राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद द्वारा एजुकेशन पालिसी 2020 पर नेशनल वेबिनार का आयोजन

हरिद्वार 24 नवम्बर (कुल भूषण शर्मा) राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद की उत्तर क्षेत्रीय समिति, जयपुर (एनसीटीई-एनआरसी) द्वारा उत्तर क्षेत्र के सभी मान्यता प्राप्त शिक्षण संस्थाओं को एक मंच प्रदान करते हुए नेशनल एजूकेशन पालिसी-2020 मे तकनीकी समावेश के महत्व पर विशेषज्ञों के माध्यम से  नेशनल वेबिनार का आयोजन किया गया। एनसीटीई के अन्तर्गत ऐसे टीचर्स एजूकेशन संस्थान जहां बीएड, बीपीएड, एमएड, एमपीएड पाठयक्रम संचालित होते है तथा एनसीटीई से मान्यता है, को नेशनल एजूकेशन पालिसी मे तकनीकी ज्ञान की महत्ता तथा इसके उपयोग से शिक्षकों को आनलाईन शिक्षण व्यवस्था को ओर अधिक व्यवस्थित एवं छात्रों के अनुकूल बनाये जाने के लिए विचार-मंथन किया। इस नेशनल वेबिनार मे प्रतिभाग के लिए गुरूकुल कांगडी समविश्वविद्यालय को भी आमंत्रित किया गया। जिसमें शारीरिक शिक्षा एवं खेल विभाग के असिस्टेंट प्रोफेसर डा0 शिवकुमार चौहान ने विश्वविद्यालय के प्रतिनिधि के रूप में भाग लिया।

कार्यक्रम के स्वागत सम्बोधन मे उत्तर क्षेत्रीय समिति, एनसीटीई जयपुर के क्षेत्रीय निदेशक डा0 राममूर्ति मीणा ने कहा कि समय की प्रतिकूलता होने पर भी शिक्षण में आनलाईन व्यवस्था द्वारा अनेक मूनभूत सुधार हुये है। जिसका लाभ शिक्षकों एवं छात्रों दोनो को मिला रहा है। राजस्थान टेक्निकल विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो0 आर0ए0 गुप्ता ने आमंत्रित स्पीकर के तौर पर कहा कि तकनीक के उपयोग ने जीवन की जटिल दिखने वाली चुनौतिया को व्यक्ति के अनुरूप बदलकर सरलता एवं सहजता ढंग से प्रस्तुत करके मानव कल्याण का काम किया है।

कार्यक्रम को दिल्ली विश्वविद्यालय कम्पयूर विभागाध्यक्ष डा0 पवित्रा भारद्वाज, गुरू नानक देव वि0वि0 के शिक्षा संकाय के डीन प्रो0 अमित कूटस ने भी उपस्थित शिक्षकों का मार्गदर्शन करते हुए शिक्षा व्यवस्था के तकनीकी समावेश पर जोर दिया। ओपन डिस्कसन मे भाग लेते हुए गुरूकुल कांगडी (समविश्वविद्यालय) के प्रतिनिधि डा0 शिवकुमार चौहान ने बी0पी0एड0 तथा एम0पी0एड0 पाठयक्रम की प्रयोगात्मक कक्षाओं जिनमे टेक एण्ड फिल्ड तथा गेम्स एण्ड स्पोटर्स की कक्षाएं सम्मिलित है, के सुचारू संचालन पर विशेषज्ञ प्रो0 अमित कूटस से प्रश्न किया गया।

जिसके प्रतिउत्तर में क्षेत्रीय निदेशक डा0 राममूर्ति मीणा ने आश्वस्त करते हुए कहा की एनसीटीई की एक टीम इस पर एक कार्य योजना तैयार कर रही है। जिसके क्रियान्वयन को सभी शिक्षण संस्थाओं को पत्र द्वारा अलग से सूचित किया जायेगा।  कार्यक्रम मे डा0 आर0के0 शुक्ला सहित शिक्षाविद् तथा शिक्षक उपस्थित रहे। अतिथियों का धन्यवाद ज्ञापन आयोजन समिति के चैयरमेन प्रो0 बनवारी लाल द्वारा किया गया।