अब लोन लेने में देरी न करें, बैंकों ने की ब्याज दरों में बड़ी कटौती

मुंबई. भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा रेपो रेट में कटौती के बाद कई बैंक लगातार अपने ब्याज दरों में कटौती कर रहे हैं. भारतीय स्टेट बैंक ने सबसे पहले रेपो रेट से जुड़े ब्याज दरों में कटौती का ऐलान किया था. अब इस क्रम में बैंक ऑफ महाराष्ट्र ने बयाज दरों में 0.75 प्रतिशत की कटौती करने की शनिवार को घोषणा की. बैंक ने कहा कि नयी दरें सात अप्रैल से प्रभावी होंगी.

बैंक ने एक बयान में कहा कि आवास, शिक्षा और वाहन समेत सभी खुदरा कर्ज तथा एमएसएमई कर्ज अब सस्ती दरों पर उपलब्ध होंगे. रिजर्व बैंक के द्वारा रेपो दर में 0.75 प्रतिशत की कटौती करने के बाद कई बैंकों ने ब्याज दरें कम की है.

बैंक ऑफ महाराष्ट्र ने कहा कि उसने सभी परिपक्वता अवधि के ऋण के लिये सीमांत लागत आधारित ब्याज दर (एमसीएलआर) में भी 0.25 प्रतिशत तक की कटौती की है. ये दरें भी सात अप्रैल से प्रभावी होंगी. बैंक ने कहा कि एक साल के लिये एमसीएलआर अब 8.25 प्रतिशत से कम होकर आठ प्रतिशत तथा छह महीने के लिये 7.90 प्रतिशत से घटकर 7.80 प्रतिशत हो गया है.

SBI ने कितनी कटौती की है
इसके अलावा RBI के ऐलान के तुरंत बाद SBI ने रेपो रेट में कटौती का फायदा अपने ग्राहकों को दिया. SBI ने एक्सटर्नल बेंचमार्क लेंडिंग रेट (EBR) और रेपो लिंक्ड लेंडिंग रेट (RLLR) में 0.75 फीसदी की कटौती की है. यह कटौती 1 अप्रैल 2020 से लागू होगी. इसके बाद अब SBI में EBR 7.80 फीसदी से घटकर 7.05 फीसदी सालाना हो गई है. RLLR 7.40 फीसदी से घटकर 6.65 फीसदी सालाना पर आ गई है.

बैंक ऑफ इंडिया ने भी कटौती की
बैंक ऑफ इंडिया (Bank of India) ने पिछले रविवार को अपने ग्राहकों को बड़ा तोहफा दिया है. बैंक ऑफ इंडिया ने रिजर्व बैंक (RBI) द्वारा नीतिगत ब्याज दरों में कटौती का पूरा लाभ ग्राहकों को देने का फैसला किया है. BOI ने रविवार को एक्सटर्नल बेंचमार्क लेंडिंग रेट्स में 75 बेसिस प्वाइंट्स यानी 0.75 फीसदी की कटौती की है.

इस कटौती के बाद एक्सटर्नल बेंचमार्क लेंडिंग रेट घटकर 7.25 फीसदी हो गया. लेंडर्स एक्सटर्नल बेंचमार्क लेंडिंग रेट RBI के रेपो रेट से लिंक्ड है. ब्याज दरों में यह कटौती 1 अप्रैल से प्रभावी होगी.