छात्रा की मौत बनी मिस्ट्री : बच्ची को प्रताड़ित करने के आरोप में 2 शिक्षक गिरफ्तार

कल्लाकुरिची (तमिलनाडु), बच्चे बहुत नाजुक होते हैं। किशोर अवस्था में प्रवेश करने वाले बच्चों का मन काफी कोमल होता हैं और यदि उसे तकलीफ पहुंचती है तो बच्चे का मनोबल टूट जाता है। बच्चा ऐसे में कुछ भी कर सकता हैं। एक ऐसे ही आहत हुए मासूम ने दुनिया को जानने से पहले ही दुनिया से अलविदा कह दिया। कथित तौर पर कहा जा रहा है कल्लाकुरिची से करीब 15 किलोमीटर दूर चिन्नासेलम के कनियामूर इलाके के एक निजी आवासीय स्कूल में 12वीं कक्षा में पढ़ने वाली 17 वर्षीय लड़की 13 जुलाई को छात्रावास परिसर में मृत पाई गई थी। कल्लाकुरिची चेन्नई से लगभग 260 किलोमीटर दूर है। लड़की का कमरा छात्रावास की तीसरी मंजिल पर था। उसने ऊपरी मंजिल से कूदकर कथित तौर पर खुदकुशी कर ली थी। हालांकि, पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट से संकेत मिला है कि मौत से पहले लड़की को कई चोटें आई थीं। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। लड़की के माता-पिता, रिश्तेदार और पेरियानासलूर के लोग उसकी मौत के मामले में तरह-तरह की आशंकाएं जताते हुए न्याय की मांग को लेकर लगातार प्रदर्शन कर रहे हैं। कल्लाकुरिची और कुड्डालोर, दोनों जिलों में प्रदर्शन जारी है।

कल्लाकुरिची छात्रा की मौत मामले में दो शिक्षक गिरफ्तार

तमिलनाडु में कल्लाकुरिची के पास सोमवार को एक स्कूल के दो शिक्षकों को एक छात्रा की मौत के मामले में हिरासत में ले लिया गया। पुलिस अधिकारियों ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि 17 जुलाई को हुई हिंसक घटनाओं में शामिल होने और स्कूल में तोड़फोड़ करने के आरोप में करीब 300 लोगों को हिरासत में लिया जा चुका है और उनसे पूछताछ जारी है। अधिकारियों के मुताबिक, लड़की की मौत के सिलसिले में रविवार को 70 लोगों को हिरासत में लिया गया था, जबकि स्कूल प्रबंधन में वरिष्ठ पदों पर आसीन एक महिला समेत तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया था। छात्रा के परिवार ने गणित और रसायन शास्त्र पढ़ाने वाले दो शिक्षकों पर लड़की को पढ़ाई के नाम पर प्रताड़ित करने का आरोप लगाया है।

छात्रा की मौत बनीं मिस्ट्री!

10वीं क्लास की बच्ची की मौत की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में यह सामने आया है कि बच्ची जब तीसरी मंजिल से नीचे गिरी उससे पहले ही उसके शरीर पर चोट पहुंचाई गयी थी। बच्ची की एटोप्सी में सदमा लगना भी सामने आया हैं। ऐसे में परिवार का आरोप है कि उनकी बच्ची ने आत्महत्या नहीं बल्कि बच्ची की हत्या की गयी हैं। परिवार चाहता है कि इस मामले की जांच हत्या के एंगल से की जाए। परिवार ने एक बार फिर से पोस्टमार्ट और एटोप्सी जांच की मांग की है जिसके लिए उन्होंने कोर्ट का दरवाजा खटखटाया हैं।

मद्रास उच्च न्यायालय ने दूसरा शव परीक्षण करने का दिया आदेश

मद्रास उच्च न्यायालय ने सलेम जिले के कल्लाकुरिची में अपने स्कूल में दो शिक्षकों द्वारा कथित रूप से परेशान किए जाने के बाद खुद को मारने वाली लड़की की दूसरी बार शव परीक्षण का आदेश दिया है। अदालत ने आदेश दिया कि प्रक्रिया के दौरान लड़की के पिता को रहने दिया जाए। इस घटना ने जिले में हिंसक विरोध प्रदर्शन किया, जिसके बाद सलेम पुलिस को स्कूल और अन्य क्षेत्रों के आसपास भारी सुरक्षा तैनात करनी पड़ी। कई इलाकों में धारा 144 लगानी पड़ी। एचसी ने पुलिस को यह पता लगाने का भी आदेश दिया कि हिंसा किसने भड़काई।

तमिलनाडु के कल्लाकुरिची में कक्षा 12 के एक छात्र ने शिक्षकों द्वारा कथित प्रताड़ना के बाद आत्महत्या कर ली। मौत का कारण जैसा कि पहले शव परीक्षण में बताया गया है, कई चोटें और रक्तस्राव था। तमिलनाडु के सलेम जिले में 13 जुलाई को 12वीं कक्षा की छात्रा द्वारा अपने छात्रावास की इमारत से कूदने के बाद हिंसा भड़क गई थी। उसे कथित तौर पर एक शिक्षक द्वारा प्रताड़ित किया गया था। सोमवार को स्कूल की केमिस्ट्री की शिक्षिका हरिप्रिया और गणित की शिक्षिका कृतिका को गिरफ्तार किया गया. इससे पहले स्कूल के प्राचार्य और सचिव समेत तीन प्रबंधन अधिकारियों को गिरफ्तार किया गया था(साभार प्रभासाक्षी)।