Friday, July 19, 2024
HomeUncategorizedनाले का पानी महाकाली मंदिर परिसर में धुसा, मंदिर की बिल्डिंग पर...

नाले का पानी महाकाली मंदिर परिसर में धुसा, मंदिर की बिल्डिंग पर मंडराया खतरा

‘सचिव डा. सुनील अग्रवाल ने की स्थायी समाधान की मांग’

देहरादून, मानसून आते ही दून की सड़कें दुश्वारियों का सबब बनने लगी, बीते दो दिन की भारी बारिश ने जनपद के हर इलाके के लोग जलभराव से परेशान रहे | दून की व्यस्तम रोड न्यू कैंट रोड़ जिस रोड़ पर मुख्यमंत्री और राज्यपाल का निवास है इस मुख्य रोड पर महाकाली मंदिर स्थित है महाकाली मां मंदिर के सामने सड़क के दूसरी ओर सर्वे आफ इंडिया की बाउंड्री है न्यू कैंट रोड पर सर्वे आफ इंडिया की बाउंड्री के साइड एक नाले का निर्माण किया गया था नाले में न्यू कैंट रोड सर्वे आफ इंडिया कॉलोनी और सर्वे आफ इंडिया ऑफिस तीन तरफ का बारिश का पानी उक्त नाले में बहता है नाले का निकास सड़क के दूसरी ओर मंदिर के सामने के नाले में डाला गया है लेकिन यह मंदिर के सामने वाला नाला पिछले 2 साल से अधूरा पड़ा है जिसका निर्माण पूर्ण नहीं किया गया उक्त नाले में सामने वाले नाले का पानी और सड़क के इस और का पानी और बगल में स्थित सेंट्रियो माल का गंदा पानी आ रहा है जिसकी कोई निकासी की व्यवस्था नहीं है पूर्व में उक्त नाले की निकासी मंदिर के बगल में स्थित एक भूखंड से नाला निकालकर खाले में की जा रही थी उक्त भूखंड पर भूखंड स्वामी द्वारा निर्माण कर लिया गया और नाले को बंद कर दिया गया था अब बरसात में जब पानी का बहाव चौतरफा मंदिर के सामने वाले नाले में आया तो निकासी की कोई व्यवस्था न होने के कारण वह मंदिर के बगल वाले भूखंड के नाले में बहने लगा लेकिन क्योंकि भूखंड स्वामी द्वारा नाले का मुंह बंद कर दिया गया था तो नाले का पानी मंदिर परिसर में प्रवेश कर गया और मंदिर के हाल में रखी सभी वस्तुएं खराब हो गई और लगातार पानी बहने से मंदिर की बिल्डिंग को खतरा पैदा हो गया |
इस संबंध में क्षेत्रीय लोगों ने जिलाधिकारी से मुलाकात कर उनको समस्या से अवगत कराया गया उन्होंने त्वरित मुख्य नगर अधिकारी को आदेशित किया और फिर नगर निगम की टीम द्वारा पुराने अस्थाई नाले को जो मंदिर के बगल के भूखंड में पूर्व में प्रयोग हो रहा था उसका मुंह खोलकर पानी का बहाव करवाया जा रहा है जिससे मंदिर में पानी आने से तात्कालिक राहत मिली है इस पूरे प्रकरण में नाले का मुंह खुलवाने में निर्वतमान पार्षद भूपेंद्र कठैत, एवं सत्येंद्र नाथ का विशेष योगदान रहा भूपेंद्र कठैत एवं सत्येंद्र नाथ के प्रयासों और नगर निगम की टीम के कार्य से फिलहाल नाले का मुंह खुल चुका है और पानी का बहाव नाले में हो रहा है | क्षेत्र के सामाजिक कार्यकर्ता डा. सुनील अग्रवाल
सचिव मंदिर समिति महाकाली मां मंदिर न्यू कैंट रोड का कहना है कि यह तात्कालिक व्यवस्था है मुख्य प्रश्न यह है कि जब सड़क के दूसरी ओर नाले का निर्माण किया गया तो उसमें निकासी की व्यवस्था के बिना नाले का निर्माण करना अधिकारियों की कार्य क्षमता पर बहुत बड़ा प्रश्न चिन्ह है, उन्होंने ने कहा कि इसी प्रकार मंदिर के साइड वाली सड़क पर नाले का निर्माण 2 वर्ष से अधूरा है इसकी जिम्मेदारी आखिर कौन लेगा, वहीं बगल में स्थित सेंट्रियो माल से सुबह के वक्त लगातार गंदा पानी बहता है जिसके कारण मंदिर परिसर में लगातार बदबू चलती रहती है लेकिन इसकी कोई व्यवस्था न मॉल स्वामी द्वारा और न ही नगर निगम द्वारा की गई, डा. अग्रवाल ने कहा कि उक्त नालों के निर्माण में अधिकारियों की भूमिका एवं कार्य प्रणाली पर बहुत बड़ा प्रश्न चिन्ह है जिसका स्थाई समाधान आवश्यक है

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments