टिहरी : बेरोजगारों एवम् ग्रामीण क्षेत्रों की उपेक्षा बर्दाश्त नही, कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने तहसील परिसर में किया धरना प्रदर्शन,सौंपा ज्ञापन

घनसाली विधानसभा की तमाम समस्याओं को लेकर भिलंगना के पूर्व प्रमुख एवं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता धनीलाल शाह एवं पूर्व प्रमुख विजय गुनसोला के नेतृत्व में बड़ी संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने तहसील परिसर में धरना प्रदर्शन किया तथा तहसीलदार घनसाली को ज्ञापन सौंपा गया।

घनसाली को जिला बनाने, गंगी गेंवाली, पिनस्वाड़, मेड मारवाडी, मंदार, पिपोला, स्यूरी चुरेंडा सहित क्षेत्र के दूरदराज में गांवो को सड़क, स्वास्थ्य शिक्षा सुविधाओं सहित मोबाइल व इंटरनेट सेवा के लिए टावर लगाने की भी मांग गई है। इसके साथ ही युवाओं को रोज़गार एवम् भिलंगना विकास खंड के महसर ताल, सहस्र ताल, राज्य आंदोलन का मुख्य केंद्र खैट, गुरु माणिकनाथ, विश्वनाथ जगदीशिला, पँवाली कांठा, खतलिंग आदि धार्मिक एवं साहसिक पर्यटक केन्द्रों को विकसित करने तथा भिलंगना क्षेत्र के पौराणिक चारधाम यात्रा मार्गों को मोटर मार्गों में तब्दील कर उत्तरकाशी टिहरी और रुद्रप्रयाग तीनों जिलों को मोटर मार्ग से जोड़ने सहित विभिन्न मांगों को लेकर आज तहसील परिसर घनसाली में कांग्रेस कार्यकर्ताओं के द्वारा धरना दिया गया।

इस मौके पर राज्य आंदोलनकारी व पूर्व प्रमुख धनीलाल शाह ने कार्यकर्ताओं को संबोधित कर सरकार को चेतावनी देते हुए कहा है कि, क्षेत्र के युवाओं, बेरोजगारों तथा ग्रामीणों की उपेक्षा किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं की जाएगी। कहा कि घनसाली विधानसभा क्षेत्र बुनियादी जन समस्याओं का निस्तारण नहीं किया जा रहा है, जिससे क्षेत्र की जनता में भारी आक्रोश है और ऐसे में क्षेत्र की जनता की आवाज को सरकार और शासन तक पहुंचाने के लिए कांग्रेस पार्टी को आंदोलन करने के लिए बाध्य होना पड़ा है।

शाह ने कहा कि वैश्विक महामारी कोरोना के चलते सरकार एक ओर स्वरोजगार हेतु ऋण देने की बात करती है वहीं दूसरी ओर बैंकों के द्वारा ऋण की वसूली हेतु आरसी काटी काटी जा रही है।

पूर्व प्रमुख विजय गुनसोला जिला पंचायत सदस्य आनंद व्यास राज्य आंदोलनकारी मंच के प्रदेश उपाध्यक्ष अब्बल सिंह रावत ने सरकार पर आरोप लगाया है कि युवाओं को ऋण देने के लिए बैंकों का ढुलमुल रवैया है। ऐसे में सरकार रोजगार और स्वरोजगार के लिए लोक लुभावनी घोषणाएं भले ही कर रही है लेकिन बैंकों की मनमानी और कई तरह की अड़चनों के कारण क्षेत्र के बेरोजगार युवाओं को ऋण लेने में भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है और युवाओं को स्वरोजगार नहीं मिल पा रहा है।

कांग्रेस नेताओं ने घनसाली पेयजल निगम में ई टेंडरिंग के बावजूद भी निविदा आवंटन में धांधली, लाकडाउन अवधि में बिजली, पानी, स्कूल फीस माफ करने, क्षेत्र में कई लंबित व क्षतिग्रस्त सड़कों का निर्माण-डामरीकरण करने, उत्तराखंड के गांधी स्व. इंद्रमणि बडोनी जी के नाम से स्वीकृत आयुर्वेदिक पैरामेडिकल कालेज अखोड़ी का निर्माण करने, आईटीआई लाटा को उच्चीकृत कर पोलिटेक्निक कालेज बनाने, भिलंगना विकास खंड के पुनर्गठन करने, घनसाली में राजकीय महाविद्यालय की स्थापना करने की मांग की है।

इसके साथ ही गंगी गेंवाली, पिनस्वाड़, मेड मारवाडी, निवालगांव, आगर तोली कोट गांव में मोबाइल टावर की स्थापना कर संचार सेवाओं में सुधार करने, कैलापीर को राजकीय मेले का दर्जा देने, स्वतंत्रता संग्राम सेनानी त्रेपन सिंह नेगी के नाम से चमियाला में मेडिकल कालेज की स्थापना, बालगंगा महाविद्यालय सेंदुल को भवन निर्माण के लिए पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत जी द्वारा 2 करोड़ की स्वीकृत राशि को अवमुक्त करने, घनसाली को जिला बनाने, घुत्तू पंवाली भिलंग रोपवे का निर्माण, घनसाली विधानसभा की प्रत्येक न्याय पंचायत क्षेत्र पर एक एक मिनी स्टेडियम बनाने और स्व. सते सिंह राणा के नाम पर नैलचामी में राजकीय इंजीनियरिंग कालेज की स्थापना, वहीं छतियारा सिंदूर ग्राम समूह पेयजल योजना एवं रानीगढ़ घनसाली पेयजल योजना से ग्रामीणों को शुद्ध पेयजल आपूर्ति करने की मांग की है