पाक में भारतीय हाई कमीशन की इफ्तार पार्टी में मेहमानों के साथ बदसलूकी

14

रमजान के पाक महीने में पाकिस्तान ने एक बार फिर नापाक हरकत की है। दरअसल, यहां भारतीय उच्चायोग की इफ्तार पार्टी में आए मेहमानों के साथ पाकिस्तानी अधिकारियों ने बुरा बर्ताव किया। इफ्तार पार्टी शुरू होने से पहले जब मेहमान आने लगे तो उनके साथ बुरा व्यवहार किया गया और उन्हें डराया धमकाया गया।

इस्लामाबाद में भारतीय उच्चायोग की ओर से आयोजित इफ्तार पार्टी में आने वाले मेहमानों के साथ बदसलूकी किए जाने पर भारत ने कड़ा विरोध जताया है। रविवार को इफ्तार में आमंत्रित करीब 300 मेहमानों, पत्रकारों को पाकिस्तान  सुरक्षा एजेंसियों ने कार्यक्रम में शामिल होने आ रहे मेहमानों को वापस लौटा दिया। उनके साथ बदसलूकी भी गई थी।

भारतीय उच्चायुक्त अजय बिसारिया ने रविवार को बयान जारी कर कहा कि शानिवार को आयोजित इफ्तार में की गई बदसलूकी न केवल राजनयिक मर्यादाओं बल्कि सभ्य व्यवहार के भी खिलाफ है। भारतीय उच्चायोग के राजनयिकों को डरा और धमकाकर रोकना हमारे द्विपक्षीय रिश्तों के खिलाफ है। भारत ने मेहमानों को रोकने की घटना पर विरोध जताते हुए तुरंत जांच की मांग की है।
जबरन रोका

सुरक्षा के बहाने किया परेशान: भारतीय उच्चायुक्त अजय बिसारिया ने सेरेना होटल में वार्षिक इफ्तार कार्यक्रम का आयोजन किया था। इसमें पूरे पाकिस्तान से अतिथियों को आमंत्रित किया गया था, लेकिन सुरक्षा के नाम पर अधिकारियों ने मेहमानों से दुर्व्यवहार किया। कार्यक्रम में आमंत्रित पत्रकार मेहरीन जाहरा-मलिक ने ट्वीट किया, भारतीय उच्चायोग की ओर से आयोजित इफ्तार में पुलिस और आतंकवाद रोधी बल ने हर शख्स से बदसलूकी की। वहीं एक अन्य पत्रकार ने कहा कि प्रताड़ित करने की आशंका से वह पार्टी में शामिल नहीं हुए।

झूठ बोल मेहमानों को लौटाया : पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के वरिष्ठ नेता फरहतुल्ला बाबर ने कहा कि जब होटल पहुंचा तो मुझे बताया गया कि इफ्तार रद्द हो गया है। जब जोर देकर पूछा तो बताया गया कि मैं दूसरे गेट का इस्तेमाल करूं। दूसरा गेट बंद था और मुझे फिर सामने के गेट से जाने को कहा गया।

बिसारिया ने परेशानी के लिए जताया खेद : बिसारिया ने वहां मौजूद मेहमानों को अपने संबोधित करते हुए कहा कि मैं माफी चाहता हूं कि आपमें से कुछ लोगों को यहां बहुत कठिनाई हुई और हमारे कुछ दोस्त नहीं आ सके।

 

भारतीय उच्चायोग के मेहमानों से दुर्व्यवहार करना मूर्खता : उमर

नेशनल कांफ्रेंस (नेकां) के उपाध्यक्ष उमर अब्दुल्ला ने निंदा की है। रविवार को उमर ने कहा कि यह ‘जैसे को तैसा’ का समर्थन करने वाली मूर्खतापूर्ण कूटनीति का नतीजा है।  उमर ने ट्वीट किया, ‘जैसे को तैसा वाली मूर्खतापूर्ण कूटनीति। यह तब भी मूर्खतापूर्ण थी जब हमने नई दिल्ली में पाकिस्तानी उच्चायोग के बाहर ऐसा किया था। यह तब भी मूर्खतापूर्ण है जब इस्लामाबाद में हमारे उच्चायोग के बाहर ऐसा किया गया। हिसाब शायद एक-एक से बराबर हो गया। बहरहाल यह आगे बढ़ने का समय है और इस बकवास को बंद किया जाए।’