खास खबर : मुख्यमंत्री दरबार में पहुंचा अल्मोड़ा मेडिकल कालेज के प्राचार्य का मसला, मंत्री रेखा आर्य हैं नाराज

देहरादून, उत्तराखंड़ के अल्मोड़ा मेडिकल कालेज के प्राचार्य का मसला मुख्यमंत्री दरबार में पहुंच गया है। अल्मोड़ा जिले की कोविड प्रभारी मंत्री रेखा आर्य ने मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत को पत्र लिखकर मेडिकल कालेज के प्राचार्य को तत्काल हटाने का आग्रह किया है। प्राचार्य पर हाल में हुई कोविड की समीक्षा बैठक में प्रोटोकाल की अनदेखी करने का आरोप है।

महिला सशक्तीकरण एवं बाल विकास राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) रेखा आर्य के पास अल्मोड़ा जिले के कोविड प्रभारी मंत्री का दायित्व भी है। उन्होंने हाल में ही अल्मोड़ा जिले में कोविड की स्थिति और संभावित तीसरी लहर से निबटने की तैयारियों के मद्देनजर समीक्षा की थी। समीक्षा बैठक के दौरान अल्मोड़ा मेडिकल कालेज के प्राचार्य ने कोविड के संबंध में प्रस्तुतीकरण दिया था। आरोप है कि प्रस्तुतीकरण के दौरान उनके द्वारा न सिर्फ फोन काल रिसीव की गई ,बल्कि तीन मिनट तक बात की गई। इस पर मंत्री आर्य ने कड़ी नाराजगी जताई थी कि क्या प्राचार्य को प्रोटोकाल के बारे में जानकारी नहीं है।

मंत्री रेखा आर्य के मुताबिक मेडिकल कालेज के प्राचार्य का यह व्यवहार कर्मचारी आचरण नियमावली के विपरीत है। उन्होंने कहा कि मंत्री की मौजूदगी में जब कोविड जैसे गंभीर विषय पर प्रस्तुतीकरण दिया जा रहा हो, तब प्राचार्य डा रामगोपाल नौटियाल फोन पर बातचीत करते रहे। आर्य ने बताया कि उन्होंने मुख्यमंत्री को पत्र भेजकर वस्तुस्थिति से अवगत कराते हुए अल्मोड़ा मेडिकल कालेज के प्राचार्य को तत्काल हटाने का आग्रह किया है। इस संबंध में स्वास्थ्य सचिव को भी पत्र भेजा गया है। उन्होंने उम्मीद जताई कि मुख्यमंत्री इस प्रकरण में उचित कार्रवाई करेंगे।