चार स्कूली बच्चों को टक्कर मारने के बाद खाई में गिरा वाह

उत्तराखंड के उत्तरकाशी में चिन्यालीसौड़ ब्लॉक के गमरी पट्टी क्षेत्र में एक अनियंत्रित वाहन चार स्कूली बच्चों को टक्कर मारने के बाद खड्डे में जा गिरा। हादसे में घायल बच्चों व वाहन चालक को स्थानीय ग्रामीणों ने बचाकर नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र पहुंचाया, जहां उपचार के बाद गंभीर रूप से घायल दो बच्चों व वाहन चालक को हायर सेंटर देहरादून रेफर कर दिया गया। शुक्रवार सुबह करीब नौ बजे एक युवक अपनी कार से कोटधार गमरी से चिन्यालीसौड़ की तरफ आ रहा था। घोड़ाफाली (कोटधार बैंड) के निकट कार अनियंत्रित होकर सड़क किनारे चल रहे चार स्कूली बच्चों को टक्कर मारते हुए करीब 100 मीटर गहरे खड्ड में जा गिरी।

हादसे के तुरंत बाद आसपास मौजूद ग्रामीणों ने सभी घायलों को रेस्क्यू कर 108 आपात एंबुलेंस से चिन्यालीसौड़ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचाया। जहां गंभीर रूप से घायल छात्र राजेश राणा (10 वर्ष) पुत्र धर्म सिंह निवासी भड़कोट और उसके भाई केशव राणा (13 वर्ष) सहित वाहन चालक मोहित (19 वर्ष) पुत्र जगमोहन निवासी बादसी को हायर सेंटर देहरादून रेफर कर दिया गया।जबकि भड़कोट निवासी दो अन्य स्कूली बच्चों रवीना (15 वर्ष) पुत्री कमल सिंह राणा और लोकेंद्र सिंह (12 वर्ष) पुत्र सोबन सिंह की प्राथमिक उपचार के बाद हालत खतरे से बाहर बताई जा रही है।

क्षेत्र के जिला पंचायत सदस्य अरविंद लाल ने सीएचसी चिन्यालीसौड़ में व्याप्त अव्यवस्थाओं पर रोष जताया। उन्होंने कहा कि अस्पताल में चिकित्सकों का अभाव बना हुआ है। यहां तक कि घायलों को देहरादून रेफर कर भेजी गई एंबुलेंस में न कोई चिकित्सक था और न ही कोई अन्य चिकित्सा कर्मी।

सीएचसी में अल्ट्रासाउंड की सुविधा भी नहीं है। इस कारण हादसे आदि आपात स्थितियों में लोगों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। उन्होंने इस संबंध में डीएम को ज्ञापन देकर स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार की मांग की है।