Friday, July 19, 2024
HomeUncategorizedखतरे की जद में पुल : हल्द्वानी-देहरादून हाईवे पर बने पुल के...

खतरे की जद में पुल : हल्द्वानी-देहरादून हाईवे पर बने पुल के दोनों पिलर हुए क्षतिग्रस्त

नैनीताल (कालाढूंगी), उत्तराखंड़ में अब मानसून ने अपनी घमक दे दी है, पिछले तीन दिनों से हो रही बारिश से के कुमाऊं मंड़ल के पुलों को खतरा पैदा हो गया है। शनिवार को भी कई जगहों पर पुल ढहने की खबर मिली है, वहीं, आज हल्द्वानी देहरादून हाईवे पर बना पुल भी खतरे की जद में है।
उत्तराखंड़ में चार दिन से लगातार हो रही बारिश से नदी-नाले, गधेरे उफान पर हैं। वहीं, कई पुलों पर भी खतरा पैदा हो गया है। रविवार को हल्द्वानी-देहरादून स्टेट हाईवे पर चकलुवा के पास बने पुल को भी खतरा पैदा हो गया है। पानी के तेज बहाव ने पुल के दोनों पिलर क्षतिग्रस्त हो गए हैं। ऐसे में यह पुल कभी भी ढह सकता है।
रामनगर -भतरौंजखान मार्ग पर मोहान स्थित पन्याली नाले में आए तेज बहाव के कारण इस पर बना पुल टूट गया। इससे भतरौंजखान, भिकियासैंण, रानीखेत के लिए आवाजाही बंद हो गई है। राहगीरों को चिमटाखाल, हरड़ा मार्ग से भेजा रहा है, वहीं, पिथौरागढ़ जिले में दारमा घाटी के माइग्रेशन ग्राम बोन को जोड़ने के लिए च्युति गधेरे में बना पुल भी बारिश की भेंट चढ़ गया है। इसके चलते गांव के 30 परिवारों का संपर्क मुख्य सड़क से कट गया है। तीजम और वतन तोक को जोड़ने वाला लकड़ी का पैदल पुल बह गया है। इससे 18 परिवारों का संपर्क कट गया है। उधर, चीन सीमा को जोड़ने वाला कैलाश मार्ग पर स्थित बैली ब्रिज भी खतरे की जद में है।

 

बारिश का कहर : भवाली-अल्मोड़ा हाइवे पर क्वारब के पास भूस्खलन, यातायात ठप

हल्द्वानी, प्रदेश कभी लगातार तो कभी रूक रूक कर बरस रही बारिश ने कहर बरपाया हुआ है। कुमाऊं मंडल के हल्द्वानी-भवाली-अल्मोड़ा हाइवे पर क्वारब के पास भूस्खलन आने से यातायात पूरी तरह से ठप हो गया है। खतरे को देखते हुए प्रशासन ने हाईवे पर यातायात बंद कर दिया है। देर रात से लगातार हो रही बारिश से खतरा बढ़ रहा है |
पिछले 24 घंटे से नैनीताल जिलों में हो रही मूसलाधार बारिश की वजह से लगातार पर्वतीय क्षेत्रों में भूस्खलन और मैदानी इलाकों में जल भराव और नदियों में जलस्तर बढ़ता जा रहा है। हल्द्वानी और उसके आसपास के इलाके में भी भारी बारिश से कई इलाके जलमग्न हो गए हैं तो कई मोहल्लों में पानी भर गया है।

पुलिस और प्रशासन लगातार रिस्पांस टीमों को अलर्ट मोड पर रखे हुए हैं। डीआईजी कुमाऊं डॉ योगेंद्र रावत का कहना है कि कुमाऊं मंडल के सभी जिलों में एसडीआरएफ और पुलिस को उपकरणों के साथ अलर्ट मोड पर रखा गया है। जहां से भी मदद के लिए बुलाया जा रहा है वहां तत्काल एसडीआरएफ की टीम पहुंच रही है।

जिले में 33 सड़कें बंद :

नैनीताल में भारी बारिश ने कहर मचाया हुआ है। बता दें भूस्खलन की वजह से पांच राज्य मार्ग समेत दो जिला मार्ग और 33 सड़कें बंद हैं। जिले में पिछले 24 घंटे में 134 एमएम बारिश रिकॉर्ड की गई है। वहीं हल्द्वानी में 118 एमएम बारिश रिकॉर्ड की गई है तो कोशियाकुटोली में 114 एमएम, धारी में 105 एमएम बारिश रिकॉर्ड की गई है। वहीं गौला, कोसी और नन्धौर नदी भी उफान पर चल रही है।

भारी बरसात के बीच गौला नदी में छोड़ा गया 20 हजार 7 सौ क्यूसेक पानी, प्रशासन पूरी तरह से अलर्ट

हल्द्वानी, हल्द्वानी में पिछले 24 घंटे से लगातार हो रही मूसलाधार बरसात की वजह से जहां एक और शहर के कई इलाकों में जल भराव की स्थिति पैदा हो रही है तो वही कुसुमखेड़ा चौराहे पर जल भराव होने के बाद मौके पर पहुंचे सिटी मजिस्ट्रेट AP बाजपेई और तहसीलदार सचिन कुमार ने लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों व टीम के साथ मिलकर जल भराव की स्थिति से निपटने के लिए पानी को डायवर्ट करने के निर्देश दिए हैं और मौके पर ही काम शुरू करवाया है।
उधर उप जिला अधिकारी परितोष वर्मा ने टीम सहित तीन पानी व अन्य जल भराव वाले इलाकों का स्थलीय निरीक्षण किया। साथ जल भराव के निकासी के लिए संबंधित विभागों काम करने के निर्देश दिए।
वहीं दूसरी तरफ पहाड़ों में हो रही लगातार बरसात की वजह से गौला बैराज से 20700 क्यूसेक पानी छोड़ा गया है। इसके साथ ही गौला नदी से सटे हुए शांतिपुरी इलाके तक लोगों को सतर्क रहने के निर्देश दिए गए हैं साथ ही संवेदनशील नदी किनारे रहने वाले लोगों को सुरक्षित स्थानों पर जाने के लिए कहा गया है।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments