शुद्ध पेयजल आपूर्ति के लिए जल संस्थान की कवायद शुरू

रुद्रप्रयाग। जिला मुख्यालय रुद्रप्रयाग की करीब 20 हजार आबादी को शुद्ध पेयजल आपूर्ति के लिए जल संस्थान ने कवायद शुरू कर दी है। जलसंस्थान द्वारा नगर के लिए जलापूर्ति वाली एकमात्र पुनाड़ गदेरा पेयजल योजना से अगले तीस वर्ष के लिए शुद्ध जलापूर्ति के लिए 5.12 एमएलडी क्षमता वाले फिल्टर का डिजायन तैयार किया जा रहा है। आने वाले कुछ समय में नगर क्षेत्र के लोगों को दूषित पानी की सप्लाई से हमेशा के लिए निजात मिल जाएगी। जलसंस्थान द्वारा नगर के लिए जलापूर्ति कर रही पुनाड़ गदेरा पेयजल और फिल्टर प्लांट को वर्ष 2050 तक बढ़ती आबादी के हिसाब से डिजायन तैयार किया जा रहा है। इसके तहत पांच किमी से लंबी पेयजल पाइप लाइन को भौगोलिक व वैज्ञानिक तकनीक से बेहतर किया जाएगा। वहीं, पेयजल योजना के स्रोत पर 5.12 एमएलडी (मिलियन लीटर प्रतिदिन) क्षमता वाला फिल्टर लगाया जाएगा। उच्च क्षमता वाले फिल्टर से 7 किमी क्षेत्र में फैले नगर की बीस हजार आबादी को प्रतिदिन 51 लाख 23 हजार 250 लीटर शुद्ध पेयजल सप्लाई होगा। उत्तराखंड पेयजल निगम द्वारा इस फिल्टर का निर्माण किया जाएगा, जिस पर सात करोड़ रुपये खर्च होने का अनुमान है। साथ ही चिह्नित स्थानों पर पांच लाख लीटर क्षमता वाले फिल्टर युक्त स्टोर टैंकों का निर्माण किया जाएगा, जिससे विषम परिस्थितियों में भी नगर में नियमित जलापूर्ति होती रहेगी।
पुनाड़ पेयजल योजना के पुनर्गठन के पहले फेज की स्वीकृति मिल चुकी है। साथ ही शुद्ध जलापूर्ति के लिए अगले तीस वर्षों तक सप्लाई को ध्यान में रखकर फिल्टर का डिजायन तैयार किया जा रहा है। सबकुछ ठीक रहा तो अगले दो वर्षों में नगर में पर्याप्त व शुद्ध जलापूर्ति होने लगेगी।

– संजय सिंह, अधिशासी अभियंता जलसंस्थान, रुद्रप्रयाग