भारत मां के सच्चे सपूत थे स्वामी सत्यमित्रानंद महाराज: बेबी रानी मौर्य

156

हरिद्वार  (कुल भूषण शर्मा) श्रीमत्परमहंस परिव्राजकाचार्य क्षेत्रिय ब्रह्ानिष्ठ निवृत्त जगदगुरू शंकराचार्य पद्मभुषण पूज्यपाद गुरूदेव स्वामी सत्यमित्रानन्द गिरी महाराज का श्रद्धांजलि महोत्सव समारोह सप्तऋषि आश्रम मैदान मेे आयोजित किया गया। जिसमें अनेक राज्यो के राज्य पाल मुख्यमंत्री सामाजिक संस्थाओं अखाडो के महन्तो महामण्डलेश्वर साधू संतो द्वारा पुष्पांजलि अर्पित कर श्रदांजलि अर्पित की। श्रद्धांजलि महोत्सव समारोह की अध्यक्षता आचार्य महामंडलेश्र स्वामी गुरूशरणा नन्द महाराज तथा संचालन जूनापीठाधिश्वर आर्चाय महामंडलेश्वर स्वामी अवधेशानन्द द्वारा किया गया।इस अवसर पर राज्यपाल उत्तराखण्ड बेबी रानी मोर्य ने सादर नमन करते हुये श्रद्धांजलि अर्पित करते हुये कहा कि स्वामी सत्यमित्रानन्द गिरी महाराज माॅ भारती के सच्चे सपूत थे उनका सारा जीवन जनकल्याण को समर्पित था।

उनके बताये मार्ग पर चलना ही सच्ची श्रद्धाजंलि होगी तथा विधान सभा अध्यक्ष उत्तराखण्ड प्रेम चन्द्र अग्रवाल व गुजरात के अहमदाबाद स्थित दिव्य जीवन संस्कृृति संघ शिवानंद आश्रम से आयेे स्वमी अध्यात्मानंद महाराज ने भी श्रद्धांजलि अर्पित करते हुये अपने विचार रखें।

समारोह के अवसर पर समन्वय सेवा ट्रस्ट की और से शब्दोउपासना मेघदृतम पुस्तक का विमोचन भी किया गया। इस समारोह के अवसर पर मुख्यमंत्री उत्तराखण्ड त्रिवेन्द्र सिंह रावत द्वारा श्रद्धांजलि अर्पित करते हुये कहा कि स्वामी सत्यमित्रानन्द गिरी महाराज ने राष्ट्रदेव की भावना को सर्वोच्च माना और सभी महापुरूषों को भारत माता मन्दिर में स्थान दिया। वे आज हमारे बीच नही है लेकिन भारत माता मन्दिर के रूप मे सदैव हमारा मार्ग दर्शन करते रहेगे।
राष्टपति रामनाथ कोविन्द प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी लोक सभा अध्यक्ष ओम बिरला गृह मंत्री अमित शाह भारत रत्न स्वर साम्राज्ञी लता मंगेशकर द्वारा अपने पत्र के माध्यम से श्रद्धांजलि अर्पित की।

श्रद्धांजलि महोत्सव के अवसर पर वक्ताओं मे श्री लाल जी टण्डन राज्यपाल बिहारश्रीमती मृदुला सिन्हा राज्यपाल गोआ तथागत राय राज्यपाल मेघालय गंगा प्रसाद राज्यपाल सिक्किम श्रीमती द्रोपदी मृर्मू राज्यपाल झारखण्ड मनोहर लाल मुख्यमंत्री हरियाणा कैबिनैट शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत पूर्व मुख्यमंत्री मध्यप्रदेश शिवराज सिंह चैहान तथा 13 अखाडो के महामण्डलेश्र प्रमुख संत राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के संचालक मोहन भागवत शान्तिकुंज संस्थापन डा0 प्रणव पण्डया, योग गुरू बाबा रामदेव ब्रहमस्वरूप ब्रहमचारी आचार्य बालकृष्ण मुस्लिम सिक्ख समुदाय के धर्मगुरू तथा भारी संख्या में श्रद्धालू उपस्थित थे।