नगर के कुडा उठाने वाली कम्पनी की उदासिनता के चलते नगर में बना संक्रमण रोगो के फैलने का भय

हरिद्वार ( कुल भूषण शर्मा) ।  तीर्थ नगरी हरिद्वार में नगर के विभिन्न क्षेत्रो में लगे कुडे के ढेरो को समय से उठाये जाने की व्यवस्था नही होने के चलते नगर में संक्रमण रोगो के फैलने का अंदेषा बना हुआ है। नगर में मुख्य प्रमुख तीर्थ यात्रियो के स्थलो कुषाघाट सब्जी मण्डी रेलवे स्टेषन रोडीबेलवाला सहित विभिन्न आवसीय क्षेत्रो में नगर निगम के कर्मचारियों द्वारा कुडे को निधार्रित स्थान पर एकत्रित करने का काम अपने कर्मचारियो द्वारा कराया जाता है। वही नगर के विभिन्न क्षेत्रो से कुडे को उठाकर लेने का दायित्व नगर निगम द्वारा नीजी कम्पनी से अनुबन्ध कर उसे दिया गया है। जिसके लिए मिली जानकारी के अनुसार नगर निगम द्वारा कम्पनी को प्रतिटन 334 रूपये की दर से भुगतान किया जाता है। सूत्रो के अनुसार मिली जानकारी के चलते नगर के विभिन्न क्षेत्रो से प्रतिदिन लगभग 273 टन कुडा कम्पनी के कर्मचारियो द्वारा नगर के विभिन्न क्षेत्रो से उठाये जाने का दावा नगर निगम में प्रस्तुत कर प्रतिमाह निगम से भारीभरकम रकम का भुगतान लिया जा रहा है। इसके साथ ही नगर से कुडा उठाने के लिए नगर निगम द्वारा कम्पनी को अपने कुडा उठाने के लिए वाहन भी उपलब्घ कराये गये है।

नगर निगम के सम्बन्धित विभाग का कहना है की उनके कर्मचारियो द्वारा समय रहते नगर में सफाई के कार्य को सम्पन्न किया जा रहा है। परन्तु कम्पनी के उदसीनता के रवैये के चलते नगर में विभिन्न स्थलो पर से कुडा उठवाये जाने के लिए निगम के कर्मचारियो व अधिकारियो द्वारा कम्पनी के कर्मचारियो को निर्देष दिये जाते है वही इस कम्पनी के कर्मचारी ने अपना नाम न छापने के अनुरोध पर बताया की कम्पनी द्वारा उन्ही प्रायप्त मात्रा में कुढा उठाने के लिए वाहन उपलब्ध नही कराने तथा व्यापक क्षेत्र देने के चलते कुडा उठाने के काम में दिन में काफी समय लगना सामान्य बात है।

ऐसे में लाखो रूपये प्रतिमाह नगर निगम द्वारा दिये जाने के बाद भी नगर में विभिन्न सार्वजनिक स्थलो से कुडा उठाने का काम दिन भर चलता है। साथ ही जिलाधिकारी के निर्देष देने के बाद भी कुडे को बिना ढके नगर के बीच से व गली महोल्लो से प्रायः दोपहर के समय ले जाया जाता है। ऐसे में नगर में संक्रमण रोगो के फैलने का अंदेषा बना हुुआ है। जिस तरफ कम्पनी के कर्मचारियो द्वारा उदासीनता का रवैया अपनाया जाना सीधे सीधे नगर की जनता के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड है।

ऐसे में जहा एक तरफ समय रहते कुडा नही उठने से जहा सार्वजनिक क्षेत्रो में कुडा दिन निकलने के काफी समय बाद तक उठाया जाता है। जिससे ़ विभिन्न क्षेत्रो में गन्दगी के ढेरो से उठने वाली बदबू से लोगो का क्षेत्रो में निकलना मुष्किल होजाता है। वही जिलाधिकारी द्वारा नगर में चलाये जा रहे सफाई अभियान को कम्पनी द्वारा लगातार पलीता लगाने का काम किया जा रहा है।