भीमताल : जंगल नहीं आबादी तक पहुँचाओं मार्ग, सड़क निर्माण के लिये 15 अगस्त से ग्रामीणों का लगातार धरना प्रदर्शन जारी

★ प्रधान प्रतिनिधि नरेश कुमार ने दी आत्मदाह की चेतावनी

(चंदन सिंह बिष्ट) ‘ भीमताल ढोलीगांव,
ओखलकांडा विकासखंड के दूरस्थ क्षेत्र कुकना काफली बजवालगांव कोटा पाली व अन्य गांवों के ग्रामीणों ने पजैना ,धैना ,लिंगरानी मार्ग को जंगल में छोड़े जाने को लेकर ग्रामीणों ने मंगलवार को विभाग के खिलाफ जबरदस्त नारेबाजी की । पजैना धैना लिंगरानी मोटर मार्ग को जंगल में नहीं छोड़ कर सड़क मार्ग को काफली कुकना बजवालगांव होते हुए देवली तक पहुंचाने की मांग को लेकर ग्रामीण 15 अगस्त से सांकेतिक धरना प्रदर्शन कर रहे हैं । वही मार्ग ने बदलने की दशा में प्रधान प्रतिनिधि नरेश कुमार ने ग्रामीणों के साथ जरूरत पड़ने पर आत्मदाह की भी चेतावनी दी । जिससे यह आंदोलन आगे तक चलने का संकेत दिया ।

★मोटर मार्ग को 4 किलोमीटर जंगल में छोड़ने से ग्रामीणों को नहीं होगा लाभ कई गांव होंगे मोटर मार्ग से वंचित

★कई दशकों से ग्रामीण कर रहे हैं रोड का इंतजार

मंगलवार को प्रधान प्रतिनिधि ने बताया कि 27 जुलाई को पीएमजीएसवाई के समक्ष अधिकारी सहायक अभियंता काठगोदाम के मौके पर पहुंचने पर सड़क का विरोध करते हुए ग्रामीणों ने ज्ञापन भी दिया था । साथ ही 29 जुलाई को अधिशासी अभियंता स्थाई खंड लोक निर्माण विभाग वाली को भी ग्रामीणों ने असहमति पत्र सौंपा था । 4 अगस्त को क्षेत्रवासियों द्वारा सड़क बनने का विरोध कर फिर से ज्ञापन सौंपा था पर आज तक कोई कार्यवाही नहीं हुई ।

“और वही पीएमजीएसवाई के उच्च अधिकारी मीना भट्ट का कहना है कि जिस दिशा में सर्वे हुआ है उसी ओर तक निर्माण कार्य किया जाएगा अब ग्रामीणों की मांग के अनुसार यह कार्य नहीं हो सकेगा। अगर यह विरोध प्रदर्शन जारी रहा तो उक्त कार्य को वही उसी स्थान पर रोक दिया जाएगा जहां पर वर्तमान समय में कार्य चल रहा है” ।
विरोध प्रदर्शन करने में सामाजिक कार्यकर्ता मदन सिंह नौलिया , प्रधान प्रतिनिधि नरेश कुमार ,प्रकाश सिंह नौलिया ,भानु प्रताप सिंह ,नरेंद्र सिंह मनोज सिंह ,भगवान सिंह ,निर्मला देवी