किसान आंदोलन के कारण जाम में फंसी बरातियों की बस, मुहूर्त निकलता देख पैदल मंडप के लिये निकला दूल्हा

मेरठः केंद्र सरकार के नए कृषि कानून के विरोध में देश के कई राज्यों के किसान राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के लिए रवाना हो चुके हैं। आज देर रात तक किसान दिल्ली में प्रवेश कर सकते हैं। किसानों को दिल्ली तक पहुंचने के लिए कई दिक्कतों का सामना करना पड़ा। वहीं दूसरी ओर किसानों के समर्थन में कई जगहों पर प्रदर्शन और चक्का जाम भी किए गए, जिसके चलते आम जनता को भी तकलीफ का सामना करना पड़ा। ऐसा ही एक मामला मेरठ से आया है, जहां बाराती गाड़ी जाम में फंस गई। इसके बाद दूल्हा अपने परिजनों के साथ पैदल ही निकल पड़ा।

 

मिली जानकारी के अनुसार बारातियों से भरी एक बस किसानों के आंदोलन के बीच फंस गई। बताया जा रहा है कि दिल्ली जा रहे किसानों के समर्थन में उत्तर प्रदेश के स्थानीय किसानों ने चक्का जाम कर दिया था। गाड़ी फंसी हुई थी और इधर शादी का मुहूर्त निकला जा रहा था। इसके बाद दूल्हे ने आव देखा न ताव परिजनों के साथ उतरकर पैदल ही शादी घर के लिए निकल पड़ा । बता दें, कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली में प्रदर्शन के लिए हजारों की संख्या में किसान गुरुवार से ही पंजाब और हरियाणा से निकले हुए हैं।

किसानों को दिल्ली में आने से रोका गया है। किसानों को बॉर्डर पर ही रोकने के लिए भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है। कई जगहों पर सीआरपीएफ की भी तैनाती की गई है। हरियाणा दिल्ली बॉर्डर पर कड़ी चेकिंग हो रही है। पंजाब हरियाणा बॉर्डर पर हजारों की संख्या में मौजूद किसानों की पुलिस से झड़प भी हुई। किसानों को रोकने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले दागे। कुछ जगहों पर लाठी भी चलानी पड़ी।