंग सहायता प्रदान करनाय और बच्चों और उनके परिवारों पर अलगाव के परिणामों को दूर करने के लिए मानसिक स्वास्थ्य और मनोसामाजिक सहायता तक पहुंच का विस्तार करना। और उन बच्चों के मामले में जो अपने परिवारों से अलग हो गए हैं, और अब माता-पिता की देखभाल से वंचित हैं, हमें अच्छी गुणवत्ता वाले वैकल्पिक देखभाल की गारंटी देनी चाहिए। उनके लिए एक सुरक्षित वातावरण का निर्माण करना चाहिए – एक ऐसी जगह जहां माता-पिता की देखभाल से वंचित बच्चे उसे ʺघरʺ कह सकें, जहां वे अपनी वास्तविक क्षमता प्राप्त करने के लिए आगे बढ़ सकें।

इसके अलावा, हमें उन सामाजिक कार्यकर्ताओं को नहीं भूलना चाहिए जो हमारे बच्चों और उनके परिवारों पर महामारी के प्रभाव को रोकने और कम करने में सबसे आगे हैं। सामाजिक कार्यकर्ताओं की भलाई, स्वास्थ्य, सुरक्षा, प्रशिक्षण, तैयारियों और श्रम अधिकारों को सुनिश्चित करने के लिए किसी भी संसाधन से समझौता नहीं किया जाना चाहिए ताकि वे अपना अमूल्य योगदान दे सकें।

कोविड-19 को कभी भी सभी बच्चों के अधिकारों, विशेष रूप से सबसे कमजोर बच्चों के अधिकारों के संरक्षण की अवहेलना या उपेक्षा के लिए कोई कारण या बहाने के रूप में उपयोग नहीं किया जाना चाहिए। बाल अधिकारों को बढ़ावा देना और उनकी रक्षा करना एक नैतिक दायित्व है। हम, समाज, सरकार, निजी क्षेत्र के साथ-साथ समुदायों को हर बच्चे को भविष्य बनाने, हर परिवार को मदद करने और हमारे समाज को मजबूत बनाने में मदद करने के लिए एक साथ आने की जरूरत है। महामारी के बाद हमारे जीवन को वापस पटरी पर लाने और एक बेहतर दुनिया का पुनः निर्माण करने पर विचार करते हुए, हम इस बारे में सोचें कि हमें संकट के इस समय में कैसे मजबूत होना चाहिए।

एसओएस चिल्ड्रेन्स विलेजेज ऑफ इंडिया माता-पिता की देखभाल से वंचित होने के जोखिम वाले बच्चों सहित सभी बच्चों के अधिकारों को सुरक्षित करने के लिए अपनी विशेषज्ञता को साझा करने और हम जो कर सकते हैं वह करने के लिए तैयार हैं। अब इस पर काम करने का समय आ गया है।

लेखक- श्री सुमंत कर ’ वरिष्ठ उप राष्ट्रीय निदेशक, एसओएस चिल्ड्रेन्स विलेजेज ऑफ इंडिया’