अच्छी गुणवता के साथ स्वरोजगार शुरू करनें के लिए प्रशिक्षित होना जरूरी- मुख्य विकास अधिकारी

(देवेन्द्र चमोली)
रुद्रप्रयाग-भारतीय स्टेट बैंक ग्रामीण स्वरोजगार प्रशिक्षण संस्थान (आरसेटी) द्वारा जनपद के बेरोजगार तथा कोरोना काल मे घर आये प्रवासी बेरोजगारों को 13 दिवसीय उद्यमिता विकास प्रशिक्षण की शुरूवात की गयी है। कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य विकास अधिकारी मनविन्द्र कौर द्वारा किया गया। उन्होंने कहा कि गुणवत्ता के साथ स्वरोजगार शूरु करने के लिये ब्यक्ति का प्रशिक्षित होना अति आवश्यक है। उन्होंने कहा कि वर्तमान में कोविड़ 19 से जिन लोगों का रोजगार प्रभावित हुआ है जनपद में आये ऐसे सभी प्रवासी बेरोजगार अपनी रूचि के अनुसार स्वयं का व्यवसाय का चयन करें तथा सरकार द्वारा चलायी जा रही योजनाओं का लाभ उठायें। साथ उन्होनें कहा की उद्यमिता विकास प्रशिक्षण के दौरान भी उन्हें स्वरोजगार से जुड़ी कई अहम जानकारियां प्राप्त होंगी जिसके बाद वह आसानी से अपना व्यवसाय चयन कर सकते। है। इस अवसर एच0सी0हटवाल महाप्रबन्धक जिला उद्योग केंद्र द्वारा प्रशिक्षण ले रहे युवाओं को स्वरोजगार की जानकारी देते हुए पी0एम0ई0जी0पी0, एवं मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजनओं के बारे में जानकारी दी। आरसेटी निदेशक विनोद कुमार गुप्ता द्वारा प्रशिक्षार्णियों को प्रशिक्षण के फायदे बताते हुए कहा कि जनपद में स्वरोजगार की अपार सम्भावनायें हैं साथ उन्होनें कहा कि प्रशिक्षण में शामिल प्रत्येत सदस्य मन लगाकर प्रशिक्षण लें। उन्होने कहा कि पहाड़ में युवा कृषि, उद्यान एवं पशुपालन,फूड़ ,प्रोसेसिंग युनिट, जैविक कृषि, जड़ी बुटी, आदि के जरिये अच्छी आमदनी कर सकते है।,इस अवसर पर सूचनाधिकारी ज्योति सुन्दिरियाल, आरसेटी के प्रशिक्षक वीरेन्द्र बर्तवाल, भूपेन्द्र रावत, सहित प्रशिक्षण ले रहे मुकेश सिंह,चन्द्र मोहन, सज्जन सिंह, अंजू, अनुप,महेश,राजेन्द्र, राहुल,अमित आदि प्रशिक्षणार्थी मौजूद थे।