डॉक्टरों की दरियादिली, बच गयी नौ साल के बच्चे की जान

देहरादून। लॉकडाउन में कोरोना अस्पताल के डाक्टर योद्धाओं की तरह काम कर रहे हैं। उन पर ओपीडी एवं इमरजेंसी का दबाव है। इसी बीच शनिवार को तत्परता दिखाकर यहां के डाक्टरों ने एक नौ साल के बच्चे की जान बचाई। उसका अपने खर्चे पर सफल ऑपरेशन किया। प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक डा. बीसी रमोला ने बताया कि नौगांव उत्तरकाशी का एक नौ साल का बालक अस्पताल लाया गया। उसकी आंत फट गई थी, वह मरनासन्न स्थिति में था। परिवार की स्थिति बिल्कुल दयनीय है। वह दो दिन नौगांव एवं दो दिन पुरोला में भर्ती रहा। चिकित्सकों ने आपात बैठक की। अपने खर्चे पर ऑपरेशन करना तय किया। डा. राजीव टम्टा, डा. परमार्थ जोशी, डा. कुश एरन, डा. संजीव कटारिया की टीम ने ऑपरेशन किया। डॉ जेपी नौटियाल ने खून एवं डॉ मनोज उप्रेती ने अल्ट्रासाउंड कर स्थिति बताई। टीम में सिस्टर रोजी, मीनाक्षी, गीता, देवेंद्र और अशोक शामिल थे।