नोएडा को मिला दुनिया की सबसे बड़ी मोबाइल फैक्ट्री का तोहफा

47

दिल्ली से सटे नोएडा को दुनिया की सबसे बड़ी मोबाइल फैक्ट्री के तौर पर तोहफा मिला। भारत दौरे पर आए दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति और पीएम नरेंद्र मोदी ने मिलकर नोएडा के सेक्टर 81 में इस फैक्ट्री का उद्घाटन किया। 35 एकड़ में फैली इस मोबाइल फैक्ट्री में हर महीने 1 करोड़ मोबाइल फोन के निर्माण का लक्ष्य रखा गया है। सैमसंग की इस मोबाइल फैक्ट्री के बारे में आपको 10 खास बातें बताते हैं।

35 एकड़ में फैली फैक्ट्री में सैमसंग ने करीब पांच हजार करोड़ रुपए का निवेश किया है, हर महीने 1 करोड़ मोबाइल फोन के निर्माण का लक्ष्य. सैमसंग नोएडा में मोबाइल फोन निर्माण की अपनी वर्तमान क्षमता 6.8 करोड़ यूनिट सालाना को चरणबद्ध विस्‍तार से बढ़ाकर 12 करोड़ यूनिट करेगी

नई फैक्ट्री में न सिर्फ मोबाइल बल्कि सैमसंग के कंज्यूमर इलेक्ट्रॉनिक सामान जैसे रेफ्रिजरेटर और फ्लैट पैनल वाले टेलीविजन का उत्पादन भी दोगुना हो जाएगा. सैमसंग ने भारत में 1995 में अपना पहला प्लांट लगाया था। नोएडा से पहले श्रीपेरुंबदूर में प्लांट लगाया गया था। इसके अलावा देश में पांच आरएंडडी सेंटर हैं। देश में कंपनी के 1.5 लाख रिटेल आउटलेट हैं।