आशा कार्यकर्ताओं का तहसील में धरना पांचवें दिन भी जारी, कांग्रेस ने दिया समर्थन

कोटद्वार, सरकारी कर्मचारी का दर्जा देने और न्यूनतम 21 हजार रुपये वेतन देने समेत 12 सूत्री मांगों को लेकर आशा कार्यकर्ताओं का तहसील में धरना प्रदर्शन शुक्रवार को पांचवें दिन भी जारी रहा। वहीं कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने आशा कार्यकर्ताओं की मांगों का समर्थन करते हुए उनके साथ धरना दिया।

तहसील में आयोजित सभा में यूनियन की दुगड्डा ब्लाक अध्यक्ष प्रभा चौधरी ने कहा कि वर्ष 2006 से कार्यरत आशाओं का वेतन अभी तक निर्धारित नहीं किया है, जिससे उन्हें आर्थिक संकट से जूझना पड़ रहा है। इस दौरान मांग पूरी होने तक आंदोलन को जारी रखने और सभी से एकजुट होकर 7 अगस्त को सचिवालय घेराव कार्यक्रम को सफल बनाने की अपील की गई। इस मौके पर जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष डॉ. चंद्रमोहन खर्कवाल, महावीर सिंह रावत, कृपाल सिंह नेगी ने धरना स्थल पर पहुंचकर आशा कार्यकर्ताओं की मांगों का समर्थन किया। धरना प्रदर्शन करने वालों में दुगड्डा ब्लाक की उपाध्यक्ष मीरा नेगी, रंजना कोटनाला, भागीरथी भंडारी, नीलम कुकरेती, प्रर्मिला गुसाईं, सुमित्रा भट्ट, माहेश्वरी देवी, तारा देवी, पूनम देवी, पदमा नेगी, दीपा रावत, मधु ममगाईं आदि शामिल रहे।

 

कोटद्वार : तहसील में राज्य सरकार के खिलाफ हुंकार भरती भोजन माताएं

कोटद्वार, मानदेय बढ़ाने का शासनादेश जारी करने के साथ ही आठ सूत्री मांगों को लेकर दुगड्डा ब्लाक की भोजन माताओं ने कोटद्वार तहसील में प्रदेश सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया। उन्होंने मांग नहीं मानने पर आंदोलन शुरू करने की चेतावनी दी।
सीटू से संबद्ध उत्तराखंड भोजन माता कामगार यूनियन से जुड़ी दुगड्डा ब्लाक की भोजन माताओं ने तहसील में प्रदर्शन किया। यूनियन की ब्लाक अध्यक्ष अनीता शर्मा ने कहा कि सरकार मध्याह्न भोजन योजना का निजीकरण करना चाहती है, जिसका पुरजोर विरोध किया जाएगा। कहा कि निजीकरण से सैकड़ों भोजन माताएं बेरोजगार हो जाएंगी। उन्होंने प्रदेश सरकार से भोजन माताओं को न्यूनतम वेतन देने, सामाजिक सुरक्षा देने, मध्याह्न भोजन योजना का निजीकरण नहीं करने, भोजन माताओं को चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी घोषित करने तक 18 हजार रुपये वेतन देने आदि की मांग की। प्रदर्शन करने वालों में गुड्डी देवी, रजनी देवी, पार्वती देवी, उर्मिला देवी, मंजू रावत, आशा देवी, मंजू देवी, पुष्पा देवी, सरोज देवी, पूजा देवी, बीना देवी, रेखा देवी, दीपा देवी, भागीरथी देवी, अनीता देवी, सुलोचना देवी, गीता देवी, सुमित्रा देवी, उर्मिला देवी आदि मौजूद थे।