वर्ष 2018-19 के लिए प्रमुख फसलों के उत्पादन का तीसरा अग्रिम अनुमान जारी

10

नईदिल्ली । कृषि, सहकारिता तथा किसान कल्याण विभाग ने आज 2018-19 के लिए प्रमुख फसलों के उत्पादन का तीसरा अग्रिम अनुमान जारी किया। विभिन्न फसलों के उत्पादन का मूल्यांकन राज्यों से प्राप्त फीडबैक पर आधारित है और अन्य स्रोतों से प्राप्त सूचना से इसे सत्यापित किया गया है। वर्ष 2005-06 से आगे के वर्षों के तुलनात्मक अनुमानों की तुलना में 2018-19 के लिए तीसरे अग्रिम अनुमानों के अनुसार विभिन्न फसलों के अनुमानित उत्पादन का ब्यौरा संलग्न है।

2018-19 के लिए तीसरे अग्रिम अनुमानों के अनुसार, देश में कुल खाद्यान्न उत्पादन 283.37 मिलियन टन अनुमानित है जो विगत पॉंच वर्षों (2013-14 से 2017-18) के औसत खाद्यान्न उत्पादन की तुलना में 17.62 मिलियन टन अधिक है।

2018-19 के दौरान चावल का कुल उत्पादन रिकार्ड 115.63 मिलियन टन अनुमानित है। चावल के उत्पादन में 2017-18 के 112.76 मिलियन टन उत्पादन की तुलना में 2.87 मिलियन टन की वृद्धि हुई है। यह विगत पांच वर्षों के औसत उत्पादन 107.80 मिलियन टन की तुलना में भी 7.83 मिलियन टन अधिक है।
गेहूँ का उत्पादन 101.20 मिलियन टन (रिकार्ड) अनुमानित है जो 2017-18 के दौरान प्राप्त 99.87 मिलियन टन गेहूँ उत्पादन की तुलना में 1.33 मिलियन टन अधिक है। इसके अलावा, 2018-19 के दौरान गेहूँ का उत्पादन विगत पांच वर्षों के औसत गेहूँ उत्पादन 94.61 मिलियन टन की तुलना में 6.59 मिलियन टन अधिक है।
पौष्टिक/मोटे अनाजों का उत्पादन 43.33 मिलियन टन अनुमानित है जो औसत उत्पादन की तुलना में मामूली रूप से 0.24 मिलियन टन अधिक है।

2018-19 के दौरान दलहनों का कुल उत्पादन 23.22 मिलियन टन तक अनुमानित है जो विगत पांच वर्षों के औसत उत्पादन 20.26 मिलियन टन की तुलना में 2.96 मिलियन टन अधिक है।
2018-19 के दौरान देश में तिलहनों का कुल उत्पादन 31.42 मिलियन टन अनुमानित है। 2018-19 के दौरान तिलहनों का उत्पादन विगत पांच वर्षों के औसत तिलहन उत्पादन की तुलना में 1.77 मिलियन टन अधिक है।
2017-18 की तुलना में 20.46 मिलियन टन की वृद्धि के साथ, 2018-19 के दौरान देश में गन्ने का कुल उत्पादन 400.37 मिलियन टन अनुमानित है। इसके अलावा, 2018-19 के दौरान गन्ने उत्पादन, विगत पांच वर्षों के औसत गन्ना उत्पादन 349.78 मिलियन टन की तुलना में भी 50.59 मिलियन टन अधिक है। कपास का उत्पादन 27.59 मिलियन गांठें (प्रति 170 कि0ग्रा0) अनुमानित है तथा पटसन एवं मेस्टा का उत्पादन 9.79 मिलियन गांठ (प्रति 180 कि.ग्रा.) अनुमानित है।