नवरात्रि साधना का महापर्व: ओ0पी0 शर्मा

हरिद्वार अक्टूबर 29 (कुल भूषण शर्मा) शारदीय नवरात्रि आज से प्रारंभ हो गयी है। गंगा की गोद में बसे विश्व प्रसिद्ध गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में उपासना के महापर्व हेतु देश-विदेश से हजारों साधक पहुँचे। इस बार नवरात्र में कई योग एक साथ बने हैं। ऐसे में तीर्थ नगरी हरिद्वार के गंगा तट में साधना कर साधक अपनी मनोकामना पूर्ण करने के लिए पहुँचे हैं। नौ दिन तक चलने वाले इस प्रायश्चित पर्व में साधक २४ हजार गायत्री मंत्र की उपासना के साथ व्यक्तित्व परिष्कार के विभिन्न आध्यात्मिक आयामों को अपने जीवन में उतारेंगे। नवरात्र के प्रथम दिन की शुरुआत ध्यान साधना से हुई।

व्यवस्थापक शिवप्रसाद मिश्र ने साधकों को नवरात्र अनुष्ठान के संकल्प के साथ साधना की पृष्ठभूमि से अवगत कराया। प्रथम दिन साधकों ने अपनी दिनचर्या की शुरुआत ध्यान-साधना के साथ हवन से किया। पश्चात् उन्होंने अपनी साधना प्रारंभ की। वहीं शांतिकुंज के मुख्य सभागार में आयोजित सत्संग में साधकों को संबोधित करते हुए डॉ ओपी शर्मा ने कहा कि नवरात्र साधना का महापर्व है।

इन नौ दिनों में मनोयोगपूर्वक की साधना से सिद्धि की प्राप्ति होती है और साधना से शुद्धि भी मिलती है। साधना एक तपश्चर्या है, जिसके बहुत सारे आयाम हैं लेकिन सभी आयामों का लक्ष्य एक है-शुद्धि प्रदान करना परिष्कृत करना। प्राप्त जानकारी के अनुसार शांतिकुंज में नवरात्र अनुष्ठान में साधकों की दिनचर्या में त्रिकाल संध्या का विशेष क्रम जोड़ा गया है। इसके अंतर्गत प्रातः दोपहर व सायं को एक-एक घंटा समय निर्धारित किया गया है। जिसमें प्रायः सभी साधक सामूहिक रूप से साधना करते हैं।
वहीं दूसरी ओर विश्व प्रसिद्ध नवचेतना के उद्घोषक व देवसंस्कृति विवि के कुलाधिपति डॉ. प्रणव पण्ड्या विवि के युवाओं को नौ दिन तक मृत्युंजय सभागार में आयोजित होने वाली विशेष साधना व स्वाध्याय की कक्षा को संबोधित करेंगे।

 

शौर्य डोभाल आज गुरूकुल कॉंगड़ी विश्वविद्यालय में

हरिद्वार सितम्बर 29 (कुल भूशण षर्मा) इंडिया फाउंडेशन के संस्थापक व डारेक्टर तथा जाने माने वित्तीय सलाहाकार समाजसेवी षौर्य डोभाल आज 30 सितम्बर को गुरूकुल कंागडी विष्वविद्यालय में इंडिया 2050 विष्व गुरू भारत (भारत की आर्थिक स्थिति राश्ट्रीय सुरक्षा षिक्षा नीति राश्ट्रीय नेतृत्व और हमारा भविश्य) विशय पर आयोजित वार्त्ता पर अपना व्याख्यान देगें।
यह जानकारी विष्वविद्वालय के कुलसचिव प्रो0दिनेश भटट ने दी। विदित हो की षौर्य डोभाल भारतीय राश्ट्रीय सुरक्षा सलाहाकार अजीत डोभाल के पुत्र है। उनके इस व्याख्यान को लेकर विष्वविद्यालय के छात्रो तथा षिक्षको व कर्मचारियो में उत्सुकता का महौल है।