इलाहबाद बनेगा प्रागराज

36

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को कहा कि जल्द ही इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयागराज किए जाने का प्रयास चल रहा है. उन्होंने कहा, “मुझे लगता है कि राज्यपाल महोदय ने भी इस पर अपनी सहमति दी है. जब हम प्रयाग की बात करते हैं तो जहां दो नदियों का संगम होता है, वह अपने आप में एक प्रयाग हो जाता है. आपको उत्तराखंड में विष्णु प्रयाग, देव प्रयाग, रुद्र प्रयाग, देव प्रयाग, कर्ण प्रयाग देखने को मिलेंगे.”

मुख्यमंत्री ने कहा, “हिमालय से निकलने वाली दो देव तुल्य पवित्र नदियां- गंगा और यमुना का संगम इस पावन धरती पर होता है तो स्वभाविक तौर पर यह सभी प्रयागों का राजा है, इसलिए यह प्रयागराज कहलाता है। हमने उनकी इस बात का समर्थन किया है और हमारा प्रयास होगा कि बहुत जल्द हम इस नगर का नाम प्रयागराज करें.”

 

दो साल पहले हरियाणा के इस शहर का नाम गुड़गांव से गुरुग्राम कर दिया गया. आलोचकों का कहना है कि शहरों के नाम बदलने की यह कवायद संघ की उस सोच का हिस्‍सा है जिसके तहत स्‍थानों का नाम उनके अतीत और संस्‍कृति के आधार पर होना चाहिए. इसीलिए संघ पहले से ही कई शहरों को उनके ऐतिहासिक नामों से ही संबोधित करता है. आलोचक इसको ‘विदेशी’ प्रभाव के खात्‍मे और भारतीय इतिहास को नए सिरे से व्‍याख्‍यायित किए जाने के संदर्भ से भी जोड़कर देखते हैं.

2011 में मध्‍य प्रदेश की शिवराज सिंह चौहान सरकार ने राज्‍य की राजधानी भोपाल का नाम बदलकर भोजपाल करने का आग्रह केंद्र से किया था.

2011 में मध्‍य प्रदेश की शिवराज सिंह चौहान सरकार ने राज्‍य की राजधानी भोपाल का नाम बदलकर भोजपाल करने का आग्रह केंद्र से किया था. दरअसल उस साल राजा भोजपाल के सिंहासनारोहण के एक हजार साल पूरा होने के अवसर पर ऐसा किया किए जाने की मांग की गई थी. लेकिन कांग्रेस के नेतृत्‍व वाली तत्‍कालीन यूपीए सरकार ने इसकी सहमति नहीं दी थी.

हालांकि बीजेपी के नेतृत्‍व में एनडीए सरकार जब 2014 में सत्‍ता में आई तो उसके तत्‍काल बाद बंगलौर का नाम बेंगलुरू करने की औपचारिक सहमति दी गई. इसके साथ ही कर्नाटक के 11 शहरों के नाम भी बदले गए. एनडीए सरकार ने ही दिल्‍ली के औरंगजेब रोड का नाम बदलकर पूर्व राष्‍ट्रपति डॉएपीजे अब्‍दुल कलाम के नाम पर रख दिया.