Friday, July 19, 2024
HomeTrending Nowअग्निवीर भर्ती रैली शुरू : पहले दिन 70 फीसदी युवाओं ने दिखाया...

अग्निवीर भर्ती रैली शुरू : पहले दिन 70 फीसदी युवाओं ने दिखाया दमखम

कोटद्वार, कौड़िया स्थित विक्टोरिया क्राॅस गबर सिंह कैंप में रविवार से गढ़वाल मंडल के सात जिलों की अग्निवीर भर्ती रैली शुरू हो गई है। पहले दिन चमोली, देहरादून, हरिद्वार, पौड़ी, रुद्रप्रयाग, टिहरी और उत्तरकाशी के पंजीकृत 714 युवाओं में से 70 फीसदी युवाओं ने अपना दमखम दिखाया। दौड़ में सफल युवाओं को अगले चरण की जांच के लिए आगे बढ़ा दिया गया। देर शाम तक इन युवाओं की फिजिकल और शैक्षिक प्रमाणपत्रों की जांच की गई। भर्ती के लिए काशीरामपुर तल्ला में बनाए गए प्रवेश द्वार पर रात तीन बजे से युवाओं की लाइन लगनी शुरू हो गई थी।

सबसे पहले युवाओं के प्रवेश पत्र, आधार कार्ड की जांच की गई। इसके बाद प्रारंभिक ऊंचाई की जांच हुई। ऊंचाई में सही पाए जाने वाले युवा गबर सिंह कैंप के बलवीर सिंह स्टेडियम में दौड़ के लिए पहुंचे। समूह में युवाओं की दौड़ कराई गई। दौड़ में सफल युवाओं का देर शाम तक फिजिकल और शैक्षिक प्रमाणपत्रों की जांच की गई। रक्षा मंत्रालय के उत्तराखंड के जनसंपर्क अधिकारी लेफ्टिनेंट कर्नल मनीष श्रीवास्तव ने बताया कि पहले दिन 70 फीसदी युवाओं ने प्रतिभाग किया। सेना के अधिकारियों ने राष्ट्र की सेवा के प्रति युवा पीढ़ी के दृढ़ निश्चय की सराहना की। उन्होंने आगामी उम्मीदवारों को अपनी पहचान और पूर्ववृत्त के सत्यापन के लिए अपने आधार कार्ड को सक्रिय मोबाइल नंबरों से जोड़ने की सलाह दी है।

जिन लोगों का आधार सत्यापन नहीं हो सका है। उन्हें दस्तावेजी औपचारिकताएं पूरी करने के लिए 27 नवंबर तक का अतिरिक्त समय दिया गया है। कहा कि एआरओ लैंसडौन कार्यालय भरसक प्रयास कर रहा है कि केवल वास्तविक और योग्य उम्मीदवारों को ही देश के लिए अपनी सेवा प्रदान करने का अवसर मिल सके। 27 नवंबर को चमोली जनपद के 353, हरिद्वार के 228, रुद्रप्रयाग के 251, टिहरी के 290, उत्तरकाशी के 197 युवा कुल 1319 युवा प्रतिभाग करेंगे

 

किसान और मजदूर विरोधी नीतियों के खिलाफ संयुक्त किसान मोर्चा ने किया धरना प्रदर्शन

देहरादून, संयुक्त किसान मोर्चा की ओर से देहरादून में स्थित दीन दयाल पार्क में किसान और मजदूर विरोधी नीतियों के खिलाफ धरना प्रदर्शन किया गया। धरना प्रदर्शन के दौरान वक्ताओं ने चार श्रम कोड वापस लेने, ठेका प्रथा बन्द करने, पेट्रोल, रसोई गैस की कीमतें कम करने समेत अन्य मांगों को प्रमुखता से उठाया। सीटू के प्रांतीय सचिव लेखराज ने महापड़ाव को लेकर विस्तार से जानकारी दी। वक्ताओं ने मजदूरों और किसानों की मांगों को प्रमुखता के साथ उठाया। वक्ताओं ने स्मार्ट सिटी के कार्यों में लापरवाही का मुद्दा भी उठाया। संविधान दिवस के अवसर उपस्थित लोगों को पूर्व कैबिनेट मंत्री और इंटक के अध्यक्ष हीरा सिंह बिष्ट ने संविधान की रक्षा अगला की शपथ दिलाई। साथ ही सिलक्यारा मजदूरों को सुरक्षित बाहर निकालने और राज्य की सभी परियोजनाओं की समीक्षा की मांग गई |

इस तीन दिवसीय महापड़ाव में राज्यभर के मजदूर, किसान शामिल हो रहे हैं। इन्वेस्टर्स समिट को लेकर कहा कि इन्वेस्टर अपनी शर्तों पर पूंजी लगाएंगे। पिछले कुछ सालों से बाहरी कम्पनियों ऐप पर पढ़ें स्थानीय प्रशासन और स्थानीय निकाय और पंचायतें अधिकारविहिन हुई हैं। कार्यक्रम की अध्यक्षता सीटू के प्रांतीय सचिव से राजेन्द्र सिंह नेगी, महेन्द्र जखमोला, इंटक के एपी अमोली, बिरेन्द नेगी, एटक के अशोक शर्मा, समर भंडारी, किसान सभा के सुरेन्द्र सिंह सजवाण, एक्टू के केके बोरा, किसान एकता केंद्र के तेजेन्द्र आदि ने किया। इस दौरान किसान सभा केन्द्रीय नेता पुष्पेंद्र त्यागी, कर्मचारी नेता समदर्शी बड़थ्वाल, पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष शिवप्रसाद देवली, एसएस नेगी, नंदलाल शर्मा, अनिल कुमार, प्रवीण, एसएस त्यागी, जगदीश कडियाल आदि मौजूद थे।

 

कार्तिक पूर्णिमा पर गंगा में स्नान करने उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़, 365 दीपों की जोत जलाकर की चतुर्थी की पूजा

हरिद्वार, कार्तिक पूर्णिमा स्नान पर आज सोमवार को लाखों की संख्या में श्रद्धालु सुबह से ही गंगा स्नान कर पुण्य लाभ कमा रहे हैं। धर्मनगरी में एक दिन पहले ही होटल, लॉज और धर्मशाला पैक हो गए थे। रविवार सुबह भी लाखों की संख्या में लोगों ने गंगा स्नान कर पुण्य लाभ कमाया। शक्तिपीठों में सभी ने दर्शन किए और देर शाम आरती में शामिल होकर मां गंगा से मनोवांछित फल की कामना की। रविवार और सोमवार को अवकाश के चलते दिल्ली, हरियाणा, पश्चिमी उत्तर प्रदेश, हिमाचल और अन्य जगहों से लोग शनिवार शाम से ही हरिद्वार पहुंचने लगे थे।

इससे शहर के होटल, लॉज और धर्मशाला पैक हो गए हैं। रविवार सुबह ही गंंगा घाटों पर श्रद्धालुओं की भारी भीड़ पहुंच गई। सभी ने स्नान दान के साथ अनुष्ठान किए। हरकी पैड़ी पर देर शाम भारी भीड़ दिखी। गंगा आरती के समय घाट पर बैठने तक की जगह नहीं मिल पाई। अधिकांश श्रद्धालुओं ने ब्रिज और सड़क से ही भव्य आरती के दर्शन किए। गंगा स्नान कर श्रद्धालुओं ने शक्तिपीठ मनसा देवी, चंडी देवी ओर माया देवी मंदिर में दर्शन किए। दिव्य दर्शन के साथ ही श्रद्धालुओं ने गंगा तट पर 365 दीपों की जोत जलाकर चतुर्थी की पूजा की।

कार्तिक पूर्णिमा स्नान पर्व और सोमवार के कारण कनखल स्थित दक्ष मंदिर, विल्वकेश्वर मंदिर, नीलेश्वर महादेव मंदिर आदि जगहों पर मंदिर प्रबंधन और पुलिस-प्रशासन की ओर से विशेष व्यवस्था की गई है। दक्ष मंदिर के महंत व अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष श्रीमहंत रविंद्रपुर महाराज ने बताया कि मंदिर में किसी प्रकार की समस्या श्रद्धालुओं को नहीं होगी। गंगा स्नान के बाद बड़ी संख्या में लोग भगवान शिव का जलाभिषेक करेंगे।

कार्तिक पूर्णिमा स्नान को लेकर शहर को जाम से बचाने के लिए जहां रूट डायवर्जन किया गया है। वहीं, रविवार को ऋषिकुल आयुर्वेदिक कॉलेज परिसर में नोडल, जोनल और सेक्टर मजिस्ट्रेट की बैठक भी की गई। एसपी सिटी स्वतंत्र कुमार ने बताया कि हाईवे से वाहनों को सुचारू रखने के लिए विशेष निर्देश दिए गए हैं।

पर्व के चलते हरिद्वार में उमड़ी भीड़ से वाहनों का रेला लगा रहा। शहर की गलियां और कूंचे तक जाम की चपेट में आ गए। सबसे अधिक परेशानी नजीबाबाद हाईवे और चंडीघाट चौक से देहरादून मार्ग पर हुई। वाहनाें की लंबी कतार के चलते अधिकांश लोग परेशान दिखे। वाहन पूरे दिन रेंग-रेंगकर चलते रहे। चंडीघाट से होकर नजीबाबाद या उत्तर प्रदेश के अन्य शहरों को जाने वाले वाहनों को निकालने में पूरे दिन पुलिस को मशक्कत करनी पड़ी। वहीं, चंडी देवी दर्शन के लिए पहुंचे श्रद्धालुओं के वाहनों की मार्ग पर भरमार लगी रही।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments