आरएलजी ने क्लीन टू ग्रीन ऑन व्हील्स लॉन्च किया

 वित्त वर्ष 2021-22 में पूरे भारत में 4 मिलियन लोगों तक पहुंचने का लक्ष्य
– अपनी तरह का एक एक जागरूकता कार्यक्रम –
– 110 सिटी और 300 टाउन कवर करने का लक्ष्य
– कॉर्पोरेट्स, आरडब्ल्यूए, थोक उपभोक्ता, डीलर / रिटेलर और स्कूल शामिल

 जम्मू: म्यूनिख-मुख्यालय स्थित रिवर्स लॉजिस्टिक्स ग्रुप (आर एल जी) की सहायक कंपनी – आरएलजी इंडिया, जो व्यापक रिवर्स लॉजिस्टिक्स समाधानों की अग्रणी वैश्विक सेवा प्रदाता कंपनी है, ने वित्त वर्ष 2021-22 के लिए कंपनी की अवेयरनेस और कलेक्शन स्ट्रेटेजी की घोषणा की है। यह क्लीन टू ग्रीनटीएम ऑन व्हील्स प्रोग्राम कंपनी के फ्लैगशिप कैंपेन क्लीन टू ग्रीनटीएम (सी2जी) के अंतर्गत है। यह प्रतिष्ठित जागरूकता कार्यक्रम न केवल दृष्टिकोण में, बल्कि कवरेज में भी अद्वितीय है ।

इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय (मेटी) के तत्वावधान में और डिजिटल इंडिया मूवमेंट के अनुरूप, क्लीन टू ग्रीनटीएम ऑन व्हील्स में नौ मिनी वाणिज्यिक वाहन (छोटा हाथी) दिखाई देंगे जो पूरे भारत में 100,000 किमी से अधिक के विस्तार को कवर करेंगे; अलग-अलग बीट प्लान के अनुरूप पूरे देश के 110 सिटी और 300 टाउन को समग्र रूप से कवर किया जायेगा । कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य स्कूल के छात्रों, निगमों, थोक उपभोक्ताओं, खुदरा विक्रेताओं, रेजिडेंट वेलफेयर एसोसिएशंस (आरडब्ल्यूए), डीलरों, अनौपचारिक क्षेत्र और हेल्थकेयर प्रदाताओं सहित विभिन्न दर्शकों तक पहुंचना है, और उन्हें ई कचरे से सम्बंधित क्या करना चाहिए और क्या नहीं, इस बारे में जागरुक करना है। क्लीन टू ग्रीनटीएम ऑन व्हील्स प्रोग्राम एन्ड-यूज़र्स के मध्य ऑर्गेनिक ई-वेस्ट कलेक्शन के उद्देश्य के उद्देश्य से जागरूकता फैलाएगा । इसका लक्ष्य 4000+ संग्रह कार्यक्रम गतिविधियों के अलावा कुल 326 स्कूलों, 188 आरडब्ल्यूए, 134 कार्यालय समूहों / थोक उपभोक्ताओं, 176 खुदरा विक्रेताओं, 156 अनौपचारिक क्षेत्रों, और 4 स्वास्थ्य सेवा शिविरों को जमीनी कार्यशालाओं के माध्यम से कवर करना है।
09 जुलाई, 2021 को जम्मू और कश्मीर प्रदूषण
नियंत्रण समिति, प्रवेश भवन, वन परिसर, ग्लैडनी,
नरवाल, परिवहन नगर, जम्मू, जम्मू और कश्मीर 180004
से कलेक्शन ड्राइव को रवाना किया गया।

इस कार्यक्रम के तहत, ई -वेस्ट सम्बन्धी और कंस्यूमर बिहैवियर को बदलने तथा सस्टेनेबल प्रैक्टिसेज के एडॉप्शन को प्रोत्साहित करने के लिए आरएलजी विभिन्न छात्रों और देश भर के स्कूलों को आमंत्रित करते हुए पैन इंडिया स्टूडेंट वीडियोग्राफी प्रतियोगिता का आयोजन करेगा। इसके तहत वर्तमान ई-कचरे की समस्या को उजागर करनेऔर उससे निपटने के लिए सर्वोत्तम सुझाव देने वाले विजेता वीडियो को स्वच्छ और ग्रीन ब्रांड वीडियो के रूप में वित्त वर्ष 2021-22 के लिए उपयोग किया जाएगा।
इलेक्ट्रॉनिक कचरे (ई-कचरे) में आमतौर पर त्याग किए गए सर्वर, कंप्यूटर मॉनिटर, मदरबोर्ड, प्रिंटर, मोबाइल फोन और चार्जर, कॉम्पैक्ट डिस्क, हेडफोन, टेलीविजन सेट, वॉशिंग मशीन, एयर कंडीशनर, रेफ्रिजरेटर वगैरह शामिल हैं। भारत वर्तमान में दुनिया में ई-कचरे का तीसरा सबसे बड़ा उत्पादक है।

मुख्य अतिथि,  सुरेश चुग (आईएफएस), अध्यक्ष, जम्मू और कश्मीर प्रदूषण नियंत्रण समिति, ने आरएलजी इंडिया को इस पहल के लिए बधाई दी और कार्यक्रम पर अपने विचार साझा करते हुए कहा, “यद्यपि तकनीकी प्रगति के कारण देश में विकास और विकास के अवसरों के नए और अनूठे दरवाजे खुल रहे हैं, तथापि अधिक निर्माण के कारण प्रत्येक व्यक्ति को इलेक्ट्रॉनिक्स के निपटान के लिए उपयुक्त तरीकों के प्रति सचेत होने की तत्काल आवश्यकता है। क्लीन टू ग्रीनटीएम ऑन व्हील्स लाखों भारतीयों तक पहुंचने का एक बेहतरीन अवसर है, जिससे प्रत्येक नागरिक को ई-वेस्ट डिस्पोजल, ई-वेस्ट कम करने, पुन: उपयोग, और रीसायकल करने के सही तरीकों के बारे में जागरूकता फैलाने, और एक स्वस्थ वातावरण बनाने के लिए एम्बेसडर बनाया जा सकता है ”।

सुश्री राधिका कालिया, एमडी, आरएलजी इंडिया ने उल्लेख किया, “एक कंपनी के रूप में, कोविड-19 महामारी द्वारा निर्मित विभिन्न बाधाओं के बावजूद हम देश में औपचारिक ई-कचरा प्रबंधन के लिए बुनियादी ढाँचे की स्थापना के अपने लक्ष्यों की दिशा में लगातार काम कर रहे हैं।” इस नवीनतम ई-कचरा जागरूकता कार्यक्रम के साथ, हम पूरे देश में ई-कचरे के उचित निपटान और रीसाइक्लिंग के तरीकों को अपनाने के महत्व के बारे में जागरूकता फैलाने की गति में तेजी ला रहे हैं। आरएलजी इंडिया में हमें विश्वास है कि क्लीन टू ग्रीनटीएम ऑन व्हील्स ई-वेस्ट-स्पेस में गेम-चेंजर होगा। ”
 विक्रम गुप्ता, एमडी, जेएंडके मिनरल्स लिमिटेड, भी इस अवसर पर उपस्थित रहे ।