साप्ताहिक बंदी पर प्रशासन की रही सख्ती, पुलिस रही मुस्तैद

देहरादून। रविवार बाजार बंदी को लेकर देहरादून जिला प्रशासन की ओर से उठाए गए सख्त कदम का असर पहले ही दिन नजर आने लगा। अति आवश्यक सेवाओं को छोड़कर तकरीबन सभी दुकानें बंद रही। डेयरी और सब्जियों की दुकान भी 10 बजे बाद बंद होने लगी। हालांकि, इस बीच कुछ जगह शराब की दुकानें और चिकन शॉप खुली नजर आई। वहीं, पुलिस की टीमें भी सुबह आठ बजे से सड़कों पर निकल आई।

इस दौरान थाना प्रभारियों ने अपने अपने क्षेत्र में चेकिंग अभियान चलाया। क्षेत्र में आवश्यक सेवाओं के अलावा जो भी दुकानें खुली थीं, उनके चालान किए गए। बाजारों में सड़क किनारे दुकान लगाने वालों और रेहड़ी वालों पर भी कार्रवाई की गई। बाजार में बिना मास्क घूमने वालों पर भी पुलिस ने कार्रवाई की। दून उद्योग व्यापार मंडल के अध्यक्ष विपिन नागलिया ने कहा कि कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम के लिए पूर्ण लॉकडाउन जरूरी है। उन्होंने कहा कि यह साप्ताहिक बंदी हर हफ्ते सख्ती से लागू होनी चाहिए।

वहीं, दून वैली महानगर उद्योग व्यापार मंडल के अध्यक्ष पंकज मैसोन ने साप्ताहिक बंदी का स्वागत किया है। उन्होंने कहा कि बड़े व्यापारिक प्रतिष्ठान व मॉल पर यह कठोरता से लागू होना चाहिए। शहर के आढ़त बाजार, सरमिमल बाजार, दर्शनी गेट, पलटन बाजार, झंडा बाजार,रामलीला बाजार, राजा मार्केट, सहारनपुर रोड आदि बाजार बंद हैं। प्रिंस चौक, राजपुर रोड, चकराता रोड, पटेलनगर, प्रेमनगर में सभी बाजार बंद है। दून महानगर व्यापार प्रकोष्ठ के अध्यक्ष सुनील बांगा ने कहा कि शराब के ठेके बंद करके बेहतर किया गया है। इसके लिए डीएम डॉ. आशीष कुमार श्रीवास्तव बधाई के पात्र हैं। देसी शराब की दुकान रही खुली : कोरोना वायरस संक्रमण को देखते हुए रविवार को बाजार बंदी के आदेश जारी किए गए। इस दौरान शराब के ठेके खोलने की भी मनाही रही। पर जिला प्रशासन के आदेश को ठेंगा दिखाते हुए पटेल नगर के पास स्थित एक देसी शराब की दुकान खुली हुई नजर आई। वहीं, एक जगह चिकन शॉप भी खुली रही।