लॉकडाउन के दौरान अभिनव प्रयोग, जाड़ी और सहयोगी संगठन रबी सीजन फसलों की उपलब्धता कर रहा सुनिश्चित

उत्तरकाशी, कोरोना संक्रमण पूरे देश के साथ उत्तराखंड़ में अपने पैर पसार रहा है, जहां इस वैश्विक आपदा में हर कोई कुछ ना कुछ प्रयास कर रहा है वहीं आपदा प्रबंधन जन मंच उत्तरकाशी के सहयोगी संगठन जाड़ी संस्थान, रिलायंस फाउंडेशन, रेणुका समिति, भुनेश्वरी महिला आश्रम द्वारा भी समाज में निरंतर जागरूकता , जरूरतमंदों को राशन , सरकार के साथ गांव स्तर के मुद्दों की पैरवी का कार्य किया जा रहा है। इस क्रम में इन सहयोगी संगठनों द्वारा एक अभिनव प्रयोग किया गया, जिसमें गांव में रबी के सीजन में तैयार मटर को बाजार के साथ जोड़ने का था ताकि उपभोक्ताओं को ताजी सब्जी की उपलब्धता हो और साथ ही किसानों को उनकी फसल का उचित मूल्य प्राप्त हो सके।

.

Posted by Rakesh Kumar on Tuesday, April 7, 2020

रणनीति बनाई गई, संगठन के सदस्यों ने खेत से लेेकर उपभोक्ता तक पहुंचने की योजना पर तुरंत कार्य सुरु किया। मुख्य विकास अधिकारी, निम, आईटीबीपी, कलेक्टरेट एवम् सब्जी मंडी में संपर्क किया गया। परिणाम स्वरूप एक गांव से शुरु हुए इस प्रयोग में आज डूंडा ब्लॉक के 10 गांव के लगभग 40 किसान जुड़ चुके हैं और लगभग 35 कुंतल मटर के बाजारीकरण से किसानों को लगभग 115000 की धनराशि प्रदान की जा चुकी है। किसानों ने बताया कि इस मुसीबत के समय ये धनराशि उनके लिए बहुत मददगार साबित होगी। संगठन के अध्यक्ष द्वारिका प्रसाद सेमवाल ने बताया कि अभी हम इस प्रयास को तब तक जारी रखेंगे जब तक किसानों की समस्त बाजार योग्य फसल की बिक्री ना हो जाए।
इस प्रयास में रेणुका समिति के संदीप उनियाल, रिलायंस फाउंडेशन के कमलेश गुरुरानी, jaadi समिति के द्वारिका सेमवाल, राखी राणा, रमेश चमोली , पालीवाल मुख्य भूमिका निभा रहे हैं।