1 घंटे के काम के मिल रहे हैं 1100 रुपये, फिर भी नहीं मिल रहे लोग

यूयॉर्क: पिछले 40 साल में ऐसा पहली बार हो रहा है कि फेमस बर्गर कंपनी मेकडॉनल्डस (McDonald’s) अमेरिका में कर्मचारियों की किल्लत से जूझ रही है. कंपनी की ओरेगोन (Oregon) स्थित फ्रेंचाइजी ने स्टाफ की कमी के चलते 14 से 15 साल के बच्चों की भर्ती शुरू कर दी है. हालांकि यह नियुक्तियां श्रम कानूनों के अंतर्गत ही हो रही हैं.

क्या है अमेरिका का कानून?

अमेरिकी कानून के हिसाब से 14 साल से ऊपर के किशोर खाद्य सेवाओं (Food Services) में नौकरी कर सकते हैं. हालांकि कानून में यह स्पष्ट लिखा है कि नौकरी देने वाली कंपनी को इतना ध्यान रखना होगा कि बच्चे के काम के घंटे इतने ज्यादा न हों कि उनका स्कूल प्रभावित होने लगे.

बढ़िया सैलरी कर रहे हैं ऑफर

कंपनी की फ्रेंचाइजी मेडफोर्ड रेस्त्रां के संचालक हीथर कैनेडी बताते हैं कि इसके पहले ऐसी स्थिति कभी नहीं देखी गई. कर्मचारियों को आकर्षित करने के लिए हमने सैलरी भी बढ़ाई है और न्यूनतम 1100 रुपये प्रति घंटे के हिसाब से सैलरी तय की है.

आकर्षक सैलरी पर भी नहीं मिल रहे लोग

चौंकाने वाली बात ये है कि न्यूनतम 1100 रुपये प्रति घंटे के सैलरी के बाद भी इस काम के लिए लोग रुचि नहीं दिखा रहे हैं. 16 साल तक के बच्चों के लिए अभी तक सिर्फ 25 आवेदन आए हैं. गौरतलब है कि 14 साल से ऊपर की सैलरी के लिए मेकडॉनल्डस के अलावा बर्गर किंग, वेंडी ने भी भर्तियां की थीं.