उत्तराखंड के अनछुए प्राकृतिक साैंदर्य से भरपूर चित्रों की प्रदर्शनी देख पर्यटक रोमांचित

6

मसूरी(दीपक सक्सेना) । मालरोड स्थित गढवाल टैरेस के सभागार में उत्तराखंड पर्यटन से संबंधित चित्र प्रदर्शनी र्प्यटकों के आकर्षण का केंद्र बनी है। यहां के प्राकृतिक सौंदर्य, लोक संस्कृति, ताल, धार्मिक स्थल, सरोवर, एअर एडवंेचर, लैंड एडवेंचर, वाटर स्पोर्टस, पक्षी, फूल, ऐतिहासिक स्थल, वन्यजीव, हिमनद, हिम ऋंखला, गांव, आदि में हृदय स्पर्शी चित्र आदि देख अभीभूत हो रहे हैं।
गढवाल टैरेस पर पर्यटन विभाग के सेवानिवृत्त अधिकारी एमआई खान ने उत्तराखंड र्प्यटन नाम से प्रदर्शनी लगाई है। जिसे देख र्प्यटक खासे उत्साहित हैं। प्रर्दशनी में उत्तराखंड के हिमनदों, सरोवरो, तालबों, ताल, बुग्याल, कुंड, लोक संस्कृति, धार्मिक स्थल, जिसमें चारों धाम के अलावा पंच बद्री, पंच केदार, पंच प्रयाग, हेमकुंड, पिरान कलियर, जागेश्वर धाम, मंदिर समूह, यहां के पक्षी, पुष्प, पेंडों, सहित साहसिक र्प्यटन से जुडे एअर एंडवेंचर, वाटर ऐडवेंचर, लैंड एडवेंचर, गांवों सहित ऐसे अनछुए प्राकृतिक सौंदर्य से भरपूर स्थलों, हिमश्रृंखला, हिमनद आदि के अद्भुत चित्र देख मन रोमांचित हो रहे हैं। इस संबंध में प्रदर्शनी के संचालक एमआई खान ने बताया कि उत्तरांखड वास्तव में स्वर्ग है जिसे पहचानने की जरूरत है।

उन्होंने कहा कि यहां कई ऐसे प्राकृतिक व मन को रोमांचित करने वाले स्थल हैं जिनका आज तक प्रचार प्रसार नहीं है केवल चार धाम व मसूरी नैनीताल के अलावा किसी को अधिक कुछ पता नहीं है जबकि असली सौदर्य पहाड़ों पर छिपा है। जिसे देख ऐसा कोई प्रकृति प्रेमी नहीं होगा जिसका मन उद्वेलित न हो। उन्होंने बताया कि हिमालय की जितनी बड़ी ऋंखला यहां से दिखाई देती है ऐसी पूरे विश्व में कहीं नहीं हैं। फूलों की घाटी से भी अधिक सुंदर फूलों की कई घाटियां है लेकिन प्रचार प्रसार न होने के कारण वहां कोई नहीं जा पाता। कई मंदिर व मकान ऐसे है जिन्हें देख वास्तुविद भी आश्चर्य चकित रह जायं। उनका मकसद यह है कि प्रकृति प्रेमी इन स्थलों पर जायें व प्रकृति का वास्तव में आनंद लें इसमें रोजगार की भी अपार संभावनाएं हैं।

उन्होंने कहा कि इस प्रदर्शनी में गढवाल मंडल विकास निगम व उत्तराख्ंाड संस्कृति विभाग का सहयोग है। इस मौके पर भाजपा मंडल अध्यक्ष मोहन पेटवाल ने कहा कि वास्तव में जो चित्र यहां आकर देखे मन को अपार शांति मिली व सरकार से आग्रह है कि वह प्रकृति के इन अनछुए स्थलों को प्रचार प्रसार करंे ताकि इसका आनंद प्रकृति प्रेमी ले सकें। उन्होंने खान साहब के प्रयासों की सराहना की व कहा कि इससे निश्चित ही आने वाले समय में उत्तरांखड को लाभ मिलेगा।

 

जलसंस्थान कर्मचारी संघ चुनाव में रमेश शर्मा अध्यक्ष व भरत सिंह रौछेला महासचिव चुने गये
मसूरी(दीपक सक्सेना) । उत्तराखंड जल संस्थान कर्मचारी संघ मसूरी इकाई का वार्षिक सम्मेलन संपन्न हुआ जिसके बाद नई कार्यकारणी का निर्विरोध चुनाव किया गया जिसमें रमेश शर्मा अध्यक्ष एवं भरत सिंह रौंछेला महा सचिव चुने गये। इस मौके पर कर्मचारियों ने नई कार्यकारिणी को बधाई दी।


जल संस्थान परिसर में हुए वार्षिक सम्मेलन में वर्ष भर की गतिविधियों पर प्रकाश डाला गया वहीं आय व्यय का ब्योरा प्रस्तुत किया गया जिसे सर्व सम्मति से पास किया गया। सम्मेलन के बाद जल संस्थान के सहायक अभियंता टीएस रावत की देखरेख में नई कार्यकारणी निर्विरोध चुनी गई। जिसमें रमेश शर्मा दूसरी बार अध्यक्ष बनाये गये वहीं भरत सिंह रौंछेला लगातार दसवीं बार महासचिव चुने गये।

कार्यकारणी के अन्य पदों में प्रमोद कटियार उपाध्यक्ष, कुसुम जुगराण संयुक्त सचिव, धनपाल पंवार संगठन सचिव, महावीर प्रसाद नौटियाल कोषाध्यक्ष चुने गये वही कार्य समिति में भूपेंद्र सिंह, हर्षमणि, हिमांशु पंत, विजय ंिसंह, कृपाल सिंह, दल बहादुर, प्रेम लाल, नंद कुमार, सुंदर लाल, ममता रावत, मनीष कुमार व सतवीर चुने गये। अंत में नई कार्यकारणी ने सभी का आभार व्यक्त किया व कहा कि सभी पदाधिकारी कर्मचारी हितांे के लिए कार्य करते रहेंगे। इस मौके पर संघ के सदस्य मौजूद रहे।