आर्थिक संकट से जूझ रहा पाकिस्तान को 42 हजार करोड़ देगा आइएमएफ

12

आर्थिक संकट से जूझ रहे पाकिस्तान को अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आइएमएफ) तीन साल में छह अरब डॉलर (लगभग 42 हजार करोड़ रुपये) की मदद देने जा रहा है। इस संबंध में रविवार को दोनों के बीच एक समझौता हुआ है।

डॉन न्यूज ने प्रधानमंत्री के वित्त, राजस्व और आर्थिक मामलों के सलाहकार डॉ. अब्दुल हफीज शेख के हवाले से बताया है कि स्टाफ स्तरीय इस समझौते को वाशिंगटन स्थित आइएमएफ के निदेशक मंडल से मंजूरी मिलनी बाकी है।

आइएमएफ के मुताबिक इस समझौते का उद्देश्य घरेलू और बाहरी असंतुलन को कम करने के साथ ही विकास में रुकावट को दूर करना, पारदर्शिता को बढ़ाना और सामाजिक खचरें में वृद्धि करके मजबूत और अधिक समावेशी विकास के लिए पाकिस्तान को तैयार करना है।

शेख ने सरकारी टेलीविजन को बताया कि तीन साल की अवधि में आइएमएफ यह धनराशि पाकिस्तान को देगा। यह समझौता 29 अप्रैल को शुरू हुई मैराथन वार्ता के बाद संभव हो सका है। पहले यह समझौता सात मई तक होने की उम्मीद थी, लेकिन बाद में इसे 10 मई तक टाल दिया गया था।

प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा आइएमएफ की कुछ कठोर शतरें पर आपत्ति जताने के चलते समझौते में और देरी हुई और अंत में यह रविवार को संभव हो सका।