एलओसी पर पाक के साथ व्यापार स्थगित, भारत ने कहा- इस रास्ते का गलत इस्तेमाल हो रहा

21

भारत सरकार ने गुरुवार को पाकिस्तान के साथ जम्मू-कश्मीर में सीमा पार व्यापार स्थगित करने का निर्णय लिया है। सरकार को लगातार ऐसी सूचनाएं मिल रही थीं कि पाक के द्वारा इस रूट का इस्तेमाल भारत में हथियार, नकली मुद्रा और नशीली दवाओं को भेजने के लिए किया जाता है। इसके मद्देनजर यह कदम उठाया गया। गृह मंत्रालय के द्वारा जारी किए गए नोटिस में कहा गया कि जम्मू-कश्मीर में 19 अप्रैल से सरहद पार व्यापार नहीं किया जाएगा।

रिपोर्ट के मुताबिक व्यापार फिर शुरू किया जा सकता है। जम्मू-कश्मीर सीमा पर होने वाले व्यापार के जरिए सामान्य उपयोग की चीजों-उत्पादों का आदान-प्रदान होता है। सप्ताह में चार दिन होने वाला यह व्यापार बार्टर सिस्टम और जीरो ड्यूटी पर आधारित है। व्यापार के दो केंद्र हैं। इनमें बारामूला के उरी और सलामाबाद, पूंछ का चक्कन-दा-बाग शामिल है।

हालांकि रिपोर्ट्स में बताया गया कि सीमा पर होने वाले व्यापार का रूप अब बदल चुका है। अब इसके जरिए विदेशी वस्तुओं के साथ ही कुछ और क्षेत्रों से आने वाले उत्पाद भी इस व्यापार का हिस्सा बन चुके हैं। देशविरोधी ताकतें इस रास्ते का उपयोग हवाला के पैसे, हथियार और दवाओं को सरहद पार भेजने में कर रहे हैं।

पुलवामा हमले के बाद भारत सरकार ने पाकिस्तान से एमएफएन का दर्जा वापस ले लिया था। इस दौरान भी सरकार को व्यापार के जरिए अनैतिक गतिविधियों के संचालन की सूचनाएं मिल रही थीं। इसी के मद्देनजर सरकार ने तत्काल प्रभाव से जम्मू-कश्मीर में मौजूद सलामाबाद और चक्कन-दा-बाग से व्यापार को स्थगित कर दिया है।