ठंड व पाले से झील जमी, पाला पड़ने से सड़कों पर फिसलन बढ़ी

79

मसूरी (दीपक सक्सेना)। पहाड़ों की रानी मसूरी में लगातार हो रही कड़ाके की सर्दी अब पाला पड़ने व उसके जमने से लोगों के लिए मुसीबत का सबब बनती जा रही है। अभी तक कई मार्गों पर पाले में दुपहिया व चार पहिया वाहन फिसल चुके है व उसके सवार चोटिल हो चुके हैं। मसूरी में इस बार लगातार कड़ाके की सर्दी पड़ रही है जिस कारण जन जीवन प्रभावित हो रहा है। कड़ाके की सर्दी में पाला पड़ने व उसके सड़कों पर जमने के कारण वाहन सवारों के साथ ही पैदल चलने वालों को भी खासी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

लंढौर के लाल टिब्बा क्षेत्र, जबरखेत व बाटागाड, महाराजा अग्रसेन चौक के समीप, कैम्पटी रोड, बार्लोगंज जाने वाले मार्ग पर डगलसडेल, नया टिहरी बस स्टैण्ड लंढौर आदि अन्य स्थानों पर भी पाला जमने से फिसलन बढ़ गई है व कई वाहन फिसल चुके हैं सबसे अधिक परेशानी दुपहिया वाहनों को हो रही है जिनके फिसलने से सवार चोटिल हो रहे है। कैम्पटी रोड पर जीरो प्वांइट से आगे तो वाहन ले जाना किसी खतरे से खाली नहीं है ऐसा ही हाल सुवाखोली थत्यूड मार्ग पर भी है जहां कई वाहन फिसल कर पलट चुके हैं।

इससे निपटने के लिए नगर पालिका ने ऐसे खतरनाक हो चुके मार्गों पर चूना डलवाया है ताकि इससे पाला पिघल सके व लोगों की परेशानी कम हो सके। वहीं दूसरी ओर ठंड का आलम यह है कि सुबह के समय पानी गिरते ही जमने लगा है। रात को जिस बर्तन में पानी खुला रहता है सुबह पानी जमा होता है। यहां तक कि कंपनी बाग की झील विगत दिनों से लगातार जम रही है। व कंपनी बाग में झील पर वोटिंग करने के लिए कर्मचारियों को हर रोज पाले को तोड़ना पड़ रहा है। विगत दिनों तो दिन में भी तापमान माइनस में रहा और रात्रि का तापमान माइनस छह डिग्री तक चला गया जिससे लोगों को खासी परेशानी हो रही है।