Friday, July 19, 2024
HomeTrending Nowपहाड़ का दर्द : 98 वर्षीय बुजुर्ग को डंडी पर बैठाकर पैदल...

पहाड़ का दर्द : 98 वर्षीय बुजुर्ग को डंडी पर बैठाकर पैदल पहुंचाया अस्पताल

चमोली, राज्य बने दो दशक से ज्यादा समय बीत गया लेकिन मूलभूत सुविधाओं से गांव के लोग अभी में कौसों दूर हैं, 98 वर्षीय बुजुर्ग महिला की तबीयत बिगड़ने पर परिजनों ने बुजुर्ग को डंडी पर बैठाकर उपचार हेतु अस्पताल पहुँचाने का साहस दिखाया।
पहाडी दुर्गम इलाकों में जिंदगी के लिए जद्दोजहद अभी भी जारी है। चमोली जिले के मुसाउडियार गांव में सड़क न होने के कारण 98 वर्षीय शाखा देवी की तबीयत बिगड़ने पर परिजन उन्हें डंडी पर बैठाकर 3.5 किमी पैदल दूरी तय करके नैणी तक लेकर पहुंचे। जहां से बुजुर्ग को एंबुलेंस के जरिये अस्पताल पहुंचाया गया।
गांव में सड़क का अभाव होने के कारण परिजन उन्हें डंडी पर बैठाकर 3.5 किमी पैदल दूरी तय कर नैणी तक लेकर पहुंचे। इसके बाद उन्हें एंबुलेंस के जरिये अस्पताल पहुंचाया जा सका। प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र नारायणबगड़ में उपचार के बाद हालत में सुधार आने पर परिजन उन्हें इसी तरह से घर वापस लेकर आए।
सड़क की सुविधा नहीं मिलने के कारण गांव से लोग पलायन करने को मजबूर हैं। ग्राम पंचायत बूंगा का मुसाउडियार अनुसूचित जाति बाहुल्य गांव है। लेकिन गांव तक सड़क की सुविधा नहीं होने के कारण यहां के ग्रामीणों को रोज ही तमाम परेशानी उठानी पड़ती है। यहां सबसे ज्यादा दिक्कत गर्भवती महिलाओं, बुजुर्गों और बीमारों को अस्पताल पहुंचाने में होती है।
वर्ष 2016 में सरकार ने नैणी-मुसाउडियार-पटोडी़ मोटर मार्ग की स्वीकृति दी थी। लेकिन वन विभाग से लोनिवि को भूमि हस्तांतरित न हो पाने के कारण सड़क निर्माण कार्य शुरू नहीं हो पाया है।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments