किच्छा : तिरंगे में लिपटकर घर पहुंचा शहीद जवान का शव, अंतिम सलामी के बाद जवान के शव को किया सुपुर्दे खाक

किच्छा, जनपद यूएस नगर के आईटीबीपी के 54 वर्षीय जवान जमीर अहमद का शव लेकर सेना की गाड़ी सोमवार देर रात को उनके घर उत्तराखंड के किच्छा पहुंची तो परिजनों में कोहराम मच गया। तिरंगे में लिपटे ताबूत से लिपटकर परिजन बिलखते रहे। पार्थिव देह के साथ आए आईटीबीपी के अधिकारियों ने जवान की टोपी मृतक के पुत्र सनाउल मुस्तफा को सौंपी।

शहीद जवान जमीर अहमद की कैप जब उनके पुत्र सनाउल को सौंपी गई तो सनाउल बिलख-बिलख कर रो पड़े। बाद में सनाउल काफी देर तक अपने पिता की कैप को चूम-चूम कर रोते रहे, देर रात सैकड़ों की संख्या में उमड़ी भीड़ ने जवान के अंतिम दर्शन कर श्रद्धांजलि दी। कब्रिस्तान में हल्दूचौड़ से आई आईटीबीपी की टीम ने जवान को अंतिम सलामी दी। देर रात ही जवान के शव को सुपुर्दे खाक कर दिया गया। जमीर अहमद मूल रूप से बरेली के रहने वाले थे।